scorecardresearch

JEE Main 2022 Topper: पहली बार में 99.98 और दूसरी बार में 100 परसेंटाइल से किया टाप, जानें पल्ली जलजाक्षी ने कैसे पाई सफलता

JEE 2022 Main Result: जेईई मेस सेशन 2 में कुल 24 छात्रों ने 100 परसेंटाइल हासिल किया है। जिसमें से 2 लड़कियां भी शामिल हैं।

JEE Main 2022 Topper: पहली बार में 99.98 और दूसरी बार में 100 परसेंटाइल से किया टाप, जानें पल्ली जलजाक्षी ने कैसे पाई सफलता
JEE Main 2022 Session 2 Exam: एडमिट कार्ड आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया जाएगा। (फोटो: freepik)

JEE Main Topper 2022: नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE) मेन 2022 का रिजल्ट घोषित कर दिया गया है। यह परीक्षा 25 जुलाई से 30 जुलाई 2022 तक आयोजित की गई थी। इस साल परीक्षा में 24 छात्रों ने 100 परसेंटाइल हासिल किया है। जिसमें, आंध्र प्रदेश की पल्ली जलजाक्षी और अमरावती के श्रेनिक मोहन सकला भी शामिल हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में..

श्रेनिक ने 10वीं में भी किया टॉप

श्रेनिक मोहन महर्षि पब्लिक स्कूल के छात्र हैं। उन्होंने सीबीएसई 12वीं की परीक्षा में फिजिक्स और केमिस्ट्री में में 99% और मैथमेटिक्स में 98% अंक हासिल किया है। इससे पहले उन्होंने 10वीं की परीक्षा में 98.4% अंकों के साथ अपने स्कूल में टॉप किया था। श्रेनिक का कहना है कि वह अप्लाइड मैथमेटिक्स में अपना करियर बनाना चाहते हैं। इसके लिए वह आईआईटी दिल्ली या मुंबई में कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई करने का लक्ष्य रखते हैं।

पल्ली जलजाक्षी ने दोस्त के साथ साझा किया शीर्ष स्थान

पल्ली जलजाक्षी ने असम की स्नेहा पारीक और 22 अन्य लड़कों के साथ टॉपर्स की सूची में अपना नाम दर्ज कराया है। जलजाक्षी ने जेईई के पहले सत्र में 99.98% परसेंटाइल प्राप्त किया था और दूसरे सत्र में भी शामिल होकर 100 परसेंटाइल हासिल किए हैं। वह अपनी तैयारी को लेकर पहले से ही आश्वस्त थी इसलिए मेन्स परीक्षा के तुरंत बाद ही उन्होंने जेईई एडवांस की तैयारी शुरू कर दी थी। जलजाक्षी के दोस्त मेंडा हीमा वामसी ने भी इस परीक्षा में टॉप किया है। ‌अन्य टॉपर्स की तरह ही जलजाक्षी भी आईआईटी मुंबई से बीटेक कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई करना चाहती हैं। हालांकि, वह ग्रेजुएशन के बाद सिविल सेवा परीक्षा देना चाहती हैं और देश के डिजिटलीकरण के लिए काम करना चाहती हैं।

पिता का रहा सहयोग

पल्ली जलजाक्षी और मेंडा हिमा वामसी दोनों श्री चैतन्य जूनियर कॉलेज, विजयवाड़ा में सहपाठी हैं। जलजाक्षी ने कक्षा 8वीं से ही जेईई मुख्य परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी। वह बताती हैं कि कोविड -19 के कारण उनकी कक्षाएं बाधित हुई थीं, जिससे उन्हें ऑनलाइन कोचिंग पर स्विच करना पड़ा था। हालांकि, उनके पिता ने इस दौरान जलजाक्षी का भरपूर सहयोग किया था। बता दें कि उनके पिता गोविंदराव पल्ली एक सरकारी स्कूल में शिक्षक हैं।

पढें एजुकेशन (Education News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट