ताज़ा खबर
 

यादव सिंह मामले पर नोएडा प्राधिकरण की घेराबंदी शुरू

सीबीआइ ने यादव सिंह मामले पर पहली चार्जशीट दायर करने के बाद प्राधिकरण की घेराबंदी शुरू कर दी है।

Author नोएडा | March 23, 2016 3:27 AM
चीफ इंजीनियर यादव सिंह

सीबीआइ ने यादव सिंह मामले पर पहली चार्जशीट दायर करने के बाद प्राधिकरण की घेराबंदी शुरू कर दी है। बिजली केबल को भूमिगत करने के 954 करोड़ रुपए के टेंडर की आवंटन प्रक्रिया और विवाद के बावजूद सपा सरकार के कार्यकाल में काम करने वाली कंपनियों को भुगतान जारी होना जांच के दायरे में है। सीबीआइ ने प्राधिकरण से इस काम के बाबत 19 बिंदुओं पर जवाब मांगा है।

सूत्रों के अनुसार इस मामले में सबसे पहले गिरफ्तार किए गए परियोजना अभियंता रामेंद्र की गिरफ्तारी के 90 दिन पूरे होने से पहले सीबीआइ ने आनन-फानन में 14 अफसरों और कंपनियों की संलिप्तता बताते हुए चार्जशीट दायर की थी। जांच को आगे जारी रखने और नए तथ्यों के आधार पर सप्लीमेंट्री चार्जशीट आगे भी दायर करने का दावा भी किया गया था। बताया जा रहा है कि सीबीआइ ने तीन दिनों के भीतर 19 बिंदुओं पर जवाब मांगे थे, लेकिन बुधवार से होली की छुट्टी होने के कारण प्राधिकरण की ओर से अब सोमवार तक जवाब भेजा जाएगा।

जानकारों के अनुसार यादव सिंह से नजदीकी रखने वाली कंपनियों को यह ठेका दिया गया था। जांच में यह भी साबित हो चुका है कि जिस तारीख को वास्तविक रूप में कंपनियों को काम आवंटित हुआ था, तब तक 60 फीसदी काम किया जा चुका था। एनकेजी इंफ्रास्ट्रक्चर, तिरुपति कंस्ट्रक्शंस और जेएसपी कंस्ट्रक्शन कंपनियों पर घोटाले में शामिल होने का आरोप है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App