UPSC: पहले प्रयास में असफल होने के बाद छोड़ दी थी तैयारी, फिर तीसरे प्रयास में आशिमा ने ऐसे पाया मनचाहा पद

UPSC: आशिमा ने आईआईटी बॉम्बे से सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है।

UPSC, UPSC CSE, IAS Success Story, IAS Ashima Mittal
ग्रेजुएशन पूरा करते ही आशिमा की एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी भी लग गई थी।

UPSC:‌ आशिमा मित्तल राजस्थान के जयपुर की रहने वाली हैं। वह बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज़ थीं और हमेशा क्लास में अव्वल रहा करती थीं। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद आशिमा ने आईआईटी बॉम्बे से सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है। ग्रेजुएशन पूरा करते ही आशिमा की एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी भी लग गई थी। हालांकि, कुछ समय बाद ही उनके मन में सिविल सेवा परीक्षा देने का ख्याल आया। यहां तक कि आशिमा के घर वाले भी चाहते थे कि वह सिविल सेवा के क्षेत्र में ही जाएं। आखिरकार, आशिमा ने अपनी नौकरी छोड़ दी और पूरी तरह से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में लग गई थीं।

बचपन से ही पढ़ाई में होशियार होने के चलते आशिमा और उनके घर वालों को लगता था कि वह आसानी से सिविल सेवा परीक्षा पास कर सकती हैं लेकिन जैसा सबने सोचा था वैसा नहीं हुआ। आशिमा सिविल सेवा परीक्षा के अपने पहले ही प्रयास में मेन्स तक तो पहुंच गई थीं लेकिन कुछ कमी के चलते इंटरव्यू नहीं क्लियर कर पाईं। इस असफलता से आशिमा काफी निराश हो गई थीं, जिसके बाद उन्हें संभलने में काफी समय लग गया। उन्होंने यह मान लिया था कि वह सिविल सेवा के लिए नहीं बनी हैं। फिर एक बार किसी इंटर्नशिप के दौरान उन्हें राजस्थान के गांव में जाने का मौका मिला। वहां के हालात को देखते हुए आशिमा के मन में कुछ करने की ललक पैदा हुई और उन्होंने दोबारा परीक्षा देने की ठान ली।

UPSC: तीन बार असफल होने के बाद स्वाति बनीं टॉपर, इस तरह पाया मनचाहा पद

आशिमा ने साल 2016 में सिविल सेवा परीक्षा के दूसरे प्रयास में 328वीं रैंक के साथ सफलता प्राप्त कर ली थी लेकिन उन्हें आईआरएस (आईटी) सेवा अलॉट की गई। आशिमा की मंजिल तो कुछ और ही थी इसलिए उन्होंने ज्वाइन तो कर लिया लेकिन पढ़ाई जारी रखी। आखिरकार, साल 2017 में सिविल सेवा परीक्षा के तीसरे प्रयास में आशिमा ने 12वीं रैंक हासिल की और साथ ही मनचाहा पद भी प्राप्त किया।

Ministry of Defence Recruitment 2021: इन पदों पर भर्ती के लिए जल्द करें आवेदन, 63 हजार रुपए महीने‌ तक मिलेगी सैलरी

आशिमा का कहना है कि इस परीक्षा में कामयाबी पाने के लिए कठिन परिश्रम के साथ ही धैर्य रखना भी बेहद जरूरी है। असफल होने का यह मतलब नहीं कि अब तक की सारी मेहनत बेकार हो गई है। वह कहती है कि असफल होने के बाद निराश होने की जगह हमें दोगुना प्रयास करना चाहिए। सफलता पाने के लिए जरूरी है कि पढ़ाई के साथ साथ नियमित रिवीजन भी करते रहना चाहिए।

UKSSSC Recruitment 2021: 400 से अधिक पदों पर हो रही है भर्ती, इस तारीख तक कर सकते हैं आवेदन

पढें एजुकेशन समाचार (Education News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट