ताज़ा खबर
 

कलकत्ता हाईकोर्ट का आदेश, प्राइवेट स्कूल कम से कम 20 फीसदी घटाएं फीस, साथ में ये निर्देश भी दिए

हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि अप्रैल 2020 से लेकर उस महीने तक जब तक कि स्कूल फिजिकल मोड में नहीं खुल जाते तब तक फीस में 20 फीसदी की कटौती की पेशकश करें।

school fees, reduction in school fees, Calcutta High Court, financial year, High Court, 145 schools,अदालत ने अपने आदेश में कहा कि इस याचिका पर वह सात दिसंबर 2020 को दोबारा सुनवाई करेगी। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने 145 निजी स्कूलों को आदेश दिया कि वे फीस में कम से कम 20 प्रतिशत की कटौती की पेशकश करें, जबकि यह निर्देश देते हुए कहा कि जिन सुविधाओं का उपयोग नहीं हो रहा है उनकी फीस लेने की भी इजाजत नहीं है। 145 स्कूलों के छात्रों के अभिभावक द्वारा COVID-19 महामारी लॉकडाउन के दौरान केवल ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित किए जाने के बाद से स्कूल की फीस में कमी के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी।

यह निर्देश देते हुए कि वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान फीस में कोई वृद्धि नहीं होगी, हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि अप्रैल 2020 से लेकर उस महीने तक जब तक कि स्कूल फिजिकल मोड में नहीं खुल जाते तब तक फीस में 20 फीसदी की कटौती की पेशकश करें। न्यायमूर्ति संजीब बनर्जी और मौसमी भट्टाचार्य की खंडपीठ ने निर्देश दिया कि लैब, क्राफ्ट, खेल सुविधाओं या अतिरिक्त गतिविधियों या इस तरह की सुविधाओं के उपयोग के लिए गैर-आवश्यक शुल्क, जिनका लाभ नहीं उठाया गया है स्वीकार्य नहीं होंगे, क्योंकि स्टूडेंट्स स्कूल नहीं जा रहे हैं।

अदालत ने अपने आदेश में कहा कि इस याचिका पर वह सात दिसंबर 2020 को दोबारा सुनवाई करेगी। इससे पहले अदालत निर्देशों के अनुपालन में हुई प्रगति की निगरानी करेगी। न्यायमूर्ति भट्टाचार्य ने अलग-अलग आदेश में कहा, “कई माता-पिता ऐसे हैं जो अपने व्यक्तिगत बच्चों को बेहतर शैक्षिक बुनियादी सुविधाओं के साथ बड़े स्कूलों में दाखिला दिलाने के लिए अपने व्यक्तिगत स्तर पर कई चीजों से समझौता करते हैं।” न्यायाधीश ने कहा कि ऐसे अभिभावक मौजूदा वित्तीय रूप से तनावग्रस्त समय के तहत फीस में छूट से बहुत लाभान्वित होंगे।

परंपरागत रूप से समय-समय पर ली जाने वाली सीजनल फीस मान्य होगी, जिसे खंड पीठ ने निर्देशित किया, लेकिन कहा कि यह वित्त वर्ष 2019-20 में इसी अवधि के लिए प्रभारित क्वांटम की अधिकतम 80 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होगी। मासिक ट्यूशन फीस में 20 फीसदी की कटौती का न्यूनतम आंकड़ा पिछले वित्तीय वर्ष में इसी महीने के लिए ली गई ट्यूशन फीस के आधार पर होगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 NTA NEET Result 2020: नीट परीक्षा के परिणाम जल्द, जानिए चेक करने का तरीका
2 Unlock 5.0 Schools: आज से किस राज्य में खुल जाएंगे स्कूल, कैसा रहेगा स्कूल का माहौल, जानिए अपने राज्य का हाल
3 डीयू : परिसर के सन्नाटे में दाखिले की प्रक्रिया शुरू
IPL 2020 LIVE
X