scorecardresearch

ABP-C वोटर सर्वेः बीजेपी का ग्राफ 1 फीसदी बढ़ा तो अखिलेश का 1 घटा, जानें किसके सिर सजेगा ताज

पश्चिमी यूपी के चुनावी रण में बीजेपी की बढ़त लगातार जारी है। पिछले सप्ताह के ABP-C वोटर सर्वे के आंकड़ों से आज की तुलना की जाए तो यहां योगी के जनाधार में पहले से इजाफा हुआ है।

ABP C Voter Survey, UP Election 2022, BJP, Akhilesh yadav, People mandate
8 एजेंसियों के सर्वे के अनुसार मुख्य मुकाबला भाजपा और सपा के बीच में है जबकि कांग्रेस और बसपा दहाई अंकों पर सिमटती हुई नजर आ रही है। (फोटो: पीटीआई)

यूपी की 403 सीटों की बात की जाए तो सर्वे के मुताबिक यूपी में योगी सरकार बननी तय है। सी वोटर के मुताबिक बीजेपी को 42 फीसदी वोट मिलते दिख रहे हैं जबकि सपा गठबंधन को 33 फीसदी, बसपा को 12 फीसदी, कांग्रेस को 7 फीसदी व अन्य को 6 फीसदी वोट मिलते दिख रहे हैं। 15 जनवरी के सर्वे में बीजेपी को 41, सपा को 34, मायावती को 12, कांग्रेस को 8 फीसदी वोट मिलते दिख रहे थे। आज के आंकड़े में बीजेपी को 1 फीसदी का फायदा है जबकि कांग्रेस व सपा को 1 फीसदी का नुकसान। बसपा पहले के आंकड़े पर ही कायम है।

पश्चिमी यूपी में बीजेपी के ग्राफ में 1% की बढ़ोतरी

पश्चिमी यूपी के चुनावी रण में बीजेपी की बढ़त लगातार जारी है। पिछले सप्ताह के ABP-C वोटर सर्वे के आंकड़ों से आज की तुलना की जाए तो यहां योगी के जनाधार में पहले से इजाफा हुआ है। एक सप्ताह पहले के सर्वे में बीजेपी को 40 फीसदी वोट मिलते दिख रहे थे तो आज के आंकड़े में उसे 41 फीसदी वोट मिल रहे हैं। यानि बीजेपी का जनाधार लगातार बढ़ रहा है।

अखिलेश यादव ने इस इलाके में राष्ट्रीय लोकदल के साथ मजबूत गठबंधन बनाकर बीजेपी को चुनौती पेश की है। लेकिन सर्वे के आंकड़े कहते हैं कि अखिलेश+ को मिलने वाले वोटों का प्रतिशत 33 है। एक सप्ताह पहले भी आंकड़ा ये ही था। यानि अखिलेश और रालोद का गठबंधन वोटर्स पर बहुत ज्यादा असर नहीं छोड़ रहा है। मायावती की बीएसपी को इस इलाके में 15 फीसदी वोट मिल रहे हैं। एक सप्ताह पहले उसे इतने ही लोगों का समर्थन मिल रहा था। कांग्रेस को 7 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। पिछले सर्वे में उसका ये ही आंकड़ा था।

पूर्वांचल रीजन में भी बीजेपी सबसे आगे

पूर्वांचल रीजन की 130 सीटों में ABP-C वोटर सर्वे बीजेपी को सबसे आगे दिखा रहा है। आज के सर्वे के आंकड़े कहते हैं कि बीजेपी गठबंधन यहां सपा के गठबंधन से 6 फीसदी की बढ़तक के साथ सबसे आगे है। हालांकि पिछले सप्ताह के आंकड़े से तुलना की जाए तो किसी भी पार्टी के ग्राफ में कोई बढ़त दिखाई नहीं दे रही है। सभी का ग्राफ वहीं स्थिर है।

एक सप्ताह पहले के आंकड़े में बीजेपी गठबंधन को 41 फीसदी, सपा+ को 35 फीसदी, मायावती को 12 फीसदी, कांग्रेस को 7 फीसदी वोट मिलने का अनुमान जताया गया था। अन्य के खाते में 5 फीसदी वोट जाते दिख रहे थे। एक सप्ताह बाद हुए सर्वे में आंकड़ा जस का तस है। किसी भी पार्टी के ग्राफ में बढ़ोतरी देखने को नहीं मिल रही है। सर्वे कहता है कि डिजिटल माध्यम से नेता लोगों तक अपनी बात पहुंचा रहे हैं। उनकी बातों का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है।

पढें Elections 2022 (Elections News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट