ताज़ा खबर
 

कीर्ति पर गिरी गाज, दिग्विजय ने पूछा: क्या अगला नंबर शत्रुघ्न का?

भाजपा की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि दरभंगा से सांसद कीर्ति आजाद को पार्टी विरोधी उनकी गतिविधियों के लिए तत्काल प्रभाव से पार्टी से निलंबित किया जाता है।

Author नई दिल्ली | December 24, 2015 01:46 am
भाजपा से निलंबित सांसद कीर्ति आजाद।

भाजपा सांसद और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर दिल्ली किक्रेट निकाय डीडीसीए में अनियमितताओं के आरोपों को लेकर सार्वजनिक रूप से निशाना साधने पर बुधवार को निलंबित कर दिया। पार्टी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि दरभंगा से सांसद कीर्ति आजाद को पार्टी विरोधी उनकी गतिविधियों के लिए तत्काल प्रभाव से पार्टी से निलंबित किया जाता है।

पार्टी ने कहा कि आजाद को एक कारण बताओ नोटिस जारी कर उनसे उनके पार्टी विरोधी व्यवहार की वजह बताने को कहा गया है। पार्टी ने कहा कि उनके खिलाफ आगे की कार्रवाई उनके जवाब पर निर्भर करेगी। आजाद ने पार्टी अध्यक्ष की अवहेलना की थी और रविवार को प्रेस कांफ्रेंस कर दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) से जुड़े भ्रष्टाचार के आरोपों को रेखांकित किया था जिसके जेटली 2013 तक 13 बरसों के लिए अध्यक्ष रहे थे।

भाजपा सांसद आजाद को भारतीय किक्रेट टीम के पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी और पार्टी से नाराज चल रहे भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा का समर्थन मिला था। आजाद ने उस संवाददाता सम्मेलन के बाद सोशल मीडिया पर खुली चुनौती दी थी और संसद में भी जेटली को निशाना बनाया था। इससे पार्टी ने उनके खिलाफ यह कार्रवाई की। हालांकि आजाद के तेवर में कोई नरमी नहीं आई थी लेकिन जेटली ने उनके खिलाफ आगे नहीं बढ़ने का निर्णय किया था। जेटली ने हालांकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आप के पांच अन्य नेताओं के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट और पटियाला हाउस अदालत में दीवानी और आपराधिक मानहानि के मामले दायर किए हैं।

भले ही दिखावे के लिए भाजपा जेटली के पीछे मजबूती से खड़ी हो, पर सूत्र बताते हैं कि अंदर की असलियत कुछ और ही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पार्टी से संसदीय दल की बैठक में यह कहा था कि लालकृष्ण आडवाणी की तरह से जेटली भी इस अग्निपरीक्षा में खरे उतरेंगे। माना जा रहा है कि यह कह कर उन्होंने जेटली को इशारा किया है कि अब उन्हें अग्नि परीक्षा के लिए तैयार होजाना चाहिए। मतलब यह कि जब तक अग्निपरीक्षा का परिणाम न आ जाए वे अपने पद से वैसे ही इस्तीफा दे दें जैसे आडवाणी ने दिया था।

भाजपा में एक बड़े वर्ग का मानना है कि केजरीवाल की मानहानि का मुकदमा लड़ रहे वकील राम जेठमालानी अदालत में जेटली के माध्यम से प्रधानमंत्री को भी निशाना बना सकते हैं। उनकी नाराजगी की एक वजह मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद उन्हें कुछ न मिलना है। जब यह मामला अदालत में जाएगा तो केंद्रीय मंत्री के रूप में जेटली की पेशी होने से सरकार की भद्द उड़ेगी। वैसे भी जेठमालानी अपने तीखे सवालों से विरोधियोें की बखिया उधेड़ देने में सिद्धहस्त माने जाते हैं।

उधर, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कीर्ति आजाद के भाजपा से निलंबन के मद्देनजर भाजपा पर निशाना साधते हुए सवाल किया है कि क्या अगला नंबर शत्रुघ्न सिन्हा का होगा। सिंह ने ट्विटर पर लिखा कि कीर्ति आजाद को भाजपा से निलंबित किया गया। उनका अपराध? डीडीसीए में भ्रष्टाचार के मुद्दे को तथ्यों के साथ उठाया। भाजपा में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाने वालों का क्या यही हश्र होगा? पहले जेठमलानी और अब कीर्ति। अगले शत्रुघ्न सिन्हा?

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता गौरव गोगोई ने भी ट्वीट किया कि भ्रष्टाचार को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करना कहां है? प्रधानमंत्री मोदी आरोपियों को बचा रहे हैं। पहले व्यापम के, उसके बाद ललित मोदी और पीडीएस घोटाला। अब डीडीसीए घोटाला।

आजाद लब पर लगाम: भाजपा ने कहा कि आजाद को एक कारण बताओ नोटिस जारी कर उनसे उनके पार्टी विरोधी व्यवहार की वजह बताने को कहा गया है। पार्टी ने कहा कि उनके खिलाफ आगे की कार्रवाई उनके जवाब पर निर्भर करेगी।

अगला नंबर शत्रु का?: कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कीर्ति आजाद के भाजपा से निलंबन के मद्देनजर भाजपा पर निशाना साधते हुए सवाल किया है कि क्या अगला नंबर शत्रुघ्न सिन्हा का होगा। सिंह ने ट्विटर पर लिखा कि भाजपा में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाने वालों का क्या यही हश्र होगा? पहले जेठमलानी और अब कीर्ति। अगले शत्रुघ्न सिन्हा?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App