ताज़ा खबर
 

कंटेनमेंट ज़ोन के स्‍टूडेंट्स, स्‍टॉफ को एग्‍जाम सेंटर में एंट्री नहीं, मिलेगा बाद में परीक्षा देने का मौका, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के निर्देश

Health Ministry Guidelines for UGC, NTA Exams 2020: नए निर्देशों के अनुसार, परीक्षा हॉल के भीतर और बाहर कम से कम 6 फीट की दूरी रखने के अलावा और परीक्षा के दौरान मास्क और सैनिटाइज़र का प्रयोग अनिवार्य रहेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों से इस तरह से परीक्षा की योजना बनाने के लिए कहा गया है ताकि छात्रों की एंट्री आसानी से हो जाए और भीड़भाड़ से बचा जा सके।

फाइनल ईयर के यूनिवर्सिटी एग्‍जाम, NEET 2020 परीक्षा से पहले यह दिशानिर्देश आ गए हैं।

Health Ministry Guidelines for UGC, NTA Exams 2020: देश में हो रही परीक्षाओं पर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने निर्देश जारी करते हुए कहा है कि केवल उन्हीं परीक्षा केंद्रों पर एग्‍जाम कराने की अनुमति है जो कंटेनमेंट ज़ोन में नहीं आते हैं। कंटेनमेंट ज़ोन से आ रहे परीक्षार्थियों और स्‍टाफ को एग्‍जाम सेंटर में एंट्री की अनुमति नहीं होगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने विश्वविद्यालय और अन्‍य शैक्षिक परीक्षाओं के बारे में नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। नए दिशानिर्देशों के अनुसार, ऐसे परीक्षार्थियों को अन्य माध्यमों से परीक्षा देने का अवसर दिया जाएगा या विश्वविद्यालय या शिक्षण संस्थान ऐसे छात्रों के लिए बाद की तारीख में परीक्षा लेने की अलग व्यवस्था करेंगे।

फाइनल ईयर के यूनिवर्सिटी एग्‍जाम, NEET 2020 परीक्षा से पहले यह दिशानिर्देश आ गए हैं। इस बीच, JEE Mains की परीक्षा भी नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा आयोजित की जा रही है। इसके अलावा, स्वास्थ्य मंत्रालय ने परीक्षा केंद्र में प्रवेश के समय स्वास्थ्य स्थिति के बारे में सेल्‍फ डिक्‍लेरेशन प्रस्तुत करने को भी कहा है। नियमानुसार परीक्षा हॉल के अंदर केवल बगैर लक्षण वाले स्‍टूडेंट्स और स्‍टाफ को ही एंट्री की अनुमति दी जाएगी। बुजुर्ग कर्मचारी, गर्भवती कर्मचारी या संक्रमण के लक्षण वाले कर्मचारियों को इंविजिलेटर या अन्‍य किसी ड्यूटी पर तैनात नहीं किया जा सकता।

नए निर्देशों के अनुसार, परीक्षा हॉल के भीतर और बाहर कम से कम 6 फीट की दूरी रखने के अलावा और परीक्षा के दौरान मास्क और सैनिटाइज़र का प्रयोग अनिवार्य रहेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों से इस तरह से परीक्षा की योजना बनाने के लिए कहा गया है ताकि छात्रों की एंट्री आसानी से हो जाए और भीड़भाड़ से बचा जा सके। स्क्रीनिंग के समय या परीक्षा के दौरान किसी को भी आइसोलेट करने की भी व्‍यवस्‍था होनी चाहिए। इसके अलावा, पूरी सावधानी के साथ ही परीक्षा आयोजित की जानी चाहिए तथा स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी मामले में कोई लापरवाही नहीं बरती जानी चाहिए।

Next Stories
1 UGC: यूजीसी ने यूनिवर्सिटीज को दे दी इसकी छूट, जानिए अब आगे क्या होगा
2 Sarkari Naukri: 8वीं 10वीं पास से लेकर पोस्ट ग्रेजुएट और डिप्लोमा वालों तक के लिए निकली हैं सरकारी नौकरी
3 बिहार में NTA JEE, NEET, NDA के अभ्यर्थियों के लिए रेलवे चलाएगा स्‍पेशल ट्रेन, 15 सितंबर तक रहेगी सुविधा
ये पढ़ा क्या?
X