scorecardresearch

UPSC: कुपवाड़ा की नादिया बेग ने 23 साल में ऐसे प्राप्त की थी सफलता

UPSC: नादिया का मानना है कि उनकी कठीन मेहनत और लगन की वजह से ही उन्हें यह सफलता प्राप्त हुई है।

UPSC: कुपवाड़ा की नादिया बेग ने 23 साल में ऐसे प्राप्त की थी सफलता
कुपवाड़ा की नादिया बेग ने 23 साल में पास की थी यूपीएससी परीक्षा

UPSC: यहां हम आपको जम्मू कश्मीर में सबसे कम उम्र में यूपीएससी परीक्षा पास करने वाली नादिया बेग के बारे में बताएंगे। नादिया बेग जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा की रहने वाली हैं। इनके माता पिता सरकारी टीचर हैं। नादिया ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा गांव के एक सरकारी स्कूल से प्राप्त की है। इसके बाद साल 2019 में उन्होंने दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय से इकोनॉमिक्स में बैचलर्स की डिग्री हासिल की है। नादिया ने कक्षा 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद ही यूपीएससी परीक्षा क्लियर करने का मन बना लिया था।

उन्होंने ग्रेजुएशन पूरा होने के बाद साल 2018 में यूपीएससी परीक्षा का पहला अटेम्प्ट दिया था लेकिन इस बार वह प्रीलिम्स परीक्षा तक पास नहीं कर पाईं थी। फिर साल 2019 में उन्होंने दोबारा यूपीएससी परीक्षा दी थी और इस बार उन्होंने 350वीं रैंक के साथ परीक्षा पास कर ली थी। बता दें कि नादिया जम्मू कश्मीर के 16 उम्मीदवारों में अकेली लड़की थी जिन्होंने यह परीक्षा क्लियर की थी।

नादिया ने केवल अपने वैकल्पिक विषय सोशियोलॉजी के लिए कोचिंग की थी और अन्य विषयों के लिए उन्होंने सेल्फ स्टडी किया था। नादिया बताती हैं कि जम्मू कश्मीर में इंटरनेट बंद होने से छात्रों को पढ़ाई करने में काफी मुश्किल का सामना करना पड़ा था। हालांकि, वह इस दौरान दिल्ली में रह कर ही परीक्षा की तैयारी कर रही थीं। इंटरनेट बंद होने की वजह से वह करीब 1 महीने तक अपने माता-पिता से संपर्क नहीं कर पाई थीं। उनका मानना है कि कश्मीर भारत का एक हिस्सा है और वह स्वयं कश्मीर में काम करना चाहती थीं लेकिन अपनी रैंक की वजह से वह जम्मू कश्मीर में काम नहीं कर सकती थीं।

UPSC: मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ी, ट्रेन में बैठकर करते थे पढ़ाई, ऐसे पाई सिविल सेवा में 5वीं रैंक

बता दें कि जब नादिया ने यूपीएससी परीक्षा पास की थी तब वह केवल 23 साल की थीं और वह बचपन से ही मिशेल ओबामा से काफी प्रभावित हैं। नादिया का मानना है कि उनकी कठीन मेहनत और लगन की वजह से ही उन्हें यह सफलता प्राप्त हुई है। वह अन्य उम्मीदवारों को भी अपने लक्ष्य के प्रति केंद्रित रहने की सलाह देती हैं।

UPSC: बिहार के मुकुंद कुमार ने बचपन से ही देखा यूपीएससी का सपना, पहले प्रयास में हीं पाई सफलता

पढें एजुकेशन (Education News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 27-07-2021 at 07:22:43 am
अपडेट