ताज़ा खबर
 

कर्नाटक चुनाव परिणाम 2018: आम आदमी पार्टी के सभी 29 उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त

Karnataka Chunav Election Results 2018, Karnataka Vidhan Sabha Chunav Results 2018 (कर्नाटक विधानसभा चुनाव परिणाम 2018):कर्नाटक विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के सभी 29 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई।दिल्ली और पंजाब के बाहर संगठन को मजबूत करने की दिशा में इसे झटका माना जा रहा है।

Author नई दिल्ली | May 16, 2018 11:36 AM
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल। (एक्सप्रेस फोटोः ताशी तोबग्याल)

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के सभी 29 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई।दिल्ली और पंजाब के बाहर संगठन को मजबूत करने की दिशा में इसे झटका माना जा रहा है। आम आदमी पार्टी के कर्नाटक संयोजक पृथ्वी रेड्डी सर्वनगर सीट से कांग्रेस के मजबूत प्रत्याशी केजे जॉर्ज के मुकाबले खड़े थे, मगर सिर्फ 1861 वोटों का ही इंतजाम कर सके। रेड्डी ने कहा-हम बुरी तरह हारे मगर यह समझ से परे है। हमें समर्थन तो बहुत मिला मगर इसे वोटों में नहीं बदल सके।संसाधनों की कमी के बावजूद हमने डोर टू डोर कैंपेनिंग कर मतदाताओं का दिल जीतने की कोशिश की। आम आदमी पार्टी ने जिन 29 सीटों पर पार्टी के उम्मीदवार उतारे थे, उसमें 18 सीटें बेंगलुरु और 11 सीटें राज्य के अन्य हिस्से से संबंधित थीं।
2017 में आम आदमी पार्टी ने दिल्ली से बाहर संगठन के विस्तार की कोशिशें शुरू कीं।दिल्ली में पार्टी ने 2015 में चौंकाने वाली जीत दर्ज करते हुए 70 में से 67 सीटें अपने खाते में दर्ज कीं थीं।पंजाब को छोड़कर बाकी जगहों पर आम आदमी पार्टी का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। गोवा और गुजरात में आम आदमी पार्टी छाप छोड़ने में नाकाम रही।यहां भी 29 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई थी। बता दें कि विधानसभा चुनाव में किसी प्रत्याशी की तब जमानत जब्त होती है, जब वह कुल वैध मतों का छठां हिस्सा पाने में नाकाम रहता है। इतना ही नहीं 2018 में आम आदमी पार्टी नागालैंड और मिजोरम में भी खाता खोलने में नाकाम रही।

कर्नाटक की 11 सीटों पर योगेंद्र यादव की स्वराज इंडिया पार्टी ने चुनाव लड़ा, जिसमें मेलूकोट सीट पर पार्टी प्रत्याशी दर्शन पुट्टान्याह 73779 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर रहे। स्वराज इंडिया ने अपने आधिकारिक बयान में कहा-कर्नाटक में 11 सीटों पर पार्टी ने चुनाव लड़े।हमारे उम्मीदवारों ने कुल 79,400 मत हासिल किए।यह भरोसेमंद शुरुआत है, अन्य नए उम्मीदवारों से कहीं ज्यादा हमारी पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया।हालांकि हमने कोई सीट नहीं जीती। हमारे उम्मीदवार और महासचिव दर्शन पुट्टान्याह ने धनबल और बाहुबल के खिलाफ लड़ाई लड़ी, सचमुच यह उत्साहजनक शुरुआत है। स्वराज इंडिया ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव में 0.2 प्रतिशत वोट शेयर हासिल किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App