ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने भरा पर्चा: 4.5 लाख संपत्ति, 90 हजार कैश, लिखा- भिक्षाटन से आए पैसे

Lok Sabha Election 2019: प्रज्ञा ने अपनी आमदनी का स्रोत भिक्षाटन और समाज पर निर्भरता बताया है। प्रज्ञा पर सिर्फ एक आपराधिक मामला दर्ज है, जो 2008 के मालेगांव धमाके से जुड़ा हुआ है।

भोपाल से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा। (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस।)

Lok Sabha Election 2019: भारतीय जनता पार्टी ने मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को अपना उम्मीदवार बनाया है। प्रज्ञा ने सोमवार को अपना नामांकन दाखिल किया था। अपने चुनावी हलफनामे में प्रज्ञा ने अपनी आय और संपत्ति से जुड़ी जानकारी सार्वजनिक की है। इसके मुताबिक, प्रज्ञा के पास कुल 4,44,224 रुपये की चल संपत्ति है। उनके पास कोई अचल संपत्ति नहीं है। बैंक में 99,824 रुपये जमा हैं जबकि कैश इन हैंड के तौर पर 90 हजार रुपये हैं। प्रज्ञा ने अपनी आमदनी का स्रोत भिक्षाटन और समाज पर निर्भरता बताया है। प्रज्ञा पर सिर्फ एक आपराधिक मामला दर्ज है, जो 2008 के मालेगांव धमाके से जुड़ा हुआ है। उनके खिलाफ यूएपीए एक्ट, आईपीसी और इंडियन एक्सप्लोसिव एक्ट के तहत चार्जशीट दाखिल की गई है। भोपाल में प्रज्ञा का मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह से होगा।

बता दें कि बीजेपी की ओर से प्रज्ञा को उतारे जाने के फैसले के बाद से विवाद जारी है। प्रज्ञा खुद अपने बयानों की वजह से भी समस्या में घिर गई हैं। बाबरी मस्जिद पर एक विवादास्पद बयान देने की वजह से उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। आयोग ने पुलिस को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर ठाकुर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने को कहा था। एक टीवी चैनल को इंटरव्यू देने के दौरान की गई इस टिप्पणी की वजह से चुनाव आयोग ने इससे पहले शनिवार को उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था। बता दें कि ठाकुर ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था, ‘‘राम मंदिर हम बनाएंगे और भव्य बनाएंगे, हम तोड़ने गये थे ढांचा, मैंने चढ़कर तोड़ा था ढांचा, इस पर मुझे भयंकर गर्व है। मुझे ईश्वर ने शक्ति दी थी, हमने देश का कलंक मिटाया है।’’

प्रज्ञा ने शहीद पुलिस अफसर हेमंत करकरे पर भी आपत्तिजनक बयान दिया, जिसके बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी। साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान में कहा था कि हेमंत करकरे ने उन्हें प्रताड़ित किया और उन्होंने श्राप दिया था। जिसके चलते ही हेमंत करकरे की आतंकी मुठभेड़ में मौत हो गई थी। साध्वी प्रज्ञा के इस बयान पर भाजपा ने भी इससे खुद को अलग करते हुए इसे साध्वी के निजी विचार बता दिया था।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App