ताज़ा खबर
 

JEE, NEET: अगले साल से हर छात्र को मिलेगा अलग-अलग प्रश्न पत्र

एनटीए ने इस परीक्षा को पूरी तरह से कंप्यूटराइज्ड करने की बात कही है। इसका मतलब यह हुआ कि साल 2019 की परीक्षाओं में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, साइकोमीट्रिक अनैलिसिस और कंप्यूटर अडैप्टिव टेस्टिंग की मदद ली जाएगी।

(एक्सप्रेस फाइल फोटो)

नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट यानी कि NEET और जेईई की परीक्षा के प्रश्न पत्रों में अगले साल से कुछ अहम बदलाव किये जाएंगे। अब तक यह परीक्षा सीबीएसई आयोजित कराती थी लेकिन अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) इस परीक्षा को आय़ोजित करेगी। मानव संसाधन विभाग ने इसकी घोषणा पहले ही कर दी है। विभाग की तरफ से यह भी बतलाया जा चुका है कि यह एजेंसी UGC NET, JEE Mains, CMAT और GPAT जैसी प्रवेश परीक्षाओं को भी आयोजित करेगी। अब एनटीए ने इन परीक्षाओं में कुछ अहम बदलावों की बात कही है जो इस प्रकार हैं।

-JEE, NEET के सभी परीक्षार्थियों को अब एक खास तरह का प्रश्न पत्र दिया जाएगा। जिसके तहत हर छात्र को अलग-अलग प्रश्न पत्र दिये जाएंगे। एनटीए के निदेशक विनीत जोशी का कहना है कि अलग-अलग प्रश्न पत्र देने के बाद परीक्षा में नकल की गुंजाइश पूरी तरह से खत्म हो जाएगी और यह पूरी तरह से सुरक्षित भी होगा।

– परीक्षा में मल्टिपल चॉइस क्वेस्चन होंगे। पहले की तरह किसी खास टेस्ट के लिए कुछ क्वेस्चन पेपर की बजाए हर छात्रों के लिए अलग-अलग प्रश्न पत्र तैयार किए जाएंगे। सॉफ्टवेयर हर छात्र के लिए अलग-अलग सवाल चुनेगा। ऐसे में वही छात्र सवालों का सही जवाब दे पाएंगे जिन्होंने सिलेबस का गहन अध्ययन किया हो।

-परीक्षा के दौरान अगर छात्र सवालों को हल करने की कोशिश नहीं करते हैं या फिर बाद में रिव्यू के लिए मार्क कर देते हैं तो बाद में एक क्लिक पर वे सवाल उनके लिए उपलब्ध होंगे।

-एनटीए ने इस परीक्षा को पूरी तरह से कंप्यूटराइज्ड करने की बात कही है। इसका मतलब यह हुआ कि साल 2019 की परीक्षाओं में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, साइकोमीट्रिक अनैलिसिस और कंप्यूटर अडैप्टिव टेस्टिंग की मदद ली जाएगी।

-‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से बात करते हुए विनीत जोशी ने बतलाया है कि कि कंप्यूटर में उच्च स्तरीय कोड का इस्तेमाल किया जाएगा ताकि कोई उसे हैक ना कर सके। एनटीए कुछ प्रश्न पत्र सेट तैयार करने के बजाए अलग-अलग तरह के लाखों प्रश्न पत्र तैयार करेगा।

-इस बार परीक्षा में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक का इस्तेमाल होगा, इसलिए प्रश्न पत्रों और आंसर सीट में गलतियों की आशंका नहीं होगी। परीक्षा में छात्रों से पहले आसान सवाल पूछे जाएंगे। इसके बाद धीरे-धीरे मुश्किल सवाल पूछे जाएंगे। इससे छात्र के इंटेलिजेंस के स्तर को जांचना आसान होगा।

– NEET 2019 की परीक्षा साल में दो बार होगी। जबकि इससे पहले यह एक बार होती थी।अगर परीक्षा की तिथि किसी छात्र को सूट नहीं करती है तो वह निर्धारित तारीखों में से कोई दूसरी तारीख चुन सकता है। अगर छात्र अपने स्कोर से खुश नहीं है तो तीन महीने के बाद फिर से परीक्षा दे सकता है।

NTA ने NEET 2019 का शेड्यूल भी रिलीज कर दिया है। जानकारी के मुताबिक फरवरी में आयोजित होने वाली NTA NEET 2019 परीक्षा 1 फरवरी से 17 फरवरी तक चलेगी और मई में आयोजित होने वाली नीट 2019 परीक्षा 12 मई से 26 मई तक आयोजित होगी। फरवरी में होने वाली परीक्षा के के लिए अक्टूबर 2018 में ऑनलाइन फॉर्म भरे जाएंगे और मई नीट 2019 के लिए मार्च 2019 के दूसरे सप्ताह में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। जेईई की परीक्षा जनवरी और अप्रैल में होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App