ताज़ा खबर
 

DU सिलेबस पर विवाद: गुजरात दंगों को लाने, अमीर खुसरो को हटाने का विरोध

नया सिलेबस चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) पर आधारित है। इस सिलेबस पर डीयू की सभी फैकल्टी ने मई-जून में हुए मीटिंग में अपने सुझाव रखे थे, जिसकी चर्चा स्टैंडिंग कमिटी में भी हुई।

Author नई दिल्ली | July 13, 2019 9:40 AM
DU सिलेबस पर विवाद: गुजरात दंगों को लाने, अमीर खुसरो को हटाने का विरोध

दिल्ली विश्वविद्यालय की स्टैंडिंग कमिटी द्वारा अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम के नए सिलेबस की मंजूरी मिल गई है। स्टैंडिंग कमिटी द्वारा तय किए गए सिलेबस पर इतिहास और अंग्रेजी डिपार्टमेंट के कुछ पेपर्स पर जमकर बहसबाजी हुई। दरअसल अंग्रेजी के एक पेपर में गुजरात दंगों पर एक केस स्टडी को शामिल किया गया है। साथ ही एलजीबीटी कम्युनिटी से जुड़ा भी एक चेप्टर शामिल किया है। इस चेप्टर को लेकर हुई शिकायत पर कुछ शिक्षकों ने नाराजगी जताई है। वहीं इतिहास के सिलेबस में अमीर खुसरो को हटाने और बीआर आंबेडकर पर सिलेबस कम किए जाने पर भी शिक्षकों ने विरोध जताया है।

इधर यूनिवर्सिटी के अधिकारियों का कहना है कि पाठ्यक्रम में शामिल किए गए या हटाए गए इन हिस्सों की समीक्षा की जाएगी। साथ ही नए पाठ्यक्रम को 15 जुलाई को होने वाली एकेडमिक काउंसिल में मंजूरी के लिए रखा जाएगा। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एकेडमिक काउंसिल की मीटिंग में इस विषय पर बहस और भी बढ़ सकती है। दिल्ली विश्वविद्यालय की परीक्षा विभाग के अनुसार 20 जुलाई से अंडरग्रैजुएट के फ्रेशर्स को नया पाठ्यक्रम क्लासों में पढ़ाया जाएगा। बता दें कि दिल्ली विश्वविद्यालय का नया पाठ्यक्रम यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (यूजीसी) द्वारा जारी गाइडलाइंस के आधार पर तैयार किया गया है।

नया सिलेबस चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) पर आधारित है। इस सिलेबस पर डीयू की सभी फैकल्टी ने मई-जून में हुए मीटिंग में अपने सुझाव रखे थे, जिसकी चर्चा स्टैंडिंग कमिटी में भी हुई। डीयू के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक पहले से ये बायता गया है कि नए सिलेबस में कोई भी विवादित किताब या मैटर नहीं डाला जाएगा। वहीं साइंस, कॉमर्स और ह्यूमैनिटीज से जुड़े कोर्सों पर स्टैंडिंग कमिटी ने कोई आपत्ति नहीं जताई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App