ताज़ा खबर
 

कभी बच्चों को सिखाते थे मार्शल आर्ट, एक सलाह ने बना दिया खिलाड़ी कुमार

अक्षय ने मॉडलिंग के साथ ग्लैमर की दुनिया में अपना करियर शुरू किया। उन्हें मॉडलिंग करने के लिए भी उनके एक स्टूडेंट के पिता ने सलाह दी थी।

Akshay Kumar education, Akshay Kumar careerअक्षय ने डॉन बॉस्को हाई स्कूल, मिरिक, दार्जिलिंग में शिक्षा प्राप्त की है। लगभग उसी समय, उन्होंने कराटे सीखना शुरू कर दिया था।

फिल्म अभिनेता, प्रोड्यूसर, स्टंटमैन और मार्शल आर्टिस्ट अक्षय कुमार फिल्म इंडस्ट्री में खिलाड़ी कुमार के नाम से जाने जाते हैं। उनका बर्थ नेम राजीव हरिओम भाटिया है। वे एक्टिंग के क्षेत्र में आने से पहले बैंकॉक में शेफ थे। आइए जानते हैं कैसा रहा है अक्षय कुमार का शेफ से लेकर खिलाड़ी कुमार बनने तक का सफर

अक्षय कुमार का जन्म 9 सितंबर 1967 को अमृतसर, पंजाब में हुआ था। उनके पिता, हरिओम भाटिया एक सरकारी कर्मचारी थे और उनकी मां, अरुणा भाटिया एक गृहिणी थीं। उनकी एक छोटी बहन का नाम अलका भाटिया है। अक्षय ने राजेश खन्ना और डिंपल कपाड़िया की बेटी ट्विंकल खन्ना से 17 जनवरी 2001 को शादी की। उनका एक बेटा आरव और एक बेटी नितारा हैं।

अक्षय ने डॉन बॉस्को हाई स्कूल से शिक्षा प्राप्त की है। लगभग उसी समय, उन्होंने कराटे सीखना शुरू कर दिया था। बचपन से ही अक्षय की रुचि खेल और मार्शल आर्ट में थी। वे पुरानी दिल्ली में पले बढ़े और फिर मुंबई के कोलीवाड़ा चले गए। बाद में, उन्होंने गुरु नानक खालसा कॉलेज (किंग्स सर्कल) मुंबई में प्रवेश लिया, लेकिन पढ़ाई में खराब होने के कारण उन्होंने कॉलेज छोड़ दिया।

अक्षय कॉलेज के बाद बैंकॉक चले गए और वहां पर उन्होंने मार्शल आर्ट सीखा। वह ताइक्वांडो में ब्लैक बेल्ट हैं और उन्होंने मय थाई (थाई बॉक्सिंग) भी सीखी है। बैंकॉक में रहते हुए, अक्षय ने एक शेफ और एक वेटर के रूप में काम किया। अक्षय ने एक साल तक प्यून की नौकरी की, उसके बाद अक्षय ने ढाका में छह महीने तक सेल्समैन और दिल्ली में ज्वैलरी ट्रेडर का भी काम किया। इसके बाद अक्षय ने मुंबई में स्कूली बच्चों को मार्शल आर्ट सिखाना शुरू कर दिया।

अक्षय ने मॉडलिंग के साथ ग्लैमर की दुनिया में अपना करियर शुरू किया। उन्हें मॉडलिंग करने के लिए भी उनके एक स्टूडेंट के पिता ने सलाह दी थी। एक बार मॉडलिंग में सफल होने के बाद अक्षय ने अपना नाम राजीव ओम भाटिया से बदलकर अक्षय कुमार कर लिया। उन्होंने कई फिल्मों में बैकग्राउंड डांसर के रूप में काम किया और अंततः 1991 में फिल्म सौगंध के साथ बॉलीवुड में अपना कदम रखा। 1992 में उन्होंने दीदार फिल्म में मुख्य भूमिका निभाई, तब से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

वर्ष 2009 में अक्षय को भारत सरकार द्वारा “पद्म श्री” सम्मान से नवाजा गया है। 2017 में, अक्षय को उनकी फिल्म रुस्तम के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला।

Next Stories
1 सनी देओल के कारण करण को होती थी परेशानी, एक्टिंग को सुधारने के लिए था इस स्कूल में एडमिशन
2 UPSC Recruitment 2020: कई मंत्रालयों में निकली भर्ती, 7वें वेतन आयोग के तहत मिलेगी सैलरी, जानें डिटेल
3 नाराजगी के बावजूद राजनीति में बनाया करियर, ऐसा रहा डिंपल यादव का सफर
ये पढ़ा क्या?
X