ताज़ा खबर
 

French open 2016: मिक्सड डबल में पेस ने रचा इतिहास, पहली बार जीता फ्रेंच ऑपन खिताब

भारतीय टेनिस स्टार लिएंडर पेस और स्विट्जरलैंड की उनकी जोड़ीदार मार्टिना हिंगिस ने शुक्रवार को फ्रेंच ओपन का मिश्रित युगल खिताब जीतकर करियर स्लैम पूरा किया।

Author पेरिस | Published on: June 4, 2016 2:55 AM
Leander Paes, Marcin Matkowski, Paes Matkowski, Wimbledon 2016, Leander Paes News, Leander Paes latest Newsभारतीय टेनिस स्टार लिएंडर पेस। (फाइल फोटो)

भारतीय टेनिस स्टार लिएंडर पेस और स्विट्जरलैंड की उनकी जोड़ीदार मार्टिना हिंगिस ने शुक्रवार को फ्रेंच ओपन का मिश्रित युगल खिताब जीतकर करियर स्लैम पूरा किया। फाइनल में दो भारतीय पेस और सानिया मिर्जा आमने सामने थे। पेस और हिंगिस ने हालांकि सानिया और क्रोएशिया के उनके जोड़ीदार इवान डोडिग की दूसरी वरीयता प्राप्त जोड़ी से पहला सेट गंवाने के बाद शानदार वापसी करके 4-6, 6-4, 10-8 से जीत दर्ज की।

पेस और हिंगिस ने पिछले साल विंबलडन और यूएस ओपन के अलावा इस साल के शुरू में ऑस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब भी जीता था और इस तरह से वे करियर स्लैम पूरा करने में सफल रहे।

पेस ने अपने करियर में पहली बार फ्रेंच ओपन का मिश्रित युगल का खिताब जीता। यह उनका ग्रैंडस्लैम में ओवरआल दसवां खिताब है। वह अब कुल 18 ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुके हैं जिनमें आठ पुरूष युगल के खिताब शामिल हैं।

फ्रेंच ओपन में वर्ष 2012 की मिश्रित युगल चैंपियन सानिया और पेस ने गुरुवार रात सेमीफाइनल मुकाबले जीतकर दो भारतीयों के बीच मुकाबले की नींव रखी थी। पेस ने इस जीत से ओलंपिक में मिश्रित युगल में सानिया का जोड़ीदार बनने के अपने दावे को भी मजबूत कर दिया है।

पेस पुरुष युगल में पहले ही करियर स्लैम पूरा कर चुके थे और अब उन्होंने मिश्रित युगल में भी यह कारनामा करके भारतीय खेलों में नया इतिहास रचा। उन्होंने अपना यह खिताब अपने पिता और पूर्व हाकी खिलाड़ी वेस पेस को समर्पित किया।

पेस ने कहा कि करियर ग्रैंडस्लैम एक व्यक्ति को समर्पित है और वह मेरे पिताजी हैं। मैं आपसे प्यार करता हूं और मुझे जिंदगी में सब कुछ देने के लिये आपका आभार। उन्होंने अपनी साथी हिंगिस और प्रतिद्वंद्वी टीम की भी तारीफ की। पेस ने कहा कि यह कोर्ट आपके (हिंगिस के) साथ साझ करके वास्तव में खुशी हो रही है। आप (सानिया और डोडिग) बेजोड़ चैंपियन हो। जिस तरह से आप यहां तक पहुंचे वह अविश्वसनीय है।

दोनों टीमों ने शुरू से ही एक दूसरे को कड़ी चुनौती दी। पहले सेट में लगातार नौ गेम तक उन्होंने अपनी सर्विस बचाये रखी। सानिया और डोडिग को आखिर में दसवें गेम में ब्रेक प्वाइंट का एक मौका मिला जिसे वे भुनाने में सफल रहे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तो इस वजह से ओलंपिक का स्वर्ण पदक गंवा सकते हैं उसैन बोल्ट
2 निराशाजनक रही शिव कपूर और जीव मिल्खा सिंह की शुरुआत
3 इंडोनेशिया ओपन के क्वार्टर फाइनल में साइना की हार
ये पढ़ा क्या...
X