ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: पीएम मोदी के खिलाफ अर्थी बाबा ने ठोंकी ताल, वाराणसी से भरेंगे नामांकन

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): वाराणसी से पीएम नरेन्द्र मोदी के खिलाफ इस बार अर्थी बाबा भी मैदान में है। जानें कौन हैं अर्थी बाबा और कैसे पड़ा यह नाम।

Author Updated: April 29, 2019 1:05 PM
अर्थी बाबा, फोटो सोर्स- स्थानीय

Lok Sabha Election 2019: उत्तर प्रदेश के वाराणसी से पीएम नरेन्द्र मोदी मैदान में उतरे हैं। वहीं उनके खिलाफ वाराणसी संसदीय सीट से चुनाव लड़ने की होड़ लगी है। पीएम के खिलाफ चुनाव लड़ने वालों की लिस्ट में दो और नाम जुड़ने जा रहे हैं। इनमें एक नाम है गोरखपुर के राजन यादव उर्फ अर्थी बाबा का और दूसरा नाम बाहुबली अतीक अहमद का सामने आ रहा है। बता दें कि राजन यादव ने अपना नामांकन जुलूस अर्थी पर बैठकर निकाला। वहीं वो अपना चुनाव कार्यालय हरिश्चंद्र (श्मशान) घाट पर खोलेंगे। गोरखपुर के रहने वाले अर्थी बाबा ग्राम प्रधान से लेकर राष्ट्रपति तक का चुनाव लड़ते आ रहे हैं।

अर्थी बाबा ने दाखिल करेंगे नामांकन: राजन यादव उर्फ अर्थी बाबा ने सोमवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। बता दें कि अर्थी बाबा को किसी भी मुद्दे पर जुलूस या धरना-प्रदर्शन करते वक्त अर्थी पर बैठने के चलते उन्हें इस नाम से पहचाना जाता है। अर्थी बाबा ने 2014 में भी बनारस से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया था।

 

इस तरह चुनाव लड़ने से रह गए थे वंचित: 2014 में अर्थी बाबा नामांकन करने बनारस पहुंचे भी थे, लेकिन खुद ही अपने अर्थी जुलूस में इतना मशगूल हुए कि नामांकन का वक्त खत्म होने के बाद जिला निर्वाचन कार्यालय पहुंचे। इस तरह पिछली बार वह चुनाव लड़ने से वंचित रह गए थे।

National Hindi News, 29 April 2019 LIVE Updates: पढ़ें दिनभर की हर बड़ी खबर

पर्चा खारिज करवाने में बहुत तेज है सत्ताधारी पार्टी: अपने वाराणसी से चुनाव लड़ने की घोषणा करते हुए अर्थी बाबा ने फेसबुक पर लिखा है, “अकेला चलो… 29 अप्रैल को नॉमिनेशन प्रधानमंत्री के खिलाफ होगा। पर्चा खारिज करवाने में बहुत तेज है सत्ताधारी पार्टी।”

चर्चा में अतीक अहमद का भी नाम: अर्थी बाबा के अलावा दूसरी तरफ इलाहाबाद के बाहुबली अतीक अहमद के वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर है। सूत्रों की मानें तो नैनी सेंट्रल जेल में बंद अतीक ने शनिवार को स्पेशल एमपी-एमएलए कोर्ट में एक एप्लीकेशन देकर अपने आपको रिहा करने की अपील की है।

 

एप्लीकेशन देकर कहा मुझे करना है चुनाव प्रचार: इस एप्लीकेशन के मुताबिक अतीक को बनारस से नामांकन और प्रचार करना है, इसलिए उसे रिहा किया जाए। अतीक ने यह भी दावा किया है कि वाराणसी निर्वाचन कार्यालय से उसके लिए नामांकन पत्र खरीदा जा चुका है। अतीक की बेल एप्लीकेशन शनिवार को कोर्ट के सामने रखी गई है, जिसकी सुनवाई सोमवार को स्पेशल एमपी-एमएलए कोर्ट में होनी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Loksabha Election 2019: शेयर बाजार में पैसे नहीं लगाते पीएम मोदी, अमित शाह और सोनिया ने किया है रिलायंस की कंपनियों में निवेश!
2 Lok Sabha Election 2019: आचार संहिता उल्लंघन पर मोदी और अमित शाह के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची कांग्रेस सांसद, सुनवाई के लिए तैयार हुई अदालत
3 Lok Sabha Election 2019: यहां ट्रांसजेंडर वोटरों के महज 9 वोट, लेकिन पड़े 2000! चुनाव अधिकारी भी हैरान
ये पढ़ा क्या?
X