UPSC: दिल्ली की विशाखा यादव ने तीसरे प्रयास में किया टॉप, परीक्षा के लिए देती हैं यह ज़रूरी सलाह

UPSC: विशाखा यूपीएससी एग्जाम के शुरुआती दो अटेम्प्ट में प्रीलिम्स तक भी नहीं क्लियर कर पाई थीं।

UPSC. UPSC CSE, UPSC CSE 2021, IAS Success Story, UPSC Topper
विशाखा ने दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से बैचलर्स की डिग्री हासिल की है।

UPSC: विशाखा यादव दिल्ली के द्वारका की रहने वाली हैं। वह हमेशा से ही पढ़ने में काफी होशियार थीं और बचपन से ही सिविल सेवा के क्षेत्र में कदम रखना चाहतीं थीं। उनकी शुरुआती पढ़ाई लिखाई भी दिल्ली से ही हुई है। स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद विशाखा ने दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से बैचलर्स की डिग्री हासिल की है। इसी कॉलेज से उनका एक अच्छी कंपनी में प्लेसमेंट भी हो गया था। तकरीबन दो साल तक नौकरी करने के बाद विशाखा ने यूपीएससी एग्जाम देने का मन बनाया और इसके लिए तैयारी भी शुरू कर दी थी। विशाखा के इस फैसले में उनके परिवार वालों ने भी भरपूर सहयोग किया।

विशाखा ने सिविल सेवा के क्षेत्र में जाने का फैसला तो कर लिया था लेकिन आगे की राह आसान नहीं थी। वह यूपीएससी एग्जाम के शुरुआती दो अटेम्प्ट में प्रीलिम्स तक भी नहीं क्लियर कर पाई थीं। हालांकि, दोनों ही प्रयासों में वह केवल कुछ ही अंको से मात खा गई थीं। इस असफलता के बावजूद भी विशाखा ने हार नहीं मानी और अपनी तैयारी जारी रखी। आखिरकार, सिविल सेवा परीक्षा के तीसरे प्रयास में विशाखा ने न केवल इस कठिन परीक्षा के सभी चरणों को पास किया बल्कि 6वीं रैंक प्राप्त कर टॉपर भी बनीं।

UPSC Success Story: पहली कोशिश में हुईं फेल लेकिन नहीं मानी हार, फिर यूपीएससी में पाई ऑल इंडिया 23वीं रैंक, आज IFS अधिकारी हैं सदफ चौधरी

विशाखा के अनुसार, पहले के दो प्रयासों में उन्होंने काफी स्टडी मैटेरियल इकट्ठा कर लिया था लेकिन वह ठीक से रिवीजन नहीं कर पाईं। इसके अलावा उन्होंने मॉक टेस्ट पर भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया और इस वजह से उनकी अच्छी प्रैक्टिस भी नहीं हो पाई थी। उनका मानना है कि प्रीलिम्स परीक्षा के लिए ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट दें और परीक्षा के दौरान सबसे पहले वही सवाल हल करें जो आपको अच्छे से आता है।

UPSC: सिविल सेवा परीक्षा के तीसरे प्रयास में 26वीं रैंक प्राप्त करने वाली अंजलि प्रीलिम्स के लिए देती हैं यह सलाह

विशाखा कहती हैं कि सिविल सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों को नियमित रूप से लगभग 6 से 8 घंटे रोज पढ़ाई करनी चाहिए। इसके अलावा बहुत सारी किताबों से पढ़ने की जगह केवल कुछ सीमित किताबों को ही अच्छी तरह से पढ़ें और अधिक रिवीजन करने का प्रयास करें। पढ़ाई के साथ ही आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस करना बेहद जरूरी है। ऐसा करने से आपको अपनी गलतियों का पता चलेगा और सुधार करने का भी मौका मिलेगा।

पढें एजुकेशन समाचार (Education News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।