ताज़ा खबर
 

JNU के बाद अब IIMC में भी फीस बढ़ोत्‍तरी को लेकर प्रदर्शन

भारतीय जन संचार संस्थान (IIMC) परिसर में मंगलवार को फीस वृद्धि पर छात्रों का विरोध प्रदर्शन हुआ, जिसमें छात्रों ने अपने पाठ्यक्रम शुल्क में वार्षिक 10% बढ़ोतरी के खिलाफ हड़ताल की।

लगभग 30 छात्रों ने अपनी व्यक्तिगत पत्रों में महानिदेशक को यह कहते हुए लिखा कि वे दूसरे सेमेस्टर की फीस वहन करने में असमर्थ होंगे जो 15 जनवरी को भुगतान की जानी है। Image Credit: Indian Express

दिल्‍ली के जवाहरलाल नेहरु विश्‍वविद्यालय में हॉस्‍टल फीस वृद्धि के खिलाफ एक महीने से भी अधिक समय से विरोध प्रदर्शन जारी है जिसमें देश के दूसरे कई विश्‍वविद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने मंहगी होती शिक्षा के खिलाफ इस मुहिम में जुड़कर अपनी अपनी आवाज़ उठाई है। इसी कड़ी में अब दिल्‍ली के ही प्रतिष्ठित मीडिया संस्‍थान भारतीय जन संचार संस्थान (IIMC) परिसर में मंगलवार को फीस वृद्धि पर छात्रों का विरोध प्रदर्शन हुआ, जिसमें छात्रों ने अपने पाठ्यक्रम शुल्क में वार्षिक 10% बढ़ोतरी के खिलाफ हड़ताल की।

हालांकि, जेएनयू की तरह यहां फीस बढ़ोतरी की घोषणा अचानक नहीं की गई है, बल्कि जब इस साल जुलाई में विभिन्न पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के छात्रों ने प्रवेश लिया था तब प्रोस्पेक्टस में इसका उल्लेख किया गया था। अब तक, रेडियो और टीवी पत्रकारिता के छात्र सालाना 1,68,500 रुपये की फीस चुकाते हैं, एडवर्टाइजिंग और पीआर वालों की सालाना फीस 1,31,500 रुपये है तथा हिंदी पत्रकारिता और अंग्रेजी पत्रकारिता के छात्रों की सालाना फीस 95,500 रुपये है। उर्दू पत्रकारिता के लिए सालाना फीस 55,500 रुपये है।

इसके अतिरिक्त, मासिक छात्रावास और मेस शुल्क महिलाओं के लिए लगभग 6,500 रुपये और पुरुषों के लिए 4,800 रुपये हैं। विश्‍वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि IIMC सूचना और प्रसारण मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संस्‍था है और इसे नो प्रॉफिट, नो लॉस के आधार पर चलाया जाता है। लगभग 140 छात्रों ने आईआईएमसी के महानिदेशक (डीजी) को एक बयान पर हस्ताक्षर कर कहा कि उन्हें विरोध करने के लिए मजबूर होना पड़ा है क्योंकि उन्हें अपनी दो मुख्य मांगों पर कोई लिखित आश्वासन नहीं मिला था। उनकी मांगे थीं ‘मनमाने शुल्क वृद्धि की वापसी’ और ‘सभी के लिए छात्रावास’।

हालांकि, उन्होंने कहा कि डीजी ने 24/7 पुस्तकालय सहित छोटी मांगों पर सहमति जताई थी। लगभग 30 छात्रों ने अपनी व्यक्तिगत पत्रों में महानिदेशक को यह कहते हुए लिखा कि वे दूसरे सेमेस्टर की फीस वहन करने में असमर्थ होंगे जो 15 जनवरी को भुगतान की जानी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि छात्रों के साथ महानिदेशक ने दो दौर की बैठकें कीं और उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी जायज़ मांगों को 15 दिसंबर तक ध्‍यान में लाया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 SSC CHSL 2019-20 Notification: 12वीं पास के लिए SSC ने जारी किया CHSL परीक्षा का नोटिफिकेशन, जानें डीटेल्‍स और जल्‍द करें अप्‍लाई
2 असम बोर्ड 10वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए टाइम टेबल जारी, यहां करें चेक
3 उम्र 12 साल और आईक्यू 141, बोर्ड की परीक्षा देकर रचेगा इतिहास, इम्फाल के आइजक के लिए सरकार ने बदल दिए अपने नियम
ये पढ़ा क्या?
X