ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव: बोले नीतीश कुमार- एंटी इंकम्बेन्सी है तो अच्छा है, फुर्सत मिल जाए, अभी दिन-रात सेवा करते रहते हैं

सीएम नीतीश कुमार से सवाल किया गया तो उन्होंने हैरान करने वाला जवाब दिया। नीतीश कुमार ने कहा कि 'एंटी इंकम्बेंसी है तो अच्छा है, फुर्सत मिल जाए।'

बिहार चुनाव के लिए सासाराम में प्रचार करते सीएम नीतीश कुमार। (PTI Photo)

बिहार में इस बार सीएम नीतीश कुमार को सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ रहा है। तेजस्वी यादव की जनसभाओं में उमड़ती भीड़ से इस बात को और ज्यादा बल मिल रहा है। जब इस पर सीएम नीतीश कुमार से सवाल किया गया तो उन्होंने हैरान करने वाला जवाब दिया। नीतीश कुमार ने कहा कि ‘एंटी इंकम्बेंसी है तो अच्छा है, फुर्सत मिल जाए।’

दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर हुआ है, जिसमें एक पत्रकार नीतीश कुमार से उनके खिलाफ चल रही कथित सत्ता विरोधी लहर के बारे में सवाल करते हैं। इस पर नीतीश कुमार हंसते हुए कहते हैं कि अगर एंटी इंकम्बेन्सी हो तो हमको तो छुट्टी मिल जाए, फुर्सत मिल जाए। अभी रात दिन सेवा करते रहते हैं। कोई कह रहा है कि हम थक गए हैं तो बड़ी खुशी है। नीतीश कुमार ने कहा कि हम तो यहीं रहते हैं ना हम कभी छुट्टी पर रहे।

नीतीश ने कहा कि कभी सुना है कि हम कुछ दिन के लिए कहीं चले गए हैं। ये कभी संभव है तो हम तो काम करते हैं लेकिन जनता मालिक है।

बता दें कि नीतीश कुमार बीते करीब 15 साल से बिहार की सत्ता पर काबिज हैं। यही वजह है कि इस बार उन्हें सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ रहा है। तेजस्वी यादव नीतीश कुमार को कड़ी चुनौती दे रहे हैं। साथ ही लोजपा प्रमुख चिराग पासवान भी नीतीश के खिलाफ हमलावर हैं।

तेजस्वी की रैलियों में बढ़ती भीड़ ने नीतीश कुमार और एनडीए की चिंता बढ़ा दी है। हालांकि ओपीनियन पोल्स में फिर से बिहार में एनडीए की सरकार बनने की बात कही जा रही है। माना जा रहा है कि पीएम मोदी के चुनाव प्रचार से नीतीश को फायदा मिल सकता है। हालांकि रोजगार और अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर पीएम मोदी खुद विपक्षी पार्टियों के निशाने पर हैं।

वहीं नीतीश कुमार कोरोना माहमारी के चलते लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों की अपेक्षित मदद ना करने और लोगों को स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध ना कराने के चलते निशाने पर हैं।

Next Stories
1 बिहार चुनावः आप तो तीन-तीन घंटे बिना पानी पिए भाषण देते हैं- नीतीश कुमार से बोला एबीपी र‍िपोर्टर
2 राम मंदिर के बाद अब सीता मंदिर भी चुनावी मुद्दा, बीजेपी के लिए भी वोट की अपील करने लगे चिराग पासवान
3 बिहार चुनावः राज्य में 46 फीसदी से घट कर 20 फीसदी पर पहुंची ब्राह्मण, राजपूत व कायस्थों की भागीदारी, पिछड़े वर्ग का ऐसे बढ़ा दबदबा
ये पढ़ा क्या?
X