ताज़ा खबर
 

‘आप’ को भारी पड़ सकती है विधायकों की नाराजगी

‘आप’ के बागी विधायक कपिल मिश्रा तो खुलेआम भाजपा के पक्ष में काम कर रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को दिल्ली की सभी सातों सीटों पर भाजपा व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में अभियान चलाने का एलान किया।

Author Published on: May 3, 2019 5:57 AM
AAP के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (फोटो सोर्स: द इंडियन एक्सप्रेस)

आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया ने यह आरोप लगाकर दिल्ली की चुनावी सरगर्मी में सनसनी पैदा कर दी है कि भाजपा उनके सात विधायकों को खरीदना चाहती है। उनके इस आरोप की हकीकत तो अभी सामने नहीं आई है लेकिन पार्टी के विधायक जिस तरह खुलेआम पार्टी की मुखालफत कर रहे हैं, उससे लोकसभा के इस चुनाव में ‘आप’ को भारी सियासी नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है।

‘आप’ के बागी विधायक कपिल मिश्रा तो खुलेआम भाजपा के पक्ष में काम कर रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को दिल्ली की सभी सातों सीटों पर भाजपा व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में अभियान चलाने का एलान किया। वैसे भी, कभी ट्विटर पर तो कभी फेसबुक पर वह लगातार पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठा रहे हैं लेकिन पार्टी नेतृत्व उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहा। दूसरी ओर कभी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ मंत्रिमंडल में शामिल रहे सुल्तानपुरी के विधायक संदीप कुमार ने भी पार्टी के खिलाफ झंडा उठा लिया है।

‘आप’ की असंतुष्ट विधायक अलका लांबा ने भी गुरुवार को कहा कि वह दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के चांदनी चौक में हुए रोड शो में शामिल नहीं हुईं, क्योंकि पार्टी ने उनका अपमान किया। चांदनी चौक से विधायक लांबा ने एक ट्वीट कर कहा कि उन्हें केजरीवाल की कार के पीछे चलने को कहा गया जबकि अन्य विधायक उनके साथ कार में थे। लांबा ने पिछले दिनों कांग्रेस के पक्ष में खूब बयानबाजी की थी और उनके कांग्रेस में वापसी करने को लेकर भी लंबे समय तक अटकलों का दौर चलता रहा।

लांबा ने अपने में ट्वीट कहा कि पार्टी (आप) उम्मीदवार पंकज (गुप्ता) जी का फोन आया था कि मुझे मुख्यमंत्री के रोड शो में शामिल होना है। मैं तैयार थी, लेकिन फिर संदेश भिजवाया गया कि मैं मुख्यमंत्री के साथ गाड़ी में नहीं रहूंगी। मुझे उनकी गाड़ी के पीछे चलना होगा, जबकि बाकी विधायक उनके साथ रहेंगे। मुझे और मेरे लोगों को यह अपमान मंजूर नही था। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के सात विधायकों की भाजपा की ओर से खरीद-फरोख्त किए जाने के दावे को लेकर सूत्रों का कहना है कि विधायकों खरीददारी की बात तो अलहदा है लेकिन यह सच है कि पूर्वी दिल्ली से ताल्लुक रखने वाले कुछ विधायकों में भारी असंतोष जरूर है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कैसरगंज संसदीय सीट: तस्वीर बदले तो बदले कैसे…हमेशा नेता जीतते रहे, मतदाता हारते रहे
2 दिल्ली: त्रिकोणीय मुकाबले में हार-जीत की बाजी पलट सकते हैं बसपा समर्थक
3 रायबरेली लोकसभा सीट: कभी सिपहसलार अब रण में सामने, गांधी परिवार की 68 साल पुरानी सीट