ताज़ा खबर
 

सीएम योगी का ऐलान, NEET, IIT JEE, NDA और UPSC जैसे एग्जाम्स के लिए यूपी में मिलेगी फ्री कोचिंग

पहले चरण में, यह राज्य के 18 संभागीय मुख्यालयों में होगा, जहां कोचिंग फिजिकली और ऑनलाइन प्रदान की जाएगी। अधिकारी भी अपना समय देंगे और विशेषज्ञों को भी वहां तैनात किया जाएगा।

NEET, JEE, UPSC Exams 2021: Free coaching for UP students, Free coaching for UP students for NEET, JEEसीएम आदित्यनाथ ने कहा, कोचिंग सेंटर युवाओं को एक नया मंच देंगे और उन्हें एक नई उड़ान भरने और नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए प्रेरित करेंगे। (फोटो सीएम योगी आदित्यानाथ ट्विटर)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्टूडेंट्स को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में मदद करने के लिए अगले महीने से पूरे राज्य में मुफ्त कोचिंग सुविधा शुरू करने की घोषणा की है। सीएम आदित्यनाथ ने राज्य के स्थापना दिवस पर अपने संबोधन के दौरान कहा, ‘अभ्युदय’ नाम से कोचिंग सुविधा आगामी बसंत पंचमी से शुरू होगी, जो कि शिक्षा की देवी, सरस्वती की पूजा के दिन है। मुख्यमंत्री ने कहा “बसंत पंचमी के दिन से, ‘अभ्युदय’, विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में उपस्थित होने वाले राज्य के छात्रों के लिए मुफ्त कोचिंग की सुविधा शुरू होगी”।

“पहले चरण में, यह राज्य के 18 संभागीय मुख्यालयों में होगा, जहां कोचिंग फिजिकली और ऑनलाइन प्रदान की जाएगी। अधिकारी भी अपना समय देंगे और विशेषज्ञों को भी वहां तैनात किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में छात्रों को मुफ्त कोचिंग प्रदान करने के लिए विभिन्न विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के शैक्षिक बुनियादी ढांचे का उपयोग किया जाएगा, जिसके लिए एक पैनल भी बनाया जाएगा।

“कक्षाओं को फिजिकल और साथ ही वर्चुअल आयोजित किया जाएगा और विभिन्न परीक्षाओं जैसे NEET, IIT JEE, NDA, CDS या UPSC आदि के लिए मार्गदर्शन दिया जाएगा। सीएम आदित्यनाथ ने कहा, कोचिंग सेंटर युवाओं को एक नया मंच देंगे और उन्हें एक नई उड़ान भरने और नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए प्रेरित करेंगे।

मुख्यमंत्री ने पिछले साल के अपने वादे को याद करते हुए मुफ्त कोचिंग के प्रावधान की घोषणा की कि उत्तर प्रदेश के किसी भी छात्र को अन्य राज्यों में कोचिंग के लिए राज्य से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने राजस्थान के कोटा में 30,000 से अधिक छात्रों को यूपी वापस लाने की चुनौती से जूझते हुए वादा किया था, जहां वे कोविड -19 के प्रकोप के बीच विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग ले रहे थे।

Next Stories
1 जानिए क्या करती हैं स्मृति ईरानी की सौतेली बेटी, शाहरुख खान ने रखा था नाम
2 पिता चलाते थे ऑटो, बेटे ने रच दिया इतिहास, ऐसा रहा है मोहम्मद सिराज का सफर
3 Subhash Chandra Bose: घर के पास स्कूल फिर भी होस्टल में रहे, इस कॉलेज ने निकाला, 2 साल में छोड़ी सिविल सेवा की नौकरी, जानें क्यों?
ये पढ़ा क्या?
X