ताज़ा खबर
 

आखिरी दौर में बड़ा मुद्दा बना संक्रमण

बंगाल चुनाव के आखिरी दौर में कोविड-19 बड़ा चुनावी हथियार बन गया। चुनावी जनसभाओं में अब इस मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस एक ओर भाजपा पर हमले कर रही है, दूसरी ओर, भाजपा समेत विभिन्न राजनीतिक दल अपनी रणनीतिक तैयारियों के मुताबिक वादे कर रहे हैं।

Chief Ministerचुनावी सभा को संंबोधित करतीं मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी। फाइल फोटो।

बंगाल चुनाव के आखिरी दौर में कोविड-19 बड़ा चुनावी हथियार बन गया। चुनावी जनसभाओं में अब इस मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस एक ओर भाजपा पर हमले कर रही है, दूसरी ओर, भाजपा समेत विभिन्न राजनीतिक दल अपनी रणनीतिक तैयारियों के मुताबिक वादे कर रहे हैं।

बंगाल विधानसभा चुनाव के अब के चरणों के चुनाव में बांग्लादेशी घुसपैठिए, एनआरसी, सीएए, राजबंशी समुदाय, चाय बागान श्रमिकों के लिए न्यूनतम मजदूरी, चुनावी हिंसा तथा सीतलकूची गोलीकांड का मुद्दा जोर शोर से उठता रहा है। लेकिन अब छठे चरण के चुनाव प्रचार के अंतिम दिन यह मुद्दा अभियानों का मुख्य विषय बन गया है।

उत्तर बंगाल दौरे पर पहुंची बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विटर पर लिखा, देशभर में कोविड-19 के संक्रमण में भारी बढ़ोतरी के साथ ही पश्चिम बंगाल सरकार अपने लोगों की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है। मैंने अतिरिक्त दबाव और टीके की उपलब्धता के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से संपर्क साधा है। इसके साथ ही मैंने सभी शीर्ष अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कोविड-19 की स्थिति से निपटने के लिए हर स्तर पर विस्तृत व्यवस्था करें और रोकथाम के लिए हर संभव कोशिश जारी रखें।

इतना ही नहीं तृणमूल कांग्रेस की ओर से राज्य में कोरोना विषाणु संक्रमण को फैलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से काम करने के लिए दूसरे राज्यों से बंगाल पहुंच रहे लोगों को जिम्मेदार बताया जा रहा है। चुनावी सभाओं में होने वाली भीड़ को भी इसका कारण माना जा रहा है। इसको लेकर चुनाव आयोग से तृणमूल कांग्रेस ने शेष चरणों के बचे चुनाव को एक साथ कराने की मांग की थी। इस मांग को चुनाव आयोग ने ठुकरा दिया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी चुनावी जनसभाओं में इस आरोप को नकारा और स्पष्ट कहा कि अगर ऐसा होता तो महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण सबसे ज्यादा नहीं होता।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजू बिष्ट के मुताबिक, जो लोग भाजपा पर कोरोना को लेकर गंभीर नहीं होने का आरोप लगाते हैं उन्हें पता होना चाहिए कि इस मामले में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पदाधिकारियों से कहा कि देश में कोरोना संक्रमण के मामले बेतहाशा बढ़ोतरी को देखते हुए ‘अपना बूथ कोरोना मुक्त’ अभियान चलाएं। पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों और राज्य इकाई के प्रमुखों को आॅनलाइन संबोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि सहायता डेस्क बनाएं।

दूसरी ओर, ममता बनर्जी ने बंगाल के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय और स्वास्थ्य सचिव एसएन निगम के साथ सचिवालय जरूरी बैठक कर निर्देश जारी किए। उन्होंने चुनाव आयोग से बचे दौर के मतदान एकसाथ कराने और केंद्र सरकार से टीके मुहैया कराने की अपील करते हुए पत्राचार किया है। तृणमूल कांग्रेस के नेता अपने चुनाव प्रचार में ममता बनर्जी की इस कार्रवाई को जोर-शोर से उठा रहे हैं। तृणमूल नेता मदन मित्र के मुताबिक, कोरोना योद्धा की तरह ममता बनर्जी काम कर रही हैं। इस कारण संक्रमण के पहले दौर में बंगाल में मामले कम आए। इस बार भी हम सतर्क हैं।

Next Stories
1 कोरोना को हराने वाले जीन की पहचान
2 संक्रमण में रेकॉर्ड उछाल जारी, ऑक्सीजन की कमी से छह मरे
यह पढ़ा क्या?
X