ताज़ा खबर
 

ICSE, ISC Boards 2018: पासिंग मार्क्‍स हुए कम, इसी सत्र से होंगे ये नये बदलाव

ICSE, ISC Boards 2018: CISCE के सचिव और मुख्य कार्यकारी गेरी अराथून ने एक परिपत्र जारी कर बताया कि ICSE और ISC परीक्षाओं के लिए उत्तीर्ण अंकों में परिवर्तन परीक्षा वर्ष 2018 से प्रभावी होगा न कि 2019 से।

Author Published on: April 4, 2019 8:07 PM
अब से छात्रों को प्रश्न पत्र पढ़ने के लिए परीक्षा से 15 मिनट पहले का समय दिया जाएगा।

ICSE, ISC बोर्ड ने इस सत्र से परीक्षा के पैटर्न और शैक्षिक प्रणाली में कुछ नये बदलाव किये हैं। इस शैक्षणिक सत्र से छात्रों को आईसीएसई बोर्ड परीक्षा में पास होने के लिए 35 के बजाय 33 और आईएससी परीक्षा में 40 के बजाय 35 प्रतिशत की आवश्यकता होगी। एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (CISCE) ने दोनों कक्षा 10, 12 की बोर्ड परीक्षाओं के लिए उत्तीर्ण अंकों को कम करने का फैसला किया है।

CISCE के सचिव और मुख्य कार्यकारी गेरी अराथून ने एक परिपत्र जारी कर बताया कि ICSE और ISC परीक्षाओं के लिए उत्तीर्ण अंकों में परिवर्तन परीक्षा वर्ष 2018 से प्रभावी होगा न कि 2019 से। एसोसिएशन ऑफ हेड्स ऑफ आईसीएसई स्कूल्स (पश्चिम बंगाल) के महासचिव नाबरून डे ने कहा कि राज्य के सभी संबद्ध स्कूलों को नोटिस भेज दिया गया है।

बोर्ड ने कल कक्षा 10 और कक्षा 12 परीक्षा के लिए परीक्षा कार्यक्रम भी जारी कर दिया था। आईसीएसई परीक्षाएं 26 फरवरी से शुरू होंगी और 28 मार्च को समाप्त होंगी। आईएससी परीक्षा 7 फरवरी से शुरू होगी और 2 अप्रैल को समाप्त होगी। वेबसाइट पर यह भी सूचना है कि परीक्षा की तारीखें कुछ राज्यों में विधानसभा चुनाव कार्यक्रम के आधार पर बदल सकती हैं।

अब से छात्रों को प्रश्न पत्र पढ़ने के लिए परीक्षा से 15 मिनट पहले का समय दिया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 CBSE CTET 2019: एप्लिकेशन करेक्‍शन की तारीख बढ़ी, असम और बिहार में जुड़े और परीक्षा केन्‍द्र
2 CSIR UGC NET Dec 2018 Result: परिणाम घोषित, जानें JRF के लिए कितने हुए सिलेक्‍ट
3 दो साल में ही गंवा दिए थे पैर, पर नहीं रुके कामयाबी भरे कदम: इग्नू में जीता गोल्‍ड
जस्‍ट नाउ
X