ताज़ा खबर
 

अफसरी के लिए इंटरव्यू देंगे बीजेपी विधायक: 2018 में भाजपा में गए, 2019 में बीपीएससी मेंस दिया, 2020 में एमएलए बने, 2021 में मेंस पास किया

अनिल राम विधायक बनने से पहले झारखंड में निर्माण विभाग में जूनियर इंजीनियर थे। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में बीजेपी की से तरफ से टिकट मिलने से पहले वे निर्माण विभाग के कर्मचारी के तौर पर सीतामढ़ी, शिवहर और मधुबनी के बेनीपट्टी में काम करते थे।

BJP MLA, ANIL ram bjp mla, Bihar BJP MLA anli ram, BJP MLA Anil ram history, anil ram mla biharअनिल कुमार राम ने 2018 में भाजपा ज्वाइन की थी और उन्हें महादलित प्रकोष्ठ का जिला उपाध्यक्ष बनाया गया था।

बिहार के सीतामढ़ी की बथनाहा विधानसभा से बीजेपी विधायक अनिल कुमार राम चर्चा में हैं। उन्होंने बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (बीपीएससी) की असिसटेंट इंजीनियर की परीक्षा पास कर ली है। परीक्षा पास करने के बाद, मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि पैसा कमाना उनका लक्ष्य नहीं है। उनका लक्ष्य जनता की सेवा करना है। उन्होंने कहा कि समाज सेवा अब उनके जीवन का मुख्य लक्ष्य बन गया है। उन्होंने बताया कि उन्होंने बहुत पहले परीक्षा दे दी थी। अब पहले रिजल्ट आया है, लेकिन जब मैंने परीक्षा दी थी, तब मैंने महसूस किया था कि मैं सफल हो जाऊंगा। विधायक बनने के बाद जो रिजल्ट आया, वह और भी खुशी की बात है, लेकिन मैं नौकरी नहीं करूंगा। मैं विधायक के रूप में देश की सेवा करूंगा।

अनिल कुमार राम ने 2018 में भाजपा ज्वाइन की थी और उन्हें महादलित प्रकोष्ठ का जिला उपाध्यक्ष बनाया गया था। इससे पहले 2017 में बीपीएससी में नौकरी निकलीं थी तो उसके लिए उन्होंने अप्लाई किया था। इसके लिए मेंस एग्जाम 2019 में हुआ था। इस एग्जाम के बाद उन्होंने 2020 में बीजेपी की ओर से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। अब 2021 में उनका बीपीएससी मेंस का रिजल्ट आया है और वह परीक्षा में पास हुए हैं। उन्होंने कहा है कि वह इस नौकरी के लिए होने वाले इंटव्यू को तो देंगे लेकिन नौकरी नहीं करेंगे।

अनिल राम विधायक बनने से पहले झारखंड में निर्माण विभाग में जूनियर इंजीनियर थे। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में बीजेपी की से तरफ से टिकट मिलने से पहले वे निर्माण विभाग के कर्मचारी के तौर पर सीतामढ़ी, शिवहर और मधुबनी के बेनीपट्टी में काम करते थे। अनिल राम ने एलएम हाई स्कूल पुपरी से 2003 में मैट्रिक पास की और जिला में टॉपर रहे। इसके बाद उन्होंने एएन कॉलेज पटना से 12वीं पास की। उन्होंने अनिल राम ने बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रांची से 2015 में सिविल इंजीनियरिंग से ग्रेजुएशन की डिग्री ली है। अनिल राम के पिता जो रिटायर्ड हेड मास्टर हैं वो भी विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष रहे हैं।

Next Stories
1 JNVST 2021: नवोदय विद्यालय में एडमिशन टेस्ट के लिए एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड
2 CTET 2021 Exam: इन बातों का रखना है ध्यान, यहां से पूछे जाएंगे पेपर में सवाल
3 नवोदय विद्यालय ने जारी किए एडमिशन के लिए एंट्रेंस टेस्ट के एडमिट कार्ड, ऐसे करें डाउनलोड
ये पढ़ा क्या?
X