UPSC: फुल टाइम जॉब के साथ की 4 से 5 घंटे पढ़ाई, फिर बनीं IAS, कुछ ऐसी है इंजीनियर यशनी नागराजन की सक्सेज स्टोरी

UPSC: यशनी नागराजन जब सिविल सेवा की तैयारी कर रही थीं, उस दौरान वह फुल टाइम जॉब में थीं। फिर भी उन्होंने ऑल इंडिया 57वीं रैंक हासिल की

Yashni Nagarajan IAS
यशनी नागराजन के डेली रुटीन में 4 से 5 घंटे ही पढ़ाई के लिए मिल पाते थे। (फोटो- instagram/yashni_nagarajan)

UPSC: यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा को पास करना एक स्टूडेंट के लिए बड़ी उपलब्धि मानी जाती है। इस परीक्षा को पास करना काफी मुश्किल है, फिर भी जिनमें देशसेवा का हौसला और खुद पर विश्वास होता है, वे इस परीक्षा को पास कर लेते हैं।

इस परीक्षा को पास करने में एक छात्र या छात्रा को जो संघर्ष करना पड़ता है, वह बाकी स्टूडेंट्स के लिए प्रेरणा बन जाता है। IAS यशनी नागराजन की सक्सेज स्टोरी भी कुछ ऐसी ही है।

यशनी नागराजन जब सिविल सेवा की तैयारी कर रही थीं, उस दौरान वह फुल टाइम जॉब में थीं। जॉब करते हुए सिविल सेवा की तैयारी करना काफी मुश्किल है क्योंकि ये तैयारी काफी समय मांगती है, जोकि जॉब करते हुए दे पाना संभव नहीं होता।

फिर भी यशनी नागराजन ने हिम्मत नहीं हारी और तैयारी करती रहीं। साल 2019 में उन्होंने ऑल इंडिया 57वीं रैंक हासिल की और IAS बनीं। उन्होंने ये साबित कर दिया कि नौकरी के साथ भी पढ़ाई की जा सकती है।

यशनी की प्रारंभिक शिक्षा केन्द्रीय विद्यालय, नाहरलगुन से हुई है। साल 2014 में उन्होंने बी.टेक की डिग्री हासिल की। उनके पिता भी इंजीनियर रहे हैं, हालांकि अब वह रिटायर हो चुके हैं। वहीं उनकी मां भी रिटायर्ड अधिकारी हैं।

यशनी नागराजन के डेली रुटीन में 4 से 5 घंटे ही पढ़ाई के लिए मिल पाते थे, लेकिन फिर भी वह पूरी कोशिश करती थीं कि ज्यादा से ज्यादा टाइम निकाला जा सके। इसके लिए वह वीकेंड में भी पढ़ती थीं।

पढें एजुकेशन समाचार (Education News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट