ताज़ा खबर
 

ग्रेजुएट्स को नौकरी दिलाने के मामले में भारतीय यूनिवर्सिटीज की रैंक बढ़कर हुई इतनी, जापान, यूके, कनाडा समेत इनकी घटी

IIT बॉम्बे की रैंकिंग में भी सुधार हो रहा है। उसने भी टॉप 150 में जगह बना ली है और अब 128 वें नंबर पर है। वह 2019 में 153 वें नंबर पर था।

भारत ने दुनिया भर के टॉप 250 विश्वविद्यालयों में भी अपना प्रतिनिधित्व बढ़ाया है। 2019 में टॉप 250 में चार यूनिवर्सिटी थीं जो कि 2020 में बढ़कर 6 हो गई हैं।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, IIT दिल्ली, हाल ही में जारी ग्लोबल एम्प्लॉयबिलिटी रैंकिंग एंड सर्वे या GEURS 2020 के अनुसार देश का सबसे अधिक रोजगार देने वाला विश्वविद्यालय है। विभिन्न देशों के विश्वविद्यालयों के प्रदर्शन पर एक व्यापक रिपोर्ट में, भारत ने एक सराहनीय बढ़ोतरी दिखाई है। अब यह विश्व में 15 वें स्थान पर है। 2010 में यह 23वें स्थान पर थे। फ्रेंच एचआर कंसल्टेंसी ग्रुप इमर्जिंग एंड टाइम्स हायर एजुकेशन द्वारा प्रकाशित एक स्टडी में अमेरिकी विश्वविद्यालय टॉप पर बने रहे, पिछले दशक में अन्य देशों के कई विश्वविद्यालयों ने रोजगार में जबरदस्त सुधार दिखाया है। सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले देशों में जर्मनी, चीन और दक्षिण कोरिया हैं। भारत ने 15 वीं रैंक पर शीर्ष 250 रैंक में विश्वविद्यालयों की संख्या में बढ़ोतरी की है, जो कि पिछले एक दशक में 8 स्थानों का सुधार है।

अगर इंडिविजुअए यूनिवर्सिटी की बात करें तो IIT दिल्ली 2019 में 54 वें स्थान पर था जो कि 2020 में 27 वें स्थान पर चढ़कर 27 वें स्थान पर पहुंच गया है। भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर 2019 में 43 नंबर पर था जो कि 2020 में फिसलकर 71 नंबर पर पहुंच गया है। IIT बॉम्बे की रैंकिंग में भी सुधार हो रहा है। उसने भी टॉप 150 में जगह बना ली है और अब 128 वें नंबर पर है। वह 2019 में 153 वें नंबर पर था। आईआईटी खड़गपुर और एमिटी यूनिवर्सिटी ने इस साल टॉप 250 रैंकिंग में एंट्री मारी है। आईआईटी खड़गपुर के साथ 195 वीं रैंक पर है और एमिटी यूनिवर्सिटी की रैंक 236 है।

भारत ने दुनिया भर के टॉप 250 विश्वविद्यालयों में भी अपना प्रतिनिधित्व बढ़ाया है। 2019 में टॉप 250 में चार यूनिवर्सिटी थीं जो कि 2020 में बढ़कर 6 हो गई हैं। जैसा कि कोविद -19 स्थिति ने ग्रेजुएट्स के लिए काम खोजने की चुनौती बना दी है, रिपोर्ट में कहा गया है कि स्टूडेंट्स और माता-पिता विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा के बजाय नौकरी पाने की क्षमता से भी अधिक प्रभावित हैं।

कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (1), मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (2) और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी (3) पोडियम पर हावी रहे। अमेरिका में उच्च शिक्षा में सामान्य गिरावट आई है। पिछले 10 सालों में इसका देश का स्कोर 51% तक गिर गया। 2010 में 4,227 से 2020 में 2,067 हो गया। यूके, भी जहां बडे़ संस्थानों का एक छोटा ग्रुप अपनी उच्च शिक्षा प्रणाली की सामान्य गिरावट को कवर कर रहा है, 2010 में जहां यूके दूसरे स्थान पर था अब 2020 में चौथे स्थान पर आ गया है। इनके अलावा जापान और कनाडा की भी रैंकिंग घटी है।

Next Stories
1 NEET 2020: मध्य प्रदेश और राजस्थान NEET काउंसलिंग का राउंड 1 सीट अलॉटमेंट रिजल्ट, यहां चेक कर सकेंगे
2 UP B.Ed JEE counselling 2020: काउंसलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू, यहां है डायरेक्ट लिंक
3 Sarkari Naukri: Railway, HPSSC सहित कई विभागों में निकली सरकारी नौकरियां, ऐसे करना होगा अप्लाई
ये पढ़ा क्या?
X