ताज़ा खबर
 

13 साल की उम्र में मिला था पहला ब्रेक, 20 साल बाद फिल्म इंडस्ट्री छोड़ चुना राजनीति का रास्ता

जया, एन० टी० रामा राव के निमंत्रण पर 1994 में तेलुगु देशम पार्टी (TDP) में शामिल होने के बाद राजनीति में सक्रीय हो गई। पार्टी सुप्रीमो एन. चंद्रबाबू नायडू के साथ मतभेदों के कारण, उन्होंने TDP छोड़ दी और समाजवादी पार्टी में शामिल हो गईं।

jaya prada, jaya prada age, jaya prada husband name, jaya prada biography, jaya prada myneta, jaya prada son, jaya prada family, jaya prada image,जब जया केवल 13 वर्ष की थीं, तब उन्होंने अपने स्कूल के वार्षिक समारोह में नृत्य प्रतियोगिता में भाग जहां से उनकी किस्मत बदली। (Source: Jaya Prada/Facebook)

जया प्रदा एक जानी मानी अभिनेत्री और एक तेज तर्रार राजनेता भी है। जया का जन्म 3 अप्रैल 1962 को राजामुंद्री, आंध्र प्रदेश में हुआ था। उनके पिता, कृष्णा राव, एक तेलुगु फिल्म फाइनेंसर थे। उनकी मां का नाम नीलावेनी था। जया का बचपन का नाम ललिता रानी था। जया ने अपने होमटाउन राजमुंदरी में एक तेलुगु मिडिल स्कूल में पढ़ाई की और नृत्य और संगीत की ट्रेनिंग की। उन्होंने बी.कॉम प्रथम वर्ष की पढ़ाई राज लक्ष्मी वुमेन कॉलेज से की। इसके बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी थी

जब जया केवल 13 वर्ष की थीं, तब उन्होंने अपने स्कूल के वार्षिक समारोह में नृत्य प्रतियोगिता में भाग जहां से उनकी किस्मत बदली। दर्शकों में एक फिल्म निर्देशक ने प्रभावित हो कर उन्हें तेलुगु फिल्म “भूमि कोसम” में तीन मिनट के लिए पर्फार्मेंस देने का ऑफर दिया। ललिता ने यह ऑफर स्वीकार कर लिया। फिल्म में उनकी भूमिका के लिए उन्हें 10 रुपए दिए गए थे। उन्होंने 1986 में फिल्म निर्माता, श्रीकांत नाहटा से शादी की। उस समय, श्रीकांत पहले से ही शादीशुदा थे और उनके तीन बच्चे थे।

उन्होंने फिल्म भूमि कोसम (1974) से तेलुगु फिल्मों में डेब्यू किया था। वह कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री में पहली बार सनादी अप्पन्ना (1977) में दिखाई दीं। सरगम (1979) उनकी पहली हिंदी फिल्म थी। उन्होंने निनिथले इनिक्कुम (1979) के माध्यम से तमिल में शुरुआत की। इनियम कथा थुडारुम (1985) उनकी पहली मलयालम फिल्म थी। इसके अलावा, जया प्रदा ने मराठी और बंगाली फिल्म में भी काम किया।

जया, एन० टी० रामा राव के निमंत्रण पर 1994 में तेलुगु देशम पार्टी (TDP) में शामिल होने के बाद राजनीति में सक्रीय हो गई। पार्टी सुप्रीमो एन. चंद्रबाबू नायडू के साथ मतभेदों के कारण, उन्होंने TDP छोड़ दी और समाजवादी पार्टी में शामिल हो गईं।

2004 के आम चुनाव में, उन्होंने रामपुर से चुनाव लड़ा और 85,000 मतों के अंतर से जीत दर्ज की। 2009 के आम चुनाव में, वह उसी निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के लिए फिर से चुनी गईं। जब उन्होंने समाजवादी पार्टी के पूर्व महासचिव अमर सिंह का समर्थन करना शुरू किया, तो उन्हें 2 फरवरी 2010 को पार्टी से निकाल दिया गया।

10 मार्च 2014 को, वह अमर सिंह के साथ राष्ट्रीय लोक दल में शामिल हो गईं। जया ने 2014 का आम चुनाव बिजनौर जिले से लड़ा, हालांकि, वह चुनाव हार गईं। 26 मार्च 2019 को वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुईं। उन्होंने रामपुर से आजम खान के खिलाफ 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा इस चुनाव में भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

Next Stories
1 UP Board Exam 2021 Date Sheet: जारी हुई यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं क्लास की डेटशीट, परीक्षा 24 अप्रैल से शुरू
2 Delhi Nursery Admissions 2021: 18 फरवरी से शुरू होंगे ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, इस दिन जारी होगी पहली मेरिट लिस्ट
3 Haryana Board BSEH Class 10, 12 exam dates 2021: 10वीं, 12वीं बोर्ड एग्जाम की डेटशीट जारी, छात्रों को एग्जाम में मिलेगा अब इतना समय
ये पढ़ा क्या?
X