ताज़ा खबर
 

दिल्ली चुनाव: सोनिया का ‘प्रचारक’ मोदी व ‘धरनेबाज़’ केजरीवाला पर निशाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और आप प्रमुख अरविन्द केजरीवाल पर हमला बोलते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज यहां कहा कि एक ‘‘प्रचारक’’ हैं और दूसरा ‘‘धरनेबाज।’’ इसके साथ ही उन्होंने मतदाताओं से दिल्ली को ऐसे लोगों से बचाने को कहा जो सिर्फ ‘‘खोखले वादे’’ करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘एक पार्टी के पास प्रचारक हैं […]

Author February 1, 2015 7:31 PM
सोनिया गांधी ने कहा, “भाजपा और आप सिर्फ बड़ी बड़ी बातें कर सकती हैं और खोखले वादे कर सकती हैं।” (फ़ोटो-पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और आप प्रमुख अरविन्द केजरीवाल पर हमला बोलते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज यहां कहा कि एक ‘‘प्रचारक’’ हैं और दूसरा ‘‘धरनेबाज।’’ इसके साथ ही उन्होंने मतदाताओं से दिल्ली को ऐसे लोगों से बचाने को कहा जो सिर्फ ‘‘खोखले वादे’’ करते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘एक पार्टी के पास प्रचारक हैं जो सिर्फ ‘‘प्रचार’’ करते हैं वहीं दूसरी पार्टी के पास धरनेबाज हैं जो हमेशा धरनों के आयोजन में व्यस्त रहते हैं। दिल्ली को सुशासन की जरूरत है न कि झूठे वादों की…। भाजपा और आप सिर्फ बड़ी बड़ी बातें कर सकती हैं और खोखले वादे कर सकती हैं।’’

सोनिया ने कहा, ‘‘बहाने की राजनीति करने वालों से सतर्क रहने की जरूरत है। देश सिर्फ नारेबाजी से नहीं चल सकता।’’

दिल्ली विधानसभा के लिए सात फरवरी को होने वाले चुनाव के क्रम में सोनिया बदरपुर के पास मीठापुर में अपनी पहली चुनावी सभा को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार पूर्ववर्ती संप्रग सरकार द्वारा शुरू की गयी योजनाओं को ‘‘कमजोर ’’ कर रही है।

उन्होंने इस क्रम में खाद्य सुरक्षा और भूमि अधिग्रहण का जिक्र किया और कहा कि लोकसभा चुनावों में बड़े स्तर पर किए गए वादों के बावजूद भ्रष्टाचार पर काबू के लिए सरकार कुछ नहीं कर रही है।

सोनिया ने विधानसभा चुनाव की तारीख घोषित होने के पहले दिल्ली के कुछ क्षेत्रों में सांप्रदायिक हिंसा होने का मुद्दा भी उठाया और आरोप लगाया कि यह राज्य की ‘‘सत्ता हासिल’’ करने के लिए किया गया था।

कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ‘‘कुछ ऐसी ताकतें हैं जो त्रिलोकपुरी और दिलशाद गार्डन जैसी घटनाओं को अंजाम देती हैं। ऐसी ताकतों को परास्त करना होगा जो नफरत की राजनीति को बढ़ावा देते हैं।’’ इसके साथ ही उन्होंने लोगों से धर्मनिरपेक्ष ताकतों को मजबूत बनाने की अपील की।

उन्होंने कहा कि 2013 के विधानसभा चुनावों में जब खंडित जनादेश आया तो कांग्रेस ने यह सोचकर सरकार बनाने के लिए आप का समर्थन किया कि वे बेहतर दिल्ली बनाने के अपने वादों को पूरा करेंगे। ‘‘लेकिन वे सरकार नहीं चला सके और भाग गए।’’

सोनिया ने कहा, ‘‘मैं उनसे (आप) पूछती हूं कि क्या यह उनका काम नहीं है कि भ्रष्टाचार से मुकाबला करें और सस्ता पानी और बिजली मुहैया कराएं। और उसके बाद दूसरी पार्टी (भाजपा) दिल्ली में चुनाव में देर करती रही और राष्ट्रपति शासन के नाम पर यहां शासन जारी रखा।’’

कई ‘‘सामाजिक और क्रांतिकारी कदम’’ उठाने के लिए कांग्रेस नीत पूर्ववर्ती सरकार की सराहना करते हुए सोनिया ने कहा कि मोदी सरकार उन योजनाओं को ‘‘कमजोर कर’’ लोगों से उनके अधिकार छीन रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि ‘‘उनके झूठे वादों की वास्तविकता’’ यह है कि संप्रग सरकार जो खाद्य सुरक्षा कानून लायी थी, मोदी सरकार ऐसे बदलाव लाने पर विचार कर रही है कि इसमें लाभार्थिोयों की संख्या आबादी के 67 प्रतिशत से घटकर 40 प्रतिशत रह जाएगी।

किसानों को संबोधित करते हुए सोनिया ने कहा कि जिन्होंने उन्हें ‘‘सुनहरे सपने’’ दिखाए वे अब उन्हें बीज और उर्वरक से भी वंचित कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम भूमि अधिग्रहण कानून क्यों लाए? हमने यह सुनिश्चित करने के लिए ऐसा किया ताकि किसानों की जमीन को कोई भी जबरदस्ती नहीं ले सके। मोदी सरकार ने क्या किया? उसने अध्यादेश लाकर ऐसा रास्ता बना दिया है जहां कोई भी किसानों की जमीन पर कब्जा कर सकता है।’’

उन्होंने कहा कि देश को आरटीआई कानून देने के लिए हमने कठोर परिश्रम किया लेकिन भ्रष्टाचार मुक्त सरकार की बात करने वालों ने सीआईसी आयुक्त का पद खाली रखा है और भ्रष्ट लोगों को खुली छूट दे दी है।’’

सोनिया ने कहा कि मोदी ने बड़े बड़े वादे किए थे और वह उनसे सवाल करना चाहेंगी, ‘‘वह काला धन कहां है जिससे हर नागरिक को 15 लाख रुपए मिलने की बात की गयी थी।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App