scorecardresearch

Rakesh Jhunjhunwala: भारत के वॉरेन बफेट राकेश झुनझुनवाला का निधन, महज 5 हजार रूपए से शुरू किया था सफर

Rakesh Jhunjhunwala News in Hindi: राकेश झुनझुनवाला की गिनती भारत के सबसे अमीर शख्सियतों में की जाती है।

Rakesh Jhunjhunwala: भारत के वॉरेन बफेट राकेश झुनझुनवाला का निधन, महज 5 हजार रूपए से शुरू किया था सफर
Rakesh Jhunjhunwala News Today: राकेश झुनझुनवाला ने हाल ही में एयरलाइन कंपनी अकासा एयर में निवेश किया था। (फोटो: फाइनेंसियल एक्सप्रेस)

Rakesh Jhunjhunwala Death: अरबपति बिजनेस टायकून, स्टॉक ट्रेडर और इन्वेस्टर राकेश झुनझुनवाला का आज सुबह 62 साल की उम्र में मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन हो गया। झुनझुनवाला कई स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे थे। आखिरी बार राकेश झुनझुनवाला को अकासा एयर के लांच पर देखा गया था। झुनझुनवाला एक निवेशक होने के अलावा एप्टेक लिमिटेड और हंगामा डिजिटल मीडिया एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के अध्यक्ष भी थे। झुनझुनवाला रेयर एंटरप्राइजेज नामक एक स्टॉक ट्रेडिंग फर्म भी चलाते थे। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई नेताओं ने शोक व्यक्त किया है।

1960 में हुआ था जन्म

राकेश झुनझुनवाला का जन्म 5 जुलाई 1960 को हैदराबाद में हुआ था। हालांकि, उनका परिवार मूल रूप से राजस्थान से था। उनके पिता राधेश्याम जी झुनझुनवाला इनकम टैक्स ऑफिसर थे और उनकी माता का नाम उर्मिला झुनझुनवाला था। ‌राकेश की शादी रेखा झुनझुनवाला से हुई थी और उनके तीन बच्चे भी हैं।

सामान्य स्कूल से हुई पढ़ाई

राकेश झुनझुनवाला की पढ़ाई बहुत ही सामान्य स्कूल से हुई थी। साल 1985 में उन्होंने मुंबई के सिडेनहैम कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स से बी.कॉम की डिग्री हासिल की थी। ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया में दाखिला लिया और चार्टर्ड अकाउंटेंट की पढ़ाई पूरी की।

ऐसे बनीं शेयर मार्केट में दिलचस्पी

राकेश झुनझुनवाला की दिलचस्पी शेयर बाजार में तब पैदा हुई जब उन्होंने अपने पिता को दोस्तों के साथ शेयर मार्केट पर चर्चा करते सुना। कॉलेज में पहुंचे तो उन्होंने शेयर मार्केट की बारीकियां समझीं। राकेश के पिता ने उन्हें मार्गदर्शन भी दिया लेकिन निवेश करने के लिए पैसे नहीं दिए और दोस्तों से भी मांगने से मना कर दिया था। ऐसे में राकेश ने कॉलेज के दिनों से ही अपनी बचत के पैसों से निवेश करना शुरू किया। साल 1985 में महज 5000 रुपए से शुरू की गई इन्वेस्टमेंट आज तकरीबन 40 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच गई है।

पढें एजुकेशन (Education News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट