ताज़ा खबर
 

सभी सरकारी स्कूलों में हाईटेक क्लासरूम, लैब और स्टूडियो जैसी सुविधाएं देने वाला ये है देश का पहला राज्य

सीएम ने कहा कि सरकार, सभी वर्गों के लोगों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के लिए दृढ़ संकल्पित है। सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों के लिए डिजिटल सुविधाओं को सुनिश्चित करने की परिकल्पना की है और ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में सुविधाओं में सुधार किया जा रहा है

smart classes, kerala smart classrooms, hi tech schools, kerala education, kerala, pinarayi vijayan, kiteसरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों के लिए डिजिटल सुविधाओं को सुनिश्चित करने की परिकल्पना की है। (प्रतीकात्मक फोटो)

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने 12 अक्टूबर को कहा कि केरल देश का पहला राज्य बन गया है, जहां सभी सरकारी और सहायता प्राप्त स्कूलों में हाई-टेक क्लासरूम या हाई-टेक लैब हैं। राज्य सरकार की हाई टेक क्लासरूम स्कीम के तहत, प्रोजेक्ट डॉक्यूमेंट्स के अनुसार, प्राथमिक से उच्च माध्यमिक स्तर तक के 16,027 स्कूल 3.74 लाख डिजिटल गैजेट्स से लैस हैं। एलडीएफ सरकार की इस प्रमुख परियोजना के हिस्से के रूप में, प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में उच्च तकनीक प्रयोगशालाएं स्थापित की गई हैं और हाई स्कूल और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में 40,000 कक्षाओं को स्मार्ट कक्षाओं में बदल दिया गया है। 12,678 स्कूलों में हाई स्पीड ब्रॉडबैंड इंटरनेट सुनिश्चित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केरल के सभी छात्र अब अपनी पढ़ाई के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार, सभी वर्गों के लोगों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के लिए दृढ़ संकल्पित है। सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों के लिए डिजिटल सुविधाओं को सुनिश्चित करने की परिकल्पना की है और ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में सुविधाओं में सुधार किया जा रहा है, ताकि वे किसी भी उच्च विद्यालय में उन लोगों के बराबर हों।

“राज्य की सार्वजनिक शिक्षा को पुनर्जीवित करने में, सरकार ने लोगों की भागीदारी सुनिश्चित की है। तीन स्तरीय स्थानीय निकायों को सार्वजनिक शिक्षा प्रणाली को पुनर्जीवित करने का काम सौंपा गया है। बंद होने की कगार पर आए कई सरकारी स्कूलों को पुनर्जीवित किया गया है। केरल के स्कूलों में अब विश्व स्तरीय सुविधाएं हैं और इससे शैक्षणिक क्षेत्र में भी बदलाव आया है।’

Sarkari Naukri Job Notification 2020 LIVE Updates: Check Here

मुख्यमंत्री ने कहा, “परियोजना के हिस्से के रूप में, स्कूलों में 2 लाख लैपटॉप वितरित किए गए हैं। हमने अब तक इन सभी उपलब्धियों के लिए अकेले क्रेडिट नहीं लिया है। दूसरों ने कुछ किया होगा और यह सरकार उसे पूरा कर रही है। इसे राज्य की उपलब्धि के रूप में देखा जाना चाहिए। उपलब्धियों को कवर करने की कोशिश करने के लिए कोई जरूरत नहीं है।” मिशन के तहत आठवीं से लेकर 12वीं कक्षा तक की कुल 42 हजार कक्षाओं को लैपटॉप, प्रोजेक्टर और स्क्रीन लगाए गए हैं और स्कूलों में स्टूडियो बनाए गए हैं। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बताया गया कि सुनिश्चित किया गया है कि सभी प्राथमिक एवं उच्चतर प्राथमिक स्कूलों में कम से कम एक स्मार्ट क्लास और कंप्यूटर लैब हो।

यूपी में 31,277 शिक्षकों की नियुक्ति के लिए शासनादेश जारी

परियोजना को केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट फंड बोर्ड से वित्तीय सहायता के साथ राज्य शिक्षा विभाग के केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी फॉर एजुकेशन द्वारा लागू किया गया था। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि विधायकों और सांसदों ने भी अपने स्थानीय क्षेत्र विकास कोष से योगदान दिया है।

Next Stories
1 Sarkari Jobs 2020: सरकारी नौकरी के लिए इन विभागों में करें आवेदन, जानिए पूरी डिटेल्स
2 यूपी में 31,277 शिक्षकों की नियुक्ति के लिए शासनादेश जारी, इसी सप्‍ताह मिल जाएगा ज्‍वाइनिंग लेटर
3 NTA NEET 2020 Re-Exam: छूट गए छात्रों के लिए दोबारा होगी NEET 2020 परीक्षा, इस दिन मिल जाएगा रिजल्‍ट
ये पढ़ा क्या?
X