लोकप्रिय सितारों के मेहनताने का गणित गड़बड़ाया

आधी क्षमता से चल रहे थियेटरों के कारण बड़े बजट की महंगी फिल्मों के निर्माताओं के सामने संकट खड़ा हो गया है।

Salman Khan
सुपरस्टार सलमान खान (Photo- Indian Express)

आधी क्षमता से चल रहे थियेटरों के कारण बड़े बजट की महंगी फिल्मों के निर्माताओं के सामने संकट खड़ा हो गया है। तीन-चार सौ करोड़ की फिल्मों को लागत निकालना भारी पड़ रहा है। लोकप्रिय कलाकारों की फिल्में, जो पहले तीन दिन में सौ करोड़ का धंधा करती थीं, आज हफ्ते भर में 25-30 करोड़ भी नहीं जुटा पा रही हैं। इसका सीधा असर अब लोकप्रिय कलाकारों के मेहनताने पर पड़ने लगा है और उन्हें अपनी फीस कम करनी पड़ रही है।

बालीवुड में धंधे की ‘वाट लगी’ पड़ी है। मराठी में ‘बुरी स्थिति’ को वाट लगना कहा जाता है। मात्र तीन दिनों में सौ करोड़ रुपए से ऊपर का धंधा करने वाली लोकप्रिय सितारों की फिल्में हफ्ते भर में 25-30 का कारोबार करने में हांपती नजर आ रही है। एक निर्माता का कहना है, ‘हमारे धंधे को नजर लग गई।’ सलमान के एक निर्माता ने उनसे अपना मेहनताना कम करने का आग्रह किया है। निर्माता कोई और नहीं सलमान खान के परम मित्र साजिद नाडियाडवाला हैं। सलमान और निर्माता-निर्देशक साजिद नाडियाडवाला अच्छे मित्र हैं। दोनों अब तक ‘जीत’, ‘जुड़वां’, ‘हर दिल जो प्यार करेगा’, ‘मुझसे शादी करोगी’, ‘जानेमन’, ‘किक’ जैसी फिल्में साथ कर चुके हैं। छह-सात साल से दोनों ने साथ काम नहीं किया है।

बीते दिनों साजिद ने सलमान खान को लेकर कभी ‘ईद कभी दीवाली’ नामक फिल्म की घोषणा की मगर बाद में लगा कि कहीं ईद और दीवाली के नाम पर कोई उपद्रव शुरू न हो जाए इसलिए उसका नाम बदल कर ‘भाईजान’ कर दिया गया था। कहा जा रहा है कि सलमान खान ने अपने इस करीबी मित्र की फिल्म करने के लिए हरी झंडी दे दी है और जनवरी से फिल्म की शूटिंग शुरू हो सकती है। साजिद ने सलमान से अपने मेहनताने में कटौती करने के लिए कहा। कटौती के बाद मेहनताना कोई सवा सौ करोड़ बताया गया।

सवा सौ करोड़ मेहनताना अगर सिर्फ हीरो लेगा तो फिल्म का बजट कितना होगा? सौ-सवा सौ करोड़ हीरो पर खर्च हो रहा हो तो उस फिल्म को चार-पांच सौ करोड़ का धंधा करना चाहिए, वरना निर्माता को क्या खाक मिलेगा। मगर स्थिति यह है कि सौ करोड़ से ज्यादा मेहनताना लेने वाले सलमान खान की हालिया रिलीज फिल्म ‘अंतिम’ का टिकट खिड़की पर हफ्ते भर का एकत्रण मुश्किल से 30-35 करोड़ भी नहीं हुआ है मगर उसे मीडिया में हिट फिल्म बताया जा रहा है। हिट संभवतया इसलिए कहा जा रहा है कि यह सलमान खान की ‘क्विकी’ फिल्म थी।

मतलब कम समय और कम बजट में बनने वाली फिल्म। सभी निर्माता ऐसी फिल्में अपने दफ्तर चलाने के लिए बनाते रहते हैं ताकि स्टाफ का खर्च निकलता रहे। सलमान ने भी बतौर निर्माता यह फिल्म कम बजट में मात्र छह महीने में बना कर तैयार कर ली थी। इस फिल्म के साथ ही जान अब्राहम की ‘सत्यमेव जयते 2’ रिलीज हुई। दोनों फिल्मों का हफ्ते भर का धंधा मिला लिया जाए, तब भी सौ करोड़ क्या पचास करोड़ नहीं होता है।

थियेटर आधी क्षमता से चलाए जा रहे हों, धंधा आधा हो चुका हो तो उसका असर फिल्मों के बजट, हीरो-हीरोइनों के साथ कलाकारों के मेहनताने पर होना लाजिमी है। कोरोना महामारी के बाद लगभग सभी लोकप्रिय कलाकारों के मेहनताने पर यह गाज गिरी है। हालात अभी तक सामान्य स्थिति में अगर नहीं आए हैं तो इसकी वजह यह है कि अभी तक कोई ऐसी फिल्म रिलीज नहीं हुई है, जिसने टिकट खिड़की पर दो-चार सौ करोड़ का एकत्रण किया हो। इसलिए जब तक ऐसी कोई फिल्म रिलीज नहीं हो जाती तब तक सभी लोकप्रिय कलाकारों को फीस में कटौती का सामना करना पड़ेगा।

पढें संपादक की पसंद समाचार (Editorspick News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।