UPSC NDA 2021: चयन प्रक्रिया के लिए मेडिकल और फिजिकली फिट होना जरूरी, यहां पढ़ें फिजिकल स्टैंडर्ड से जुड़ी जानकारी

UPSC NDA 2021: एनडीए के आर्मी, नेवी, एयर फोर्स और इंडियन नेवल एकेडमी के 10+2 कैडेट एंट्री स्कीम के लिए उम्मीदवारों की भर्ती एलिजिबिलिटी, लिखित परीक्षा, मेडिकल फिटनेस टेस्ट और मेरिट के आधार पर की जाएगी।

UPSC NDA Selection Process, Physical Standard for NDA Selection, Required Height, Required Weight, Chest Measurement
इंडियन आर्मी, नेवी और एयरफोर्स में चयनित होने के लिए उम्मीदवारों को न केवल लिखित परीक्षा पास करनी होगी बल्कि उनका मेडिकली और फिजिकली फिट होना भी आवश्यक है।

UPSC NDA 2021: यूपीएससी एनडीए (2) 2021 के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया यूपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट upsconline.nic.in पर 29 जून 2021 तक जारी है। एनडीए (NDA) और एनए (NA) -2 परीक्षा एनडीए के इंडियन आर्मी, नेवी और एयरफोर्स विंग में 148वें कोर्स और 110वें इंडियन नेवल एकेडमी कोर्स (INAC) के 400 रिक्तियों के लिए आयोजित की जा रही है।

एनडीए के आर्मी, नेवी, एयर फोर्स और इंडियन नेवल एकेडमी के 10+2 कैडेट एंट्री स्कीम के लिए उम्मीदवारों की भर्ती एलिजिबिलिटी, लिखित परीक्षा, मेडिकल फिटनेस टेस्ट और मेरिट के आधार पर की जाएगी।

इंडियन आर्मी, नेवी और एयरफोर्स में चयनित होने के लिए उम्मीदवारों को न केवल लिखित परीक्षा पास करनी होगी बल्कि उनका मेडिकली और फिजिकली फिट होना भी आवश्यक है। यहां हम आपको फिजिकल स्टैंडर्ड से जुड़ी कुछ जानकारी बताएंगे।

लंबाई और वजन की बात करें तो आर्मी/एयर फोर्स भर्ती के लिए 152 सेमी की लंबाई के 15 – 16 साल के पुरुष उम्मीदवारों का वज़न 41 किलो होना चाहिए। जबकि, 18-19 साल के उम्मीदवारों का वज़न 45 किलो होना चाहिए। वहीं, 183 सेमी की लंबाई के 15 – 16 साल के उम्मीदवारों का वज़न 61 किलो होना चाहिए। जबकि, 18 -19 साल के उम्मीदवारों का वज़न 66.5 किलो होना चाहिए।

नेवी भर्ती में 152 सेमी की लंबाई के 16 साल के उम्मीदवारों का वज़न 44 किलो होना चाहिए। जबकि, 20 साल के उम्मीदवारों का वज़न 46 किलो होना चाहिए। वहीं, 183 सेमी की लंबाई के 16 साल के उम्मीदवारों का वजन 63 किलो होना चाहिए। जबकि, 20 साल के उम्मीदवारों का वज़न 67 किलो होना चाहिए। हालांकि, कुछ उम्मीदवारों को लंबाई और वजन में छूट दी जाएगी।

इसके अलावा उम्मीदवारों का सीना 81 सेमी. से कम नहीं होना चाहिए और कम से कम 5 सेमी तक फूलना चाहिए।
उम्मीदवारों को यह भी सलाह दी जाती है कि मिलिट्री हॉस्पिटल द्वारा आयोजित मेडिकल एग्जामिनेशन की प्रक्रिया को जल्दी पूरा करने के लिए मामूली दोष/ बीमारियों को पहले ही ठीक कर लें। बता दें कि बांह के अंदरूनी हिस्सों और हथेली के पीछे तरफ की जगह को छोड़कर शरीर में किसी और जगह पर परमानेंट टैटू स्वीकार नही किया जाएगा। हालांकि, इसमें भी कुछ‌ विशेष जनजाति से आने वाले उम्मीदवारों को छूट दी जाएगी। इससे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए उम्मीदवार आधिकारिक नोटिफिकेशन चेक करते हैं।

पढें एजुकेशन समाचार (Education News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट