ताज़ा खबर
 

मुंबई ने शाही अंदाज में 41वीं बार रणजी खिताब जीता

फाइनल में मुंबई ने सौराष्‍ट्र को एक पारी और 21 रन से हराया। श्रेयस अय्यर को शतकीय पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।

Author पुणे | Updated: February 26, 2016 8:03 PM
रणजी ट्रॉफी फाइनल में शतक जड़ने के बाद श्रेयर अय्यर। (PTI File Photo)

शार्दुल ठाकुर की अगुवाई में तेज गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन से मुंबई ने सौराष्ट्र को शुक्रवार (26 फरवरी) को यहां तीसरे दिन ही पारी और 21 रन से हराकर रिकार्ड 41वीं बार रणजी ट्राफी राष्ट्रीय क्रिकेट चैंपियनशिप का खिताब जीता। मुंबई ने अपनी पहली पारी में 371 रन बनाकर 136 रन की बढ़त ली और फिर सौराष्ट्र को दूसरी पारी में 121 रन पर ढेर कर दिया। शार्दुल ठाकुर ने 26 रन देकर पांच विकेट लिये जबकि पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले धवल कुलकर्णी ने 34 रन देकर दो और बलविंदर सिंह संधू ने 21 रन देकर दो विकेट हासिल किये।

यह रणजी फाइनल में दसवां अवसर है जबकि मुंबई ने किसी टीम को पारी के अंतर से हराया। सौराष्ट्र लगातार दूसरी बार खिताब से वंचित रहा। इससे पहले 2012-13 में वह मुंबई से पारी और 125 रन से हार गया था। मुंबई ने पिछले तीन साल में पहली बार खिताब जीता। यह उसका 45वां फाइनल था जिसमें 41 बार वह जीतने में सफल रहा। कर्नाटक उससे काफी पीछे आठ खिताब के साथ दूसरे स्थान पर है।

तेज गेंदबाजों को विकेट से अब भी मदद मिल रही थी और सौराष्ट्र के बल्लेबाज दूसरी पारी में शार्दुल और अन्य बल्लेबाजों के सामने संघर्ष करते हुए नजर आये। उसकी तरफ से पांच बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे जिनमें चेतेश्वर पुजारा ने सर्वाधिक 27 रन बनाये।

मुंबई ने सुबह अपनी पहली पारी आठ विकेट पर 262 रन से आगे बढ़ायी लेकिन सिद्धेष लाड (88) और सिंधू (नाबाद 34) ने आखिरी विकेट के लिये 103 रन की साझेदारी करके सौराष्ट्र की वापसी की उम्मीदों को करारा झटका लगाया। यह साझेदारी आखिर में महत्वपूर्ण साबित हुई।

सौराष्ट्र जब बल्लेबाजी के लिये उतरा तो उसने लंच से पहले ही अपने दोनों सलामी बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिये। इससे दूसरे सत्र में उसकी टीम ने बेहद दबाव में शुरुआत की। पुजारा भी लंबे समय तक एक छोर नहीं संभाल पाये। भारत का यह टेस्ट बल्लेबाज ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंद को खेलने के प्रयास में गली में कैच देकर पवेलियन लौट गया।

कप्तान जयदेव शाह ने 17 रन बनाये। उनके आउट होने के बाद मुंबई ने पारी की जीत के लिये प्रयास तेज कर दिये। जयदेव उनादकट ने आखिरी क्षणों में एक चौके और एक छक्के की मदद से नाबाद 16 रन बनाये लेकिन वह पारी की हार नहीं टाल पाये। सौराष्ट्र ने अपनी पहली पारी में 235 रन बनाये थे।

श्रेयस अय्यर को मुंबई की पहली पारी में 117 रन बनाने के लिये मैन ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने इस सत्र में 73.38 की औसत से 1321 रन बनाये जिसमें चार शतक और सात अर्धशतक शामिल हैं। अय्यर ने कहा, ‘‘अभी आप अपनी भावनाएं व्यक्त नहीं कर सकते। रणजी ट्रॉफी जीतना हर किसी का सपना होता है। हमने वास्तव में इसके लिये कड़ी मेहनत की थी और यह शानदार रहा। पिछले सत्र में मैंने 810 रन बनाये और इस सत्र में मैंने इससे अधिक रन बनाने को अपना लक्ष्य बनाया था। मैं इससे आगे निकला और 1300 से अधिक रन बनाने में सफल रहा। यह शानदार अहसास है।’’

सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव शाह ने कहा कि उनकी टीम मौकों का फायदा नहीं उठा पायी। उन्होंने कहा, ‘‘यह बेहद निराशाजनक है। कैच लेने से मैच जीते जाते हैं और हमने दो महत्वपूर्ण मौके गंवाये लेकिन मेरी टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया। प्लेट से हम एलीट में पहुंचे और फिर फाइनल में जगह बनाने में सफल रहे। हमारे लिये यह सत्र अच्छा रहा।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories