ताज़ा खबर
 

इग्नू में पढ़ाई के लिए तीसरे लिंग के लोगों को नहीं देना होगा शुल्क

विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि हमारे यहां हर साल बड़ी संख्या में ट्रांसजेंडर छात्र दाखिला लेते हैं। इस साल ऐसे कितने छात्रों ने प्रवेश लिया इसका आंकड़ा अगस्त के अंत तक पता चलेगा।
Author नई दिल्ली | July 3, 2017 01:22 am
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू)।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने सभी ट्रांसजेंडर्स (किन्नर) विद्यार्थियों को मुफ्त शिक्षित करने का फैसला किया है। ऐसा करने वाला इग्नू पहला केंद्रीय विश्वविद्यालय है। विश्वविद्यालय ने सभी पाठ्यक्रमों में इन विद्यार्थियों के शुल्क को पूरी तरह से माफ कर दिया है। इग्नू के रजिस्ट्रार की ओर से सभी क्षेत्रीय केंद्रों को जारी निर्देश में कहा गया है कि इस संबंध में वे अधिक से अधिक प्रचार करें ताकि ज्यादा से ज्यादा ट्रांसजेंडर्स विद्यार्थियों का इससे फायदा हो सके। इसके अलावा केंद्रों को कहा गया है कि वे इन छात्रों के लिए केंद्र सरकार, राज्य सरकार, चिकित्सा अधिकारी आदि की और से जारी दस्तावेज या आधार नंबर के आधार पर दाखिले तय करें। विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि हमारे यहां हर साल बड़ी संख्या में ट्रांसजेंडर छात्र दाखिला लेते हैं। इस साल ऐसे कितने छात्रों ने प्रवेश लिया इसका आंकड़ा अगस्त के अंत तक पता चलेगा।

ऐसा नहीं है कि इग्नू ने ट्रांसजेंडर विद्यार्थियों के लिए पहली बार कोई अच्छा काम किया हो। इससे पहले विश्वविद्यालय ने 2012 में ही दाखिला फॉर्म में ‘तीसरे लिंग’ के लिए जगह दी थी। गौरतलब है कि साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने तीसरे लिंग के तौर पर ट्रांसजेंडर्स को मान्यता दी थी। ट्रांसजेंडर्स के अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाले अतुल कुमार सिंह ने बताया कि यह बहुत अच्छा कदम है। उनका कहना है कि ज्यादातर ट्रांसजेंडर छात्र नियमित कक्षा में जाकर पढ़ने से बचते हैं क्योंकि लोग उन्हें जल्दी से अपना नहीं पाते हैं। इसके अलावा ज्यादातर ट्रांसजेंडर्स आर्थिक रूप से कमजोर ही होते हैं। इग्नू के इस कदम से हजारों ट्रांसजेंडर्स को फायदा होगा, क्योंकि अब वे बिना किसी खर्च के अपने घर में रहकर आगे की पढ़ाई कर सकेंगे। इसी साल तमिलनाडु की मनोवन्मानियम सुंदरनार विश्वविद्यालय ने भी भी ट्रांसजेंडर्स छात्रों की फीस माफ कर दी थी। इस विश्वविद्यालय में सर्टिफिकेट से लेकर पीएचडी करने के लिए ट्रांसजेंडर्स विद्यार्थियों को एक भी पैसा नहीं देना होता है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.