ताज़ा खबर
 

बिग बॉस के लिए पूरी तैयारी के साथ आता हूं : सलमान खान

कलर्स चैनल पर एक बार फिर बिग बॉस 12 शुरू होने जा रहा है। इसकी मेजबानी करेंगे सलमान खान। इस बार बिग बॉस 12... जोड़ियां स्पेशल है जिनमें सिर्फ खून के रिश्ते से बनी जोड़ियां नहीं होंगी बल्कि दो दोस्त, बॉस एम्पलाई, मामा-भांजा आदि विचित्र जोड़ियां होंगी। इन्हें शो के दौरान तोड़ने की कोशिश की जाएगी।

Author September 7, 2018 3:23 AM
बॉलीवुड एक्टर सलमान खान।(फाइल फोटो)

आरती सक्सेना

कलर्स चैनल पर एक बार फिर बिग बॉस 12 शुरू होने जा रहा है। इसकी मेजबानी करेंगे सलमान खान। इस बार बिग बॉस 12… जोड़ियां स्पेशल है जिनमें सिर्फ खून के रिश्ते से बनी जोड़ियां नहीं होंगी बल्कि दो दोस्त, बॉस एम्पलाई, मामा-भांजा आदि विचित्र जोड़ियां होंगी। इन्हें शो के दौरान तोड़ने की कोशिश की जाएगी। शो की शुरुआत सलमान खान की धमाकेदार एंट्री के साथ गोवा में प्रेस कांफ्रेंस के जरिये की गई। वहां सलमान की एंट्री समुद्र की लहरों के बीच से होते हुए स्पीड मोटर बोट के साथ की गई। इस बार शो में और क्या कुछ नया है? क्या सलमान के बगैर शो अधूरा है? कौन सा सीजन उनका सबसे पसंदीदा है? ऐसे ही कई सवालों के जवाब दिए सलमान खान ने। बिग बॉस की लांचिंग के दौरान पेश है सलमान खान से हुई बातचीत…

सवाल : आप बिग बॉस की शान हैं। अगर आपसे कहा जाए कि आपकी बजाय कौन सा अभिनेता बिग बॉस की शान बन सकता है तो आप किसका नाम लेंगे?
’सच्चाई यह है कि मुझसे पहले यह शो शाहरुख खान करने वाले थे। वही प्रथम पसंद थे। लेकिन तब उनके कंधे में चोट लग गई और वे अपनी एक फिल्म की शूटिंग में भी व्यस्त थे तब मुझे यह शो आॅफर हुआ। कलर्स और शाहरुख का शुक्रिया…उन्हीं की वजह से मुझे बिग बॉस शो का हिस्सा बनने का मौका मिला। लिहाजा मेरे हिसाब से शाहरुख खान ही बिग बॉस की शान हो सकते हैं।

सवाल : सलमान हर बार की तरह इस बार भी आप बिग बॉस 12 होस्ट कर रहे हैं?
’क्या करूं… बिग बॉस वाले मुझे नहीं छोड़ते और मैं बिग बॉस को नहीं छोड़ पाता। इसलिए हर बिग बॉस के सीजन में मैं जहां तंग आकर इसे छोड़ने का मन बना लेता हूं, वहीं राज नायक साहब और टीम के सभी लोग मुझे फिर से इसकी मेजबानी के लिए मना लेते हैं।
सवाल : आपने बिग बॉस के कई सीजन किए हैं। आपका इनमें पसंदीदा सीजन कौन सा है? इस शो की कौन सी बात आपको पसंद नहीं आती?
’मेरा पसंदीदा बिग बॉस सीजन फाइव था। उस सीजन में संजय दत्त और मैंने बिग बॉस शो की मेजबानी की थी। उस सीजन का मैंने बहुत आनंद उठाया। जहां तक बिग बॉस में नापसंद आने वाली बात है तो वह है कुछ प्रतियोगियों का जीतने के लिए बदतमीजी पर उतर आना। यह पारिवारिक मनोरंजन को समर्पित शो है। हमारे बुजुर्ग और बच्चे भी इसे देखते हैं। लिहाजा प्रतियोगियों को बहुत ज्यादा भावुक होने व प्रतिक्रिया देने से बचना चाहिए।

सवाल : जब आप शो का संचालन करते हैं तो क्या खास सावधानी बरतते हैं?
’मैं इस शो की एंकरिंग से पहले पूरी तैयारी के साथ आता हूं। जैसे कि मैं इस शो को होस्ट करने से पहले हर एपिसोड दो बार देखता हूं ताकि जान सकूं कि कौन सा प्रतियोगी क्या कर रहा है। सब कुछ जानने-समझने के बाद ही मैं प्रतियोगियों को लेकर अपनी राय या सलाह देता हूं। मैं बस ऐसे ही हर शनिवार को शो होस्ट करने नहीं चला आता हूं बल्कि पूरी तरह तैयारी के साथ संचालन करता हूं।
सवाल : अब तक देखा गया है कि आप उस प्रतियोगी को सबसे ज्यादा समर्थन देते हैं जो सबसे कमजोर होता है या जिसके सब खिलाफ होते हैं। इस के पीछे खास वजह?
’हां। दरअसल इन हालात में कुछ प्रतियोगी सबसे ज्यादा अवसादग्रस्त और हतोत्साहित हो जाते हैं। ऐसे में उनको प्रोत्साहन की सख्त जरूरत होती है। लिहाजा शो का एंकर होने के नाते मेरी यही कोशिश रहती है कि मैं उनको टूटने न दूं।
सवाल : बिग बॉस से इतने सालों से जुड़े रहने के बाद आपके व्यक्तित्व में कितना बदलाव आया?
’शो से कुछ न कुछ सीखने को मिलता है। इस शो में जो प्रतियोगी आते हैं, वे वास्तविक जिंदगी में बिल्कुल भी ऐसे नहीं होते हैं, लेकिन शो जीतने के लिए वे चालाकियां करते हैं, राजनीति करते हैं। इस दौरान इन प्रतियोगियों से बहुत कुछ सीखने को मिलता है क्योंकि उनकी ओर से कही गई कई बातें उनकी जिंदगी में भी हुई होती हैं। लिहाजा मुझे भी यह सब देख कर पता चलता रहा है कि लोगों को क्या-क्या पापड़ बेलने पड़ते हैं।

सवाल :आपके हिसाब से बिग बॉस विजेता में क्या विशेषताएं होनी चाहिए?
’बिग बॉस का विजेता वही घोषित होता है जिसमें इस गेम को समझने की क्षमता होती है। साथ ही, वह हर काम करते वक्त न सिर्फ दिमाग का इस्तेमाल करता है, बल्कि अपनी प्रतिष्ठा व आत्मसम्मान को बनाए रखता है।
सवाल : आप सोनी चैनल पर ‘दस का दम’ की भी होस्टिंग कर रहे हैं, लेकिन यह शो बिग बॉस जितना लोकप्रिय नहीं हुआ?
’‘दस का दम’ एक मनोरंजक शो है जिसमें आम आदमी और प्रतियोगी बहुत ज्यादा शामिल नहीं होता है। जबकि बिग बॉस में बहुत सारे प्रतियोगी होते हैं। उनके बहुत सारे चाहने वालों का लगाव होता है। इसके अलावा इसमें जनता भी मत डालती है। इस लिहाज से ‘दस का दम’ और इस बिग बॉस की कोई तुलना ही नहीं है। ‘दस का दम’ अभी 2 सीजन था जबकि बिग बॉस 12 आ रहा है।
सवाल : टीवी पर हर कोई आपको रियेल्टी शो में लेने के लिए बेकरार है, लेकिन आप काफी सालों से बिग बॉस का ही हिस्सा हैं। इसके पीछे कोई खास वजह?
’हां, यह सच है कि मुझे आए दिन कई सारे शो की पेशकश की जाती है। लेकिन मुझे यही शो अच्छा लगता है। इससे मैं अपने आपको जुड़ा हुआ महसूस करता हूं। मुझे इस शो का फारमेट अच्छा लगता है। मुझे हफ्ते के आखिर में बिग बॉस हाउस के सदस्यों से बात करना और उनसे पूरे हफ्ते का हाल लेना अच्छा लगता है। ये लोग तीन महीने में घर के सदस्य जैसे हो जाते हैं। वे मुझे अपने घर का मुखिया मानते हैं और मुझे अपनी समस्याएं बताते हैं। यह सब कुछ मुझे बहुत अच्छा लगता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App