ताज़ा खबर
 

ज‍िनप‍िंग-मोदी मुलाकात से पहले भारत का ऐलान- पीछे छूटा डोकलाम व‍िवाद

साल 2017 में, भारत और चीन के सैनिक डोकलाम की जमीन पर आमने-सामने आ गए थे। ये विवाद उस वक्त शुरू हुआ था जब चीन के सैनिकों ने दोनों देशों के बीच हुए आपसी समझौते को दरकिनार कर दिया था। चीन के सैनिक डोकलाम के इलाके में सड़क बनाने की कोशिश कर रहे थे।

भारत के चीन में राजदूत गौतम बंबावाले। फोटो- एएनआई

भारत के चीन में राजदूत गौतम बंबावाले ने शुक्रवार (8 जून) को बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि दोनों देश पिछले साल हुए डोकलाम विवाद को पीछे छोड़कर बेहतर द्विपक्षीय संबंधों के लिए आगे बढ़ चुके हैं। राजदूत बंबावाले ने ये बात चीन के किंगदो में कही। वह आगामी 9-10 जून को होने जा रही 18वीं शंघाई सहकारी संगठन समिट के कार्यक्रम से पहले बोल रहे ​थे।

राजदूत बंबावाले ने कहा,”इस बात में कोई संदेह नहीं है कि भारत-चीन के रिश्ते अनौपचारिक वुहान समिट के बाद बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। हमने डोकलाम की घटना को पीछे छोड़ दिया है और बेहतर गठबंधन के लिए आगे बढ़ रहे हैं।” राजदूत बंबावाले ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग आगामी शनिवार (9 जून) को द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। वार्ता में एससीओ समिट में उठाई गई बातों पर दोनों देशों में बातचीत होनी है।

बता दें कि साल 2017 में, भारत और चीन के सैनिक डोकलाम की जमीन पर आमने—सामने आ गए थे। ये विवाद उस वक्त शुरू हुआ था जब चीन के सैनिकों ने दोनों देशों के बीच हुए आपसी समझौते को दरकिनार कर दिया था। चीन के सैनिक डोकलाम के इलाके में सड़क बनाने की कोशिश कर रहे थे। ये विवाद बीते 28 अगस्त को उस वक्त समाप्त हुआ था। जब भारत और चीन ने अपने सैनिकों की डोकलाम से तैनाती हटाने का फैसला किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हमारी याद आएगी : निर्माता बन कर खूब पछताए थे राजेंद्र नाथ
2 किताब : मौजूदा दौर की धड़कनें
3 संजय दत्त को बायोपिक के अंतिम भाग में स्वयं अभिनय करना चाहिए था : सलमान खान
ये पढ़ा क्या?
X