ताज़ा खबर
 

कौन थीं रानी पद्मावती? 1540 के पहले तो जिक्र भी नहीं आया था…

पद्मिनी, जिन्हें पद्मावती के नाम से भी जाना जाता था, को 13वीं सदी की एक रानी बताया जाता है।

शुक्रवार को जयपुर के जयगढ़ किले में राजपूत करणी सेना ने रानी पद्मावती पर फिल्म बना रहे डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की पिटाई कर दी थी। पद्मिनी, जिन्हें पद्मावती के नाम से भी जाना जाता था, को 13वीं सदी की एक रानी बताया जाता है। भंसाली पर आरोप लगा है कि उन्होंने एेतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की और फिल्म में रानी पद्मिनी और सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी के बीच रोमांटिक दृश्य फिलमाए हैं। इसके बाद भंसाली ने विश्वास दिलाया है कि फिल्म कोई भी आपत्तिनजक दृश्य नहीं हैं, लेकिन करणी सेना ने मांग की है कि फिल्म का नाम बदला जाए और उसकी रिलीज से पहले उन्हें यह फिल्म दिखाई जाए। लेकिन जिस रानी पद्मिनी पर इतना बवाल मचा है, उसका इतिहास आखिर क्या है। कौन थी रानी पद्मिनी।

इतिहास के मुताबिक 1540 में मलिक मुहम्मद जायसी द्वारा लिखे गए महाकाव्य पद्मावत में सबसे पहले रानी पद्मिनी का जिक्र आता है। इसके मुताबिक रानी पद्मिनी राजा रतन सिंह की पत्नी थीं। साल 1303 में अलाउद्दीन खिलजी ने मेवाड़ राज्य चित्तौड़गढ़ पर हमला किया था। राजपूत इतिहासकारों की मानें तो वह रानी पद्मिनी को हासिल करना चाहता था। अलाउद्दीन ने रतन सिंह को बंदी बना लिया और पद्मिनी को संदेश भेजा कि वह उसके पति को तभी छोड़गा, जब वह उसके साथ आने के लिए राजी होगी। इसके बाद पद्मिनी ने राणा रतन सिंह को छुड़ाने के लिए 700 सैनिक भेजे, जिन्होंने राजा को छुड़ा लिया। लेकिन खिलजी ने सैनिकों और राजा का पीछा किया। इसके बाद चित्तौड़गढ़ के किले में युद्ध छिड़ गया, जिसमें राणा रतन सिंह मारा गया। इसके बाद रानी पद्मिनी ने आत्मदाह (जौहर) कर जान दे दी।

कुछ इतिहासकारों का तो यह भी कहना है कि असल में कोई रानी पद्मावती ही नहीं थी, वह महज सूफी संत जायसी की एक कल्पना है। कहा जाता है कि जायसी ने तुलसीदास के रामचरितमानस लिखने से 30 साल पहले ही अवधी में पद्मावत लिखा था। किंवदंती के मुताबिक इस बात का कोई एेतिहासिक प्रमाण नहीं है कि रानी पद्मिनी असल में थी या नहीं। किंवदंती में मंगोलों को पराजित करने वाले खिलजी की महानता का गुणगान गाने के अलावा उसे भारत का सबसे महान प्रशासकों में से एक बताया गया है। इसके अलावा 16वीं सदी की पौराणिक कथा गोरा बादल पद्मिनी चौपाई में भी उनका जिक्र मिला है, जिसे राजपूत एक सच्ची कहानी के रूप में मानते हैं।

पढ़ें पूरा बजट कवरेज

शुक्रवार को करणी सेना ने डायरेक्टर संजय लीला भंसाली पर हमला कर दिया था।

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी; फिल्म के नाम को बदलने की मांग, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.