ताज़ा खबर
 

ICC T-20 World Cup: गेल के आगे इंग्लैंड फेल, 183 रन बनाकर 6 विकेट से जीता वेस्टइंडीज

विध्वंसक बल्लेबाज क्रिस गेल ने अपनी ख्याति के अनुरूप वानखेड़े स्टेडियम स्टेडियम में आज यहां छक्कों की बरसात करके नाबाद शतक जमाया

Author मुंबई | March 17, 2016 5:26 AM
(फोटो-एजेंसी)

विध्वंसक बल्लेबाज क्रिस गेल ने अपनी ख्याति के अनुरूप वानखेड़े स्टेडियम स्टेडियम में बुधवार यहां छक्कों की बरसात करके नाबाद शतक जमाया जिससे 2012 के चैंपियन वेस्टइंडीज ने आईसीसी विश्व टी20 चैंपियनशिप के ग्रुप मैच में इंग्लैंड के अपेक्षाकृत बड़े लक्ष्य को बौना साबित करके छह विकेट से धमाकेदार जीत दर्ज की।

गेल को पहले छह ओवर में खेलने का खास मौका नहीं मिला लेकिन इसके बाद स्टेडियम में चारों तरफ उनके छक्कों की धूम ही मची रही। बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने 48 गेंदों पर नाबाद 100 रन की धमाकेदार पारी खेली जिसमें 11 गगनदायी छक्के और पांच चौके शामिल हैं। उनकी इस आकर्षक और आतिशी पारी से वेस्टइंडीज ने 18.1 ओवर में चार विकेट पर 183 रन बनाकर 11 गेंद शेष रहते ही लक्ष्य हासिल कर दिया। गेल ने अपनी पारी के दौरान टी20 अंतरराष्ट्रीय में सर्वाधिक छक्के जड़ने का रिकार्ड बनाया।

वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला किया लेकिन उसकी गेंदबाजी में पैनापन नहीं दिखा जिससे इंग्लैंड छह विकेट पर 182 रन का मजबूत स्कोर खड़ा करने में सफल रहा। उसके लिये जो रूट ने 36 गेंदों का सामना करके सर्वाधिक 48 रन बनाये। उन्होंने एलेक्स हेल्स (26 गेंद पर 28) के साथ शुरूआती दस ओवरों में रन बनाने का जिम्मा उठाया जबकि जोस बटलर (20 गेंदों पर 30),  कप्तान इयोन मोर्गन (14 गेंदों पर नाबाद 27) और बेन स्टोक्स (सात गेंदों पर 15 रन) ने डेथ ओवरों में रन बटोरे। इंग्लैंड ने आखिरी चार ओवरों में 54 रन बनाये।

वेस्टइंडीज ने जोनाथन चार्ल्स का विकेट पहले ओवर में गंवा दिया जबकि गेल को पहले छह ओवर में केवल दस गेंदें खेलने का मौका मिला जिसमें उन्होंने 14 रन बनाये। उन्होंने रीस टोपले के पारी के दूसरे ओवर में चौका और छक्का जड़ा लेकिन इसके बाद उन्हें अगली गेंद पारी के छठे ओवर में खेलने को मिली।

इस बीच मर्लोन सैमुअल्स (27 गेंदों पर 37 रन) ने लगातार तीन ओवर खेले और अंतिम गेंद पर रन लेकर स्ट्राइक भी अपने पास रखी। उन्होंने हालांकि डेविड विली पर लगातार दो और स्टोक्स पर तीन चौके जड़कर कैरेबियाई प्रशंसकों को निराश नहीं होने दिया। मोर्गन ने पावर प्ले के तुरंत बाद लेग स्पिनर आदिल राशिद को गेंद थमायी जिन्होंने सैमुअल्स को लंबा शाट खेलने के लिये ललचाकर लांग आन पर कैच कराया।

सैमुअल्स ने अपनी पारी में आठ चौके लगाये और गेल के साथ दूसरे विकेट के लिये 55 रन जोड़े। राशिद के अगले ओवर में गेल ने हालांकि लांग आन पर लगातार दो लंबे छक्के जड़कर इस स्पिनर की खुशी काफूर कर दी। इसके बाद उन्होंने स्टोक्स को भी यही सबक सिखाया लेकिन इस बार दोनों छक्के स्क्वायर लेग क्षेत्र में गये।

गेल ने इससे टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक छक्के लगाने के ब्रैंडन मैकुलम (91) के रिकार्ड को तोड़ा और अगले ओवर में दिनेश रामदीन (12) के आउट होने के बाद 27 गेंद पर अपना 14वां अर्धशतक पूरा किया। नये बल्लेबाज डवेन ब्रावो भी आते ही पवेलियन लौट गये, लेकिन गेल पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। पारी के 14वें ओवर में उन्होंने मोइन की आखिरी तीन गेंदों को छह रन के लिये भेजकर वेस्टइंडीज की जीत सुनिश्चित कर दी थी।

उन्होंने इसके बाद विली की लगातार दो गेंदों पर भी स्क्वायर लेग क्षेत्र में छक्के जमाये और फिर स्टोक्स की गेंद पर एक रन लेकर 47 गेंदों में अपना शतक पूरा किया जो टी20 अंतरराष्ट्रीय में तीसरा सबसे तेज शतक भी है। यह 2007 में पहले विश्व टी20 के शुरूआती मैच में 117 रन की पारी खेली थी। उसके बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस छोटे प्रारूप में उनका यह पहला शतक है। आंद्रे रसेल 16 गेंदों पर 16 रन बनाकर नाबाद रहे।

इससे पहले इंग्लैंड के हर अगले बल्लेबाज ने पिछले बल्लेबाज की तुलना में बेहतर स्ट्राइक रेट से रन बनाये। वेस्टइंडीज के लिये रसेल और ब्रावो ने दो-दो विकेट लिये। जेरोम टेलर का अपने दूसरे ओवर में लाइन और लेंथ के लिये जूझना इंग्लैंड के लिये फायदेमंद साबित हुआ। इस ओवर में 18 रन बने जिसमे जैसन राय के दो चौके शामिल हैं। दूसरी तरफ टेलर के साथ गेंदबाजी का आगाज करने वाले सैमुअल बद्री के दूसरे ओवर में हेल्स ने लगातार तीन चौके लगाये।

बद्री ने हालांकि पहले बदलाव के रूप में आये रसेल की गेंद पर जैसन का डाइव लगाकर कैच लिया। जैसन ने 15 रन बनाये और हेल्स के साथ पहले विकेट के लिये 37 रन जोड़े। उनका स्थान लेने के लिये उतरे रूट ने अपने कौशल और तकनीक का अच्छा नमूना पेश किया तथा हेल्स के साथ दूसरे विकेट के लिये 55 रन की साझेदारी की। उन्होंने रसेल और टेलर पर छक्के जड़कर लंबे शाट खेलने के अपनी क्षमता से भी कैरेबियाई टीम का परिचय कराया।

हेल्स हालांकि अपनी ख्याति के अनुरूप अपेक्षित तेजी से नहीं खेल पाये। उन्होंने सुलेमान बेन की फ्लाइट लेती गेंद पर बोल्ड होने से पहले 25 गेंदों पर 28 रन बनाये। रसेल ने अपने दूसरे स्पैल में आकर रूट को अर्धशतक बनाने से रोका। रूट ने लंबा शाट खेलकर पचासा पूरा करना चाहा लेकिन गेंद सीमा रेखा पर खड़े टेलर के हाथों में समा गयी। रूट ने तीन चौके और दो छक्के लगाये।

डेथ ओवरों में स्कोर को गति देने की जिम्मेदारी बटलर और मोर्गन की थी जिसे उन्होंने बखूबी निभाया। बटलर ने ब्रदी, सुलेमान बेन और डवेन ब्रावो की गेंदों को छह रन के लिये भेजा। ब्रावो पर एक और छक्का लगाने के प्रयास में उन्होंने भी सीमा रेखा पर कैच थमाया। इससे कोई असर नहीं पड़ा क्योंकि उनका स्थान लेने के लिये उतरे स्टोक्स ने रसेल पर चौका और छक्का जड़कर शुरूआत की। ब्रावो के आखिरी ओवर में दो विकेट गिरे लेकिन इस बीच 18 रन भी बने जिसमें मोर्गन और मोईन अली के छक्के शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App