ताज़ा खबर
 

मेवालाल चौधरी पर वीसी रहते था घोटाले का आरोप, अब नीतीश ने द‍िया शिक्षा मंत्रालय, जान‍िए और क‍िन्‍हें क्‍या म‍िला

मेवालाल चौधरी पर कृषि विश्वविद्यालय,सबौर, भागलपुर में असिस्टेंट प्रोफेसर कम जूनियर साइंटिस्ट के पद की बहाली में घोटाले और धांधली करने का आरोप लगा था।

Bihar, mewalal chaudhary, bihar election resultमेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाया गया है। फोटो सोर्स – ANI

बिहार में नीतीश कुमार ने कैबिनेट सदस्यों के बीच विभाग का बंटवारा कर दिया है। सबसे ज्यादा चर्चा मेवालाल चौधरी की हो रही है। मेवालाल चौधरी को शिक्षा विभाग का कार्यभार दिया गया है। मेवालाल चौधरी पर वीसी रहते भर्ती घोटाले का आरोप लगा था। मेवालाल चौधरी पर कृषि विश्वविद्यालय,सबौर, भागलपुर में असिस्टेंट प्रोफेसर कम जूनियर साइंटिस्ट के पद की बहाली में घोटाले और धांधली करने का आरोप लगा था।

तब VC थे मेवालाल चौधरी: मेवालाल पर घोटाले का यह आरोप साल 2012 में लगा था। उस वक्त मेवालाल चौधरी बिहार कृषि विश्वविद्यालय के पहले कुलपति थे। यह मामला सामने आने के बाद मेवालाल चौधरी पर मुकदमा भी दर्ज हुआ था। हालांकि उन्हें एंटी सिपेटरी बेल मिल गई थी। इस मुकदमे में अब तक चार्जशीट दायर नहीं हुई है।

281 पदों पर निकली थी भर्ती: बताया जाता है कि उस वक्त कृषि विश्वविद्यालय में कुल 281 पदों पर नियुक्तियां निकली थीं। इसमें सहायक प्रोफेसर और जूनियर वैज्ञानिक के पद शामिल थे। 281 पदों के लिए कुल 2500 लोगों ने साक्षात्कार दिया था। इसके बाद 166 लोगों की नियुक्ति भी हुई है।

मेवालाल पर लगे थे यह आरोप: बताया जाता है कि अभ्यर्थियों का चयन मेरिट लिस्ट में कुल 100 नंबर पर होना था। इसमें शैक्षणिक योग्यता के लिए 80 नंबर, साक्षात्कार के लिए 10 नंबर और 10 नंबर प्रजेन्टेशन के लिए दिये जाने थे। आरोप है कि चयन प्रक्रिया के दौरान मनमाने तरीके से नंबर्स देकर अभ्यर्थियों का चयन कर लिया गया। जो अभ्यर्थी चयन से चूक गए थे उन्होंने आरोप लगाया था कि नियुक्ति में पैसों का खेल बड़े पैमाने पर चला था और इसमें मेवालाल की सीधे तौर से भूमिका थी।

पढ़ें: मेवालाल चौधरीः अब बनाए गए मंत्री, पर तब नीतीश ने कर दिया था निष्काषित; पत्नी भी रहीं JDU विधायक

बहरहाल इन सभी आरोप के बावजूद मेवालाल को नई नीतीश सरकार में शिक्षा मंत्री का पद दिया गया है।

नई सरकार में किसे कौन सा मंत्रालय दिया गया है? लिस्ट नीचे देखें।
नीतीश कुमार – गृह, विजिलेंस, सामान्य प्रशासन
मंगल पांडेय – स्वास्थ्य मंत्रालय और सड़क एंव परिवहन मंत्रालय
अशोक चौधरी – भवन निर्माण एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय
मेवालाल चौधरी – शिक्षा मंत्री
विजय कुमार चौधरी – ग्रामीण विकास एंव ग्रामीण कार्य
संतोष मांझी – लघु सिंचाई विभाग
तारकिशोर प्रसाद – वित्त, वाणिज्य एवं अन्य प्रमुख मंत्रालय
शीला कुमारी – परिवहन विभाग
रेणु देवी – महिला कल्याण विभाग

बता दें कि बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सरकार के मंत्रिमंडल की पहली बैठक मंगलवार को हुई जिसमें नवगठित 17वीं विधानसभा का प्रथम सत्र तथा विधान परिषद का 196वां सत्र 23 नवंबर से बुलाने का निर्णय लिया गया। सूत्रों ने बताया कि बैठक में नवगठित 17वीं बिहार विधानसभा के प्रथम सत्र और बिहार विधान परिषद के 196वां सत्र के प्रारंभ में दोनों सदनों के साथ समवेत अधिवेशन में राज्यपाल के अभिभाषण के प्रारूप को अनुमोदित करने के लिये मुख्यमंत्री को अधिकृत करने को भी मंजूरी दी गई ।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ये सरकार अवैध, जनादेश की डकैती के साथ जनमत का BJP ने किया बलात्कार…RJD प्रदेश अध्यक्ष का बयान
2 बिहार: 15 साल से नीतीश की सहयोगी हैं रेणु, अब बन रहीं बीजेपी में बदलाव का चेहरा
3 बिहार चुनाव: बीजेपी के इन चेहरों के दम पर अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पास की पहली बड़ी परीक्षा
यह पढ़ा क्या?
X