ताज़ा खबर
 

NIOS Result 2016: राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान ने जारी किए10वीं परीक्षा के नतीजे, ऐसे देखें रिजल्ट

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान ने बारहवीं परीक्षा के परिणाम जारी करने के बाद दसवीं परीक्षा के परिणाम भी जारी कर दिए हैं। इस परीक्षा में भाग लेने वाले उम्मीदवार कई तरह से अपना रिजल्ट देख सकते हैं।
साथ ही विद्यार्थी टोल फ्री नंबर 1800-180-9393 पर फोन करके और 1sc@nios.ac.in पर मेल करके अपना रिजल्ट देख सकते हैं। एनआईओएस ने कई तरह से रिजल्ट प्राप्त करने की सुविधा दी है।

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान ने बारहवीं परीक्षा के परिणाम जारी करने के बाद दसवीं परीक्षा के परिणाम भी जारी कर दिए हैं। इस परीक्षा में भाग लेने वाले उम्मीदवार कई तरह से अपना रिजल्ट देख सकते हैं। अगर आपने भी इस परीक्षा में भाग लिया है तो आप आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपने परिणाम देख सकते हैं। बताया जा रहा है कि एनआईओएस ने बारहवीं के परिणाम जारी करते हुए कहा था कि 10वीं परीक्षा के रिजल्ट 13 तारीख को शाम 4 बजे जारी कर दिए जाएंगे। इस परीक्षा का आयोजन अक्टूबर में किया गया था। इस परीक्षा के नतीजे indianresults.com पर भी देखे जा सकते हैं। वहीं जो विद्यार्थी इंटरनेट नहीं चला पा रहे हैं वो मैसेज के जरिए भी अपना रिजल्ट देख सकते हैं। इसके लिए विद्यार्थी को अपना रोल नंबर भेजना होगा। अपना रिजल्ट देखने के लिए NIOS10 और अपना रोल नंबर लिखकर 5676570 नंबर पर भेज दें। इससे आपके नतीजे आपको वापस भेज दिए जाएंगे।

साथ ही विद्यार्थी टोल फ्री नंबर 1800-180-9393 पर फोन करके और 1sc@nios.ac.in पर मेल करके अपना रिजल्ट देख सकते हैं। एनआईओएस ने कई तरह से रिजल्ट प्राप्त करने की सुविधा दी है। वेबसाइट से अपना रिजल्ट देखने के लिए सबसे पहले संस्थान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं और उसके बाद इस परीक्षा के रिजल्ट से लिंक पर क्लिक करें और उसके बाद अपने रोल नंबर के माध्यम से रिजल्ट देख लें। बता दें कि यह संस्थान ओपन परीक्षा करवाता है और उसके बाद नतीजे भी घोषित करता है। बोर्ड परीक्षाओं में सफल नहीं होने वाले कई उम्मीदवार इससे 10वीं, 12वीं परीक्षा देते हैं और इसमें स्कूल जाने की आवश्यकता नहीं होती।

एनआईओएस एक ‘मुक्त विद्यालय’ है जो पूर्व-स्नातक स्तर तक के विभिन्न प्रकार के शिक्षार्थियों को शिक्षा प्रदान करता है। 1979 में इसे केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा एक परियोजना के रूप में चलाया गया था जिसमें कुछ अंतनिर्हित सुविधाएं दी गई थीं। 1986 में राष्ट्रीय शिक्षा नीति द्वारा यह सुझाव दिया गया कि देश भर में माध्यमिक स्तर पर एक अवस्थाबद्व रूप में मुक्त शिक्षा की सुविधाएं प्रदान करने के लिए मुक्त विद्यालय प्रणाली को एक स्वतंत्र प्रणाली के रूप में सशक्त किया जाए जिसमें इसकी अपनी पाठ्यचर्या हो और परीक्षा हो जिसमें उत्तीर्ण होने पर प्रमाणपत्र दिया जाए। जुलाई, 2002 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा संगठन का नाम राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय से बदलकर राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान किया गया ।

संसद हमले को 15 साल पूरे; हमले में मारे गए लोगों को दी गई श्रद्धांजलि

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.