ताज़ा खबर
 

यूपी बोर्ड की स्कूलों में 9-12वीं के विद्यार्थियों की 80 फीसदी उपस्थिति होगी अनिवार्य!

उत्तर प्रदेश सरकार की स्कूलों में कक्षा 9 से 12वीं तक के छात्रों की स्कूल में 80 फीसदी उपस्थिति होना आवश्यक है, जबकि शिक्षकों को बाय-मेट्रिक मशीन के आधार पर उपस्थिति दर्ज करनी होगी।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार आने के बाद लगातार नए फैसले लिए जा रहे हैं। इसी क्रम में शिक्षा क्षेत्र में भी विद्यार्थियों और शिक्षकों के लिए नया नियम लाया जा सकता है, जिसके तहत कक्षा 9 से 12वीं तक के छात्रों की स्कूल में 80 फीसदी उपस्थिति होना आवश्यक है, जबकि शिक्षकों को बाय-मेट्रिक मशीन के आधार पर उपस्थिति दर्ज करनी होगी। वहीं योगी आदित्य नाथ सरकार ने एक अध्यादेश का मसौदा भी तैयार किया है, जिसमें निजी स्कूलों की ओर से ली जाने वाली स्कूल फीस को विनियमित करने की योजना बनाई है और इसे माध्यमिक शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर जारी भी करना होगा। प्रधान सचिव जितेंद्र कुमार का कहना है कि हम विद्यार्थियों (9वीं से 12वीं तक) के लिए 80 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य करने की योजना बना रहे हैं। साथ ही शिक्षकों के लिए बायमेक्ट्रिक अटेंडेंस सिस्टम भी अनिवार्य किया जाएगा।

उन्होंने ये भी कहा है कि राज्य सरकार ने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर निजी स्कूलों की ओर से ली जा रही फीस को लेकर तैयार किया गया ड्राफ्ट अपलोड कर दिया है। उन्होंने ये भी बताया कि जनता से भी इस संदर्भ में सुझाव मांगे गए हैं। विभाग की एक समितिपंजाब और गुजरात जैसे अन्य राज्यों के ऐसे ड्राफ्ट पर ध्यान देगा। उत्तर प्रदेश सरकार फीस और दाखिले रेगुलेट करने के लिए ऑर्डिनेंस लाने की तैयारी कर रही है।

HOT DEALS
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹2000 Cashback

बता दें कि दूसरी ओर सीबीएसई ने भी अपने कई नियमों में बदलाव किए हैं। हाल ही में आई खबर के मुताबिक अगले साल से सीबीएसई के विद्यार्थियों को तभी ग्रेड दी जाएगी, जब वो स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में भाग लेंगे। यह फैसला सीबीएसई बोर्ड की कक्षा 6 से कक्षा 9 तक के विद्यार्थियों के लिए लागू होगा। यह घोषणा सीबीएसई यूनिफॉर्म असेसमेंट स्कीम का हिस्सा है और इस फैसले में छात्रों की ईमानदार, देश और समाज के लिए व्यवहार आदि आंकने के लिए कहा गया है। वहीं सीबीएसई ने क्लास छठी से नौंवी तक के परीक्षा नियमों में बदलाव किया है। इसी के साथ ही सीबीएसई ने 2009 ने चले आ रहे मूल्यांकन की पद्धति सीसीई को बंद कर दिया है। अब नये शैक्षणिक सत्र 2017-18 से बच्चों की प्रतिभा का आकलन नये तरीके से किया जाएगा।

रणबीर-दीपिका एक बार फिर दिखेंगे साथ?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App