ताज़ा खबर
 

पिता की सलाह पाकर शुरू किया अभिनय, चाचा ने दिया पहला ब्रेक, ऐसे बने बॉलीवुड के राजा बाबू

गोविंदा ने वर्तक कॉलेज से बैचलर ऑफ कॉमर्स की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद अपने पापा के सुझाव के बाद उन्होंने फिल्म में करियर बनाने के बारे में सोचा।

गोविंदा ने सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के लिए फिल्मफेयर अवार्ड और चार जी सिने अवार्ड सहित कई सम्मान और पुरस्कार भी जीते हैं।

अपनी एक्टिंग से सबको मंत्रमुग्ध करने वाले और अपनी डांस स्टेप्स से सबको नचाने वाले गोविंदा किसी परिचय के मोहताज नहीं है। गोविंदा का पूरा नाम गोविंदा आहूजा है। गोविंदा को अभिनय का गुण विरासत में मिला था क्योंकि उनके माता पिता दोनों ही एक्टर्स थे। उनके पिता अरुण आहूजा ने इंडस्ट्री छोड़ने से पहले करीब 40 फिल्में की थीं। उनकी मां, निर्मला देवी, एक प्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका और एक अभिनेत्री थीं।

गोविंदा का शुरूआती जीवन गरीबी और संघर्ष में बीता। उनके भाई कीर्ति कुमार एक अभिनेता, निर्माता, निर्देशक और गायक हैं। उनकी बहन, कामिनी खन्ना एक लेखक, संगीत निर्देशक और गायिका हैं। गोविंदा ने सुनीता मुंजाल से 11 मार्च 1987 को शादी की। उनके दो बच्चे हैं: बेटी टीना आहूजा और बेटा यशवर्धन। टीना ने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत 2015 में फिल्म ‘सेकंड हैंड हसबैंड’ से की थी।

गोविंदा ने सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के लिए फिल्मफेयर अवार्ड और चार जी सिने अवार्ड सहित कई सम्मान और पुरस्कार भी जीते हैं। बीबीसी न्यूज ऑनलाइन सर्वेक्षण में, गोविंदा को जून 1999 में ग्रेटेस्ट स्टार ऑफ स्टेज लिस्ट में दुनियां में दसवां स्थान मिला था। अपनी लोकप्रियता के चलते गोविंदा को “चिचि भैया” के रूप में भी जाना जाता है।

गोविंदा ने वर्तक कॉलेज से बैचलर ऑफ कॉमर्स की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद अपने पापा के सुझाव के बाद उन्होंने फिल्म में करियर बनाने के बारे में सोचा। उन्हें लोकप्रिय पौराणिक सीरीयल महाभारत (1988 टीवी सीरीज) में अभिमन्यु की भूमिका की पेशकश की गई थी और उन्होंने इसके लिए ऑडिशन भी दिया था, लेकिन जल्द ही उन्हें अपनी पहली बॉलीवुड फिल्म मिल गई। उनकी पहली फिल्म ‘तन-बदन’ अभिनेत्री खुशबू के साथ आई, जिसका निर्देशन उनके चाचा आनंद ने किया था। उनकी पहली रिलीज इल्जाम (1986) थी, जो बॉक्स ऑफिस पर सफल रही, जिसके तुरंत बाद उसी साल एक और हिट फिल्म लव 86 आई थी। 2004 में, गोविंदा कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए और मुंबई से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए।

Next Stories
1 अगले सेशन से शुरू होगी दिल्ली शिक्षा बोर्ड की पढ़ाई, सीएम केजरीवाल ने गिनाई ये खास बातें
2 Sarkari Naukri: राज्य सरकार ने दिया 37 हजार कर्मचारियों को झटका, नहीं होंगे नियमित
3 7th Pay Commission: शिक्षा विभाग में इस पद पर चयनित उम्मीदवारों को मिलेगा 7th CPC अनुसार वेतनमान
ये पढ़ा क्या?
X