Ambedkar Jayanti 2021: अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ, वकील, श्रमिक नेता, और वक्ता थे बाबा साहेब अंबेडकर

Ambedkar Jayanti 2021 Quotes: 1942 से 1946 तक वायसराय की कार्यकारी परिषद में एक श्रम सदस्य के रूप में, उन्होंने जल, बिजली और श्रम कल्याण क्षेत्रों में कई नीतियां विकसित कीं।

Baba Saheb Bhimrao Ambedkar, Constituent Assembly,speechबाबा साहब भीमराव आंबेडकर (सोर्स – एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

देश डॉ. बी.आर अंबेडकर की 130 वीं जयंती मना रहा है। बाबा साहेब का जन्म 14 अप्रैल 1891 को हुआ था। एक समाज सुधारक, भारतीय संविधान की प्रारूप समिति के अध्यक्ष और देश के पहले कानून मंत्री के रूप में उनकी भूमिका सर्वविदित है। इसके अलावा वह एक प्रतिष्ठित अर्थशास्त्री, सक्रिय राजनीतिज्ञ, प्रख्यात वकील, श्रमिक नेता, महान सांसद, विद्वान और वक्ता भी थे। देश ने आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में आजादी के आम महोत्सव की शुरुआत की है। सामाजिक विचारों को मजबूत करने और न्यायपूर्ण समाज का निर्माण करने के लिए, अपने विचारों की गंभीरता को समझने के लिए, एक राष्ट्र-निर्माता के रूप में उनकी भूमिका और उसके बाद की गई कार्रवाइयों को समझने के लिए अंबेडकर पर विचार करना जरूरी है। 31 मार्च 1990 को उन्हें मरणोपरांत सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

अंबेडकर एक संस्था के निर्माता के रूप में अग्रणी थे। भारतीय रिजर्व बैंक की परिकल्पना हिल्टन यंग कमिशन की सिफारिश से की गई थी, जिसने अंबेडकर के दिशा-निर्देशों को रुपये की समस्या: इसके मूल और इसके समाधान में निर्धारित माना था। 1942 से 1946 तक वायसराय की कार्यकारी परिषद में एक श्रम सदस्य के रूप में, उन्होंने जल, बिजली और श्रम कल्याण क्षेत्रों में कई नीतियां विकसित कीं। उनकी दूरदर्शिता ने केंद्रीय जलमार्ग, सिंचाई और नेविगेशन आयोग (सीडब्ल्यूआईएनसी), केंद्रीय तकनीकी ऊर्जा बोर्ड और नदी घाटी प्राधिकरण की स्थापना के माध्यम से एकीकृत जल संसाधन प्रबंधन के रूप में केंद्रीय जल आयोग की स्थापना में मदद की, जो सक्रिय रूप से दामोदर जैसी परियोजनाओं पर विचार करता था। अंतर-राज्य जल विवाद अधिनियम, 1956 और नदी बोर्ड अधिनियम, 1956 उनकी दृष्टि से निकलता है।

बाबा साहेब अंबेडकर के विचार

यदि मुझे लगा कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा।
जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते, कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिए बेमानी है।
समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।
एक विचार को भी प्रसार की आवश्यकता होती है जितनी की पौधे को पानी की आवश्यकता होती है। नहीं तो दोनों मुरझा जाएंगे और मर जाएंगे।

Next Stories
1 REET 2021 और राजस्थान बोर्ड 10वीं, 12वीं के एग्जाम पर RBSE के चैयरमेन का बड़ा ऐलान
2 CBSE Board: सीबीएसई बोर्ड 10वीं के एग्जाम रद्द, 12वीं के स्थगित, ऐसे होंगे स्टूडेंट्स पास
3 NEET PG Admit Card 2021: नीट पीजी 2021 एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड, ये रहा डायरेक्ट लिंक
यह पढ़ा क्या?
X