ताज़ा खबर
 

Bihar Elections 2020: LJP पर नरम पड़े नरेंद्र मोदी, तो बोले उनके ‘हनुमान’ चिराग पासवान- आखिरी सांस तक नहीं छोड़ूंगा PM का साथ

शुक्रवार को बिहार में अपनी तीनों चुनावी रैलियों में से एक में भी पीएम मोदी ने चिराग पासवान का जिक्र नहीं किया।

बिहार की राजधानी पटना में Lok Janshakti Party (LJP) प्रमुख चिराग पासवान एक रोडशो के दौरान। (फाइल फोटोः PTI Photo)

खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान बताने वाले Lok Janshakti Party (LJP) चीफ चिराग पासवान ने शुक्रवार को कहा है कि वह भी आखिरी सांस तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का साथ नहीं छोड़ेंगे। गया में उन्होंने अंग्रेजी समाचार चैनल ‘NDTV’ को बताया, पीएम यहां आए और उन्होंने मेरे पिता को श्रद्धांजलि दी। यह बेटे के तौर पर मेरे लिए गर्व की बात है। पीएम ने जो शब्द इस्तेमाल किए – मेरे पिता की आखिरी सांस तक वह उनके साथ थे – इन शब्दों ने मुझे जज्बाती कर दिया। मैं भी वादा करता हूं कि मैं भी पीएम मोदी और उनके विश्वास के साथ अपनी अंतिम सांस तक खड़ा रहूंगा।

चिराग ने इसके अलावा ट्वीट कर कहा, “नरेंद्र मोदी बिहार आते हैं और पापा को एक सच्चे साथी के जैसे श्रद्धांजलि देते हैं। यह कहना की पापा की आख़री सांस तक वे साथ थे मुझे भावुक कर गया। एक बेटे के तौर पर स्वाभाविक है पापा के प्रति प्रधानमंत्री जी का यह स्नेह व सम्मान देख कर अच्छा लगा। प्रधानमंत्री जी का धन्यवाद।’’

दरअसल, मोदी ने बिहार चुनाव में NDA प्रत्याशियों के पक्ष में रोहतास जिला के डेहरी आन सोन में पहली चुनावी रैली की शुरुआत लोजपा संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और मुख्य विपक्षी पार्टी राजद के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए की थी।

अंग्रेजी साइट को लोजपा प्रमुख ने आगे बिहार सीएम पर हमला बोला और कहा- मैं नहीं कहूंगा कि मैं नीतीश कुमार को जेल भेजूंगा, पर अगर सत्ता में आया तब मैं उनकी ‘सात निश्चय’ योजना की जांच जरूर कराऊंगा। अगर उसमें कुछ गड़बड़ निकला या दोषी पाया गया, तब उसे जेल भेजा जाएगा। फिर चाहे ही वह सीएम क्यों न हो।

इससे पहले, नीतीश पर कटाक्ष करते हुए कहा था, ‘‘पीएम का बेसब्री से इंतजार कर रहे नीतीश कुमार का इंतजार आज खत्म हो जाएगा। अमित शाह के भी कह देने के बाद कि लोजपा बिहार चुनाव में राजग का हिस्सा नहीं है। नीतीश कुमार को तसल्ली नहीं हुई। अभी और प्रमाणपत्र चाहिए। पीएम नरेंद्र मोदी का स्वागत है।” चिराग ने इससे पहले कहा था कि प्रधानमंत्री गठबंधन धर्म निभा रहे हैं।

उन्होंने कहा था कि अपने पिछले पांच साल के शासनकाल के दौरान नीतीश ने क्या किया यह बात भी उन्हें बताना चाहिए। चिराग ने आरोप लगाया कि नीतीश की खुद की कोई उपलब्धि नहीं होने के कारण वह अपने राजनीतिक गुरु लालू प्रसाद यादव (प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी राजद के प्रमुख) के नाम का डर दिखा कर वोट लेना चाहते हैं।

चिराग, नीतीश के सात निश्चय कार्यक्रम को प्रदेश की पिछली महागठबंधन (जदयू-राजद-कांग्रेस) सरकार की योजना बताते इसमें भ्रष्टाचार होने का आरोप लगा चुके हैं। बता दें कि चिराग पूर्व में खुद को मोदी का हनुमान बता चुके हैं और कह चुके हैं वह उनके दिल में बसते हैं। उन्हें पीएम की तस्वीर की जरूरत नहीं है, जबकि शुक्रवार को बिहार में तीनों रैलियों में एक में भी पीएम मोदी ने चिराग का जिक्र नहीं किया।

Next Stories
1 Bihar Election: पीएम मोदी ने की रैली में खाली रहीं कुर्सियां, जोश भी नदारद; लोगों को ‘जंगलराज’ की याद दिला गए प्रधानमंत्री
2 Bihar Election 2020: M.SC की पढ़ाई बीच में ही छोड़ राजनीति में कूदे, हाल ही में कोरोना पॉजीटिव हुए सुशील मोदी का राजनीतिक सफर, पढ़ें
3 नीतीश की चाबी भाजपा के हाथ में है; बिहार की जनता जुमले नहीं विकास चाहती है- सरकार पर जमकर बरसे राहुल गांधी
ये पढ़ा क्या?
X