Rajasthan Election: 84 साल की महिला कैंडिडेट, रोज किया प्रचार, बीजेपी ने सातवीं बार दिया है टिकट

84 वर्षीय सूर्यकांत व्याय राजस्थान चुनाव में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार हैं और उनका मानना है कि वो किसी भी युवा प्रत्याशी से बेहतर हैं।

सूर्यकांत व्यास, फोटो सोर्स- सोशल मीडिया

राजस्थान में 7 दिसंबर को चुनाव हैं और आज प्रचार-प्रसार का आखिरी दिन। जिसके चलते सभी पार्टियां और प्रत्याशी मैदान में पूरा दमखम झोंक रहे हैं। ऐसे में एक प्रत्याशी ऐसी भी हैं जिनकी उम्र है 84 साल। दरअसल 84 वर्षीय सूर्यकांत व्यास राजस्थान चुनाव में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार हैं और उनका मानना है कि वो किसी भी युवा प्रत्याशी से बेहतर हैं।

कौन हैं सूर्यकांत व्यास
जोधपुर की सूरसागर सीट भाजपा की प्रत्याशी हैं 84 वर्षीय सूर्यकांत व्यास। बता दें कि भाजपा ने इन्हें 7वीं बार टिकट दिया है। सूर्यकांत खुद को यूथ से बेहतर मानती हैं और कहती हैं कि युवा को साढ़े दस बजे तक सोकर नहीं उठता है और उतने में मैं जयपुर से जोधपुर आ जाती हूं। ऐसे में सूर्यकांत व्यास से बातचीत की आज तक ने। बातचीत के कुछ खास अंश…

क्यों लगता है कि इस उम्र में आपको लोगों की सेवा करनी चाहिए….
रिटायर तो इंसान नौकरी से होता है और कुछ भी करने के लिए इच्छाशक्ति होनी चाहिए। मेरी आज भी काम करने की इच्छा है और मेरी इच्छा शक्ति है कि मैं जनता की सेवा करूं। मैं बात करने में, बोलने में कोई भी काम में किसी भी तरह से कम नहीं हूं तो क्यों मैं आराम करूं जब मैं जनता की सेवा कर सकती हूं। इसकी साथ ही पार्टी ने सातवीं बार टिकट दिया है तो जनता की सेवा तो करनी ही है।

क्या समस्याएं हैं जिनपर आप करना चाहते हो
दरअसल यहां सूरसागर में माइन्स की सबसे बड़ी दिक्कत है। तो मैं कोशिश करूंगी की किसी को भी इसकी समस्या नहीं हो। इसके साथ ही तालाब की साफ- सफाई, जो बची हुईं टूटी सड़कें वगैरह हैं उनको बनवाना वगैरह जैसे ही काम करने हैं जो आम जरूरते हैं सभी की। इसके साथ ही सभी अधिकारी काफी इज्जत करते हैं तो मुझे काम करने में कभी कोई दिक्कत नहीं आती।

राजनीति में युवा को आपके वजह से टिकट नहीं मिलता ?
अरे टिकट के लिए इच्छा शक्ति होनी चाहिए न। युवा साढ़े 10 तक सोता रहता है उतने में तो मैं जयपुर से जोधपुर आ जाती हूं और युवा सोता रहता है। आदमी के अंदर काम करने की इच्छाशक्ति होनी चाहिए। वरना कुछ न हो पाएगा।

उम्र 80 की जोश 18 का
हां ये तो है मुझे आज भी लगता है कि मैं सारे काम कर सकती हूं। मुझे लगता है कि कोई भी काम मुझसे छूटना नहीं चाहिए। मैं आज भी सब कर लेती हूं खाना बना लेती हूं, किसी के मरण पर हो आती हूं, किसी के जनम पर हो आती हूं। इसके साथ ही राजनीति भी कर लेती हूं। अगर मुझे राजनीति करनी है तो मैं सुबह 4 बजे उठकर 6 बजे तक सारे काम निपटा लेती हूं। राजनीति का मतलब ये नहीं कि परिवार का साथ नहीं देना, बड़े बुजुर्गों की सेवा न करना। मैंने ये सब किया है।

स्पोर्ट्स शूज का राज
(हंसते हुए) ये मुझे अच्छे लगते हैं। इसके साथ ही मुझे इससे स्मार्ट वाली फीलिंग आती है। वहीं ये कंफर्टेबल भी होते हैं। इसलिए स्पोर्ट्स शूज पहनती हूं।

इस बार जीत मिलेगी ?
हां बेशक हमारी ही सरकार होगी। मैं 1950 से राजनीति में हूं और मैं बता सकती हूं कि कांग्रेस ने कुछ नहीं किया है। कांग्रेस ने सिर्फ देश को बरबाद किया है। मुझे पता है कि इस बार भी भाजपा की सरकार आएगी और 2019 में फिर से नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बनेंगे।

बता दें 7 दिसंबर को राजस्थान में वोटिंग होनी है। गौरतलब है कि 199 सीटों के लिए राजस्थान में कुल 2274 प्रत्याशी मैदान में हैं। जिसमें से भाजपा ने 200 प्रत्याशी, कांग्रेस ने 195, बसपा ने 190, आम आदमी पार्टी ने 142, भावापा ने 63, रालोपा ने 58 और अरापा ने 61 कैंडिडेट मैदान में उतारे हैं। बता दें प्रदेश में 7 दिसंबर को वोटिंग होगी जबकि 11 दिसंबर को नतीजे सबके सामने होंगे।

पढें Elections 2021 समाचार (Elections News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट