ताज़ा खबर
 

अब स्‍कूलों में लड़के भी पहनेंगे स्‍कर्ट

इस वर्ष मई के महीने नें ताइवान में ताइपे के पास बैंकायो सीनियर हाई स्कूल (Banqiao Senior High School) में पुरुष शिक्षकों और छात्रों ने एक सप्‍ताह तक चले अपने जेंडर स्‍टीरियोटाईप्‍स को तोड़ने के अभियान के दौरान स्‍कर्ट पहनकर इस व्‍यवस्‍था का विरोध किया था जिसके बाद स्‍कूल ने इस बदलाव का फैसला लिया है।

लैंगिक समानता के साथ ड्रेस कोड के नये नियम इसी वर्ष 30 अगस्‍त से शुरू हो रहे नये सत्र से लागू होंगे।

हमारे देश में आप अब तक यही देखते आए हैं कि लड़के और लड़कियों के लिए अलग अलग ड्रेस कोड लागू रहता है। लड़के जहां स्‍कूल में पैंट या ट्राउज़र पहनते हैं वहीं लड़कियां स्‍कर्ट पहनती हैं। ऐसा सिर्फ भारत में नहीं दुनिया के लगभग हर देश में है। लड़के और लड़कियों के लिए स्‍कूल परिसर में अलग अलग ड्रेस कोड हैं। इसे एक प्रकार का लिंगभेद मानते हुए दुनिया के कुछ देशों में इस व्‍यवस्‍था के विरोध में आवाज़ भी उठाई गई और अब उसका असर नज़र आना भी शुरू हो गया है। ताइवान ने लिंग आधारित ड्रेस कोड की इस व्‍यवस्‍था को खत्‍म करते हुए लड़के लड़कियों के लिए स्‍कूल में एक जैसी ड्रेस लागू करने की योजना बनाई है।

ताइवान के स्‍कूल ने अब लड़के और लड़कियों दोनो को स्‍कूल में स्‍कर्ट पहनने की इजाज़त दे दी है। LGBT+ के कैंपेनर्स ने कहा है कि ये लैंगिक समानता को बढ़ावा देने का एक अच्‍छा कदम है। इस वर्ष मई के महीने नें ताइवान में ताइपे के पास बैंकायो सीनियर हाई स्कूल (Banqiao Senior High School) में पुरुष शिक्षकों और छात्रों ने एक सप्‍ताह तक चले अपने जेंडर स्‍टीरियोटाईप्‍स को तोड़ने के अभियान के दौरान स्‍कर्ट पहनकर इस व्‍यवस्‍था का विरोध किया था जिसके बाद स्‍कूल ने इस बदलाव का फैसला लिया है।

अब तक, स्‍कूल में लड़कों के लिए ट्राउज़र तथा लड़कियों के लिए स्‍कर्ट पहनने का नियम था मगर अब नये ड्रेस कोड में से लड़के और लड़कियों के लिए अलग अलग नियम हटा दिया गया है। लैंगिक समानता के साथ ड्रेस कोड के नये नियम इसी वर्ष 30 अगस्‍त से शुरू हो रहे नये सत्र से लागू होंगे।

Next Stories
1 स्‍पेशल ड्राइव से भरी जा सकती हैं DU की खाली बची ग्रेजुएट सीटें
2 CBSE स्‍कूलों में 12वीं कक्षा तक अब रोज होगा स्‍पोर्ट्स पीरियड, नया कार्यक्रम हुआ जारी
3 DU एंट्रेंस टेस्‍ट का संशोधित रिजल्‍ट जारी, आज जारी होगी B.El.Ed, JAT एडमिशन लिस्‍ट
यह पढ़ा क्या?
X