ताज़ा खबर
 

जनसत्ता रविवारी सेहत: सेहत की हो गरज तो रहें बाजार के खाने से दूर

कोरोना महामारी के कारण देश में पूर्णबंदी चल रही है। लोग केवल जरूरी सामान खरीदने के लिए घरों से बाहर आ रहे हैं। वहीं देखने में आ रहा है कि जहां लोग ब्रेड, बिस्कुट, स्नैक्स के एक-दो पैकेट खरीदते थे, वहीं अब वे इसकी खरीदारी ज्यादा कर रहे हैं। डॉक्टर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने की सलाह दे रहे हैं। ऐसे में पैकेट वाले खाने का सेवन करना कितना उचित है। जाने इस बारे में विशेषज्ञ डॉक्टरों की राय-

Author Published on: April 5, 2020 12:31 AM
सेहत पर जनसत्ता रविवारी स्पेशल स्टोरी।

बीमारियों का खतरा
डाइटीशियन निधि साहनी का कहना है कि यह समय इम्युनिटी बढ़ाने का है। लॉकडाउन के समय में चिप्स या बिस्कुट जैसी चीजें खाना स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है। हालांकि कभी-कभीर केवल स्वाद बदलने के लिए इसे थोड़ी मात्रा में लिया जा सकता है। लेकिन इसे रोज या ज्यादा खाना सेहत के लिए हानिकारक भी हो सकता है। कारण कि इनमें कई हानिकारक या अस्वस्थकारी चीजें जैसे कि वसा, उच्च स्तर के प्रोसेस्ड फाइबर, काबोर्हाइड्रेट, सोडियम, काफी मात्रा में चीनी (शुगर) और नमक होता है। इन्हें खाने से मोटापा, मधुमेह और गैस्ट्रिक जैसी बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए ऐसी चीजों को खाने से परहेज करना चाहिए। अगर आप दिनभर मुंह चलाना ही चाहते हैं तो मौसमी फल, सब्जियां, नट्स और सीड्स (बीज) जैसी चीजों को खाएं। जो न सिर्फ आपके शरीर को पोषण देंगे बल्कि आपकी इम्युनिटी को भी बढ़ाएंगे।

ठंडा पानी न पिएं
कोरोना महामारी के बीच सोशल मीडिया पर यह वीडियो खूब देखा जा रहा है जिसमे गरम पानी पीने से कोरोना विषाणु मर जाता है या गले से पेट में पहुंच जाता है, जहां पेट में मौजूद अम्ल उसे खत्म कर देता है। हालांकि इस बारे में प्रामाणिक तरीके से अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता है कि ठंडा या गरम पानी का कोरोना पर कोई फर्क पड़ता है कि नहीं।
किसी भी तरह के वायरल इंफेक्शन यानी विषाणु से संक्रमण में डॉक्टर ज्यादा पानी पीने की सलाह देते हैं। दरअसल, ज्यादा पानी पीने से विषाणु शरीर से मूत्र द्वारा बाहर निकल जाते हैं। इसी वजह से पानी पीना अच्छा है। अभी तक किसी अध्ययन से भले यह सिद्ध न हुआ हो कि ठंडा पानी पीने से कोरोना वायरस बढ़ सकता है, फिर भी इसे सेहत के लिहाज से एक अच्छी आदत के तौर पर अपनाना चाहिए। अभी मौसम बदल रहा है। सो ठंडा पानी या कोल्ड ड्रिंक से गले की खराश या सर्दी-जुकाम हो सकता है। इसलिए अभी ठंडी चीजों को न कहना सीखें।

ठंडा और बासी न खाएं
ठंडा या दो-तीन दिन का बासी खाना कभी भी स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है। अगर आप रात या सुबह के खाने को फ्रिज में रख कर खाते है तो फ्रिज में रखने के कारण भोजन में मौजूद जरूरी पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। साथ ही खाने के स्वाद में भी बदलाव आ जाता है। इतना ही नहीं, बासी खाने में बहुत सारे सूक्ष्म जीव या रोगाणु विकसित हो जाते हैं जो भोजन से जन्म लेने वाली बीमारियों को जन्म देते हैं। जैसे बुखार, अतिसार, उल्टी, दस्त, पेट में दर्द आदि। इसलिए फ्रिज में रखा भोजन खाना ठीक नहीं है। बेहतर है कि रोजाना ताजा और पोषक युक्त आहार ग्रहण किया जाए।

पहले से तैयार खाने से बचें
निधि साहनी कहती हैं कि पहले से तैयार (रेडी टू ईट) बिल्कुल हेल्दी नहीं है, क्योंकि इस तरह का खाना उच्च स्तर पर प्रोसेस्ड कर बनाया जाता है। इस तरह के भोजन में केवल कैलोरी होती है इनमें कोई भी पोषक तत्व नहीं होता है।
इस तरह के खानों में उच्च स्तर के प्रिजर्वेटिव, फ्लेवर, शुगर, नमक, उच्च स्तर के सैचुरेटेड फैट, वो भी बहुत ज्यादा मात्रा में होता है जो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। यही नहीं आगे चलकर इससे मोटापा, कैंसर या दिल की बीमारियां भी हो सकती हैं।

खाएं, वह जिससे बढ़े प्रतिरोधक क्षमता
इम्युनिटी बढ़ाने के लिए रोजाना ऐसे आहार का सेवन करें जिनमे उच्च स्तर के पोषक तत्व मौजूद हो। जैसे विटामिन सी युक्त आहार। नींबू, आबंला, संतरा, मौसमी, आदि में विटामिन सी होता है, जो हमारी इम्युनिटी को बढ़ाने का काम करता है।

विटामिन ए और विटामिन सी युक्त आहार में भी इम्युनिटी बढ़ाने की क्षमता होती है। जैसे पपीता, नट्स आदि। अदरक और लहसुन में एंटी इन्फ्रामलट्री गुण मौजूद होता है जिसे गले की खराश में आराम मिलता है। अदरक को दो-तीन मिनट तक पानी में उबाल कर पीने से गले की खराश में आराम मिलता है। सुबह में पानी के साथ अदरक चबाने से भी गले की खराश से बचा जा सकता है। साथ ही इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा होता है। बीज और नट्स में अच्छा फैट पाया जाता है जिसकी वजह से इम्युनिटी मजबूत होती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जनसत्ता रविवारी: दाना-पानी – स्वाद भी परंपरा भी
2 जनसत्ता रविवारी शख्सियत: आगा हश्र कश्मीरी
3 रविवारी दाना-पानी: परंपरा और प्रयोग