ताज़ा खबर
 

धार्मिक और पौराणिक फिल्मों में सुरक्षा पाता बॉलीवुड

योसिनेमा कला के साथ कारोबार भी है और कारोबार से जो असुरक्षा जुड़ी है, वह सिनेमा व्यवसाय में भी है।

सैफ अली खान।

योसिनेमा कला के साथ कारोबार भी है और कारोबार से जो असुरक्षा जुड़ी है, वह सिनेमा व्यवसाय में भी है। इसलिए निर्माता दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखकर फिल्में बनाते हैं। अयोध्या मामले पर फैसला आने और राम मंदिर निर्माण की घोषणा होने के बाद देश में तैयार हुए माहौल के मद्देनजर निर्माताओं को धार्मिक और पौराणिक विषयों पर बनी फिल्में फायदेमंद नजर आ रही हैं। लिहाजा इन दिनों ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ पर आधारित फिल्मों का निर्माण और घोषणाएं खूब हो रही हैं।

बॉलीवुड में इन दिनों सैकड़ों करोड़ रुपए ऐसी फिल्मों में निवेश किए जा रहे हैं, जो ‘महाभारत’ या रामायण की पृष्ठभूमि पर बन रही हैं। ये सभी फिल्में निर्माण के विभिन्न चरणों में हैं और इनमें से हर दूसरी फिल्म का बजट ही 300 से 500 करोड़ रुपए के आसपास है। यह दौर अभी चलेगा क्योंकि कुछ फिल्में अगले साल शुरू होंगी।

दर्शकों को ‘राम सेतु’, ‘आदिपुरुष’, ‘द इम्मोर्टल अश्वस्थामा’, ‘सूर्यपुत्र महावीर कर्ण’, ‘ब्रह्मास्त्र’, ‘सीता’, 3डी ‘रामायण’ जैसी फिल्में देखने को मिलेंगी। ओम राउत की ‘आदिपुरुष’ में प्रभास राम, कीर्ति सेनॉन सीता और सैफ अली खान लंकेश के रूप में होंगे। मधु मंतेना, अलु अरविंद और नमित मल्होत्रा की ‘रामायण’ पर बनने वाली तीन फिल्मों की शृंखला में में दीपिका पाडुकोन सीता की भूमिका में दिखाई दे सकती हैं। माना जा रहा है कि यह प्रोजेक्ट 500 करोड़ से ऊपर का होगा। इसके लिए ऋत्विक रोशन और महेश बाबू से बातचीत चल रही है। ‘रामायण’ के बाद तीनों निर्माता महाभारत को द्रौपदी के दृिष्टकोण से दिखाएंगे और माना जा रहा है कि दीपिका पाडुकोन इसमें द्रौपदी की भूमिका निभाएंगी। ‘सीता : द इनकार्नेशन’ में सीता की भूमिका के लिए अभिनेत्री की तलाश जारी है। बीच में करीना कपूर को सीता की भूमिका में लेने की खबरें थी, जिनका निर्माता खंडन कर चुका है।

उरी : द सर्जिकल स्ट्राइक बनाने वाले आदित्य धर की अश्वस्थामा पर बनने वाली फिल्म में विकी कौशल शीर्षक भूमिका निभाएंगे। अक्षय कुमार की ‘राम सेतु’ का मुहूर्त अयोध्या में किया जा चुका है। दूसरी ओर कंगना रनौत ‘अपराजित अयोध्या’ नामक फिल्म की घोषणा कर चुकी हैं। देश में जहां एक ओर अयोध्या मामले का फैसला आने के बाद भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर स्थितियां बन चुकी हैं। वहीं दूसरी ओर हिंदी सिनेमा भी धार्मिक और पौराणिक ग्रंथों और किरदारों पर फिल्में बनाने के लिए तैयार है। लेकिन इन फिल्मों को अयोध्या पर फैसले या राम मंदिर निर्माण की घोषणा से जोड़कर देखना उचित नहीं होगा। फिल्मकार हमेशा ही ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ से प्रभावित रहे हैं।

सिनेमा के शुरूआती दौर में तो ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ या इनके किरदारों पर खूब फिल्में बनीं। टीवी पर भी ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ पर बने धारावाहिकों को खूब लोकप्रियता मिली। बॉलीवुड के फिल्मकार हर दौर में ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ से प्रभावित रहे हैं। कभी मणिरत्नम ने ‘महाभारत’ से प्रभावित अपने ड्रीम प्रोजेक्ट में शाहरुख खान, आमिर खान, सलमान खान, अमिताभ बच्चन और ऐश्वर्या राय को लेने की योजना बनाई थी। मणि का यह ड्रीम प्रोजेक्ट तो बन नहीं पाया मगर उन्होंने विक्रम, अभिषेक बच्चन, ऐश्वर्या राय और गोविंदा को लेकर ‘रावण’ नामक फिल्म जरूर बनाई। ‘महाभारत’ पर आमिर खान भी एक फिल्म या वेब सीरीज बनाना चाहते थे।

द्रौपदी के दृष्टिकोण से दिवंगत फिल्मकार ऋतुपर्णो घोष ‘महाभारत’ पर बिपाशा बसु को लेकर एक अंतरराष्ट्रीय फिल्म बनाना चाहते थे। कई और निर्माताओं ने भी ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ से प्रभावित होकर अपने ड्रीम प्रोजेक्ट की घोषणा की थी। मगर ये ड्रीम प्रोजेक्ट कभी बन नहीं सके और मामला सिर्फ घोषणाओं तक ही सीमित होकर रह गया। राज कुमार संतोषी ने भी अजय देवगन और काजोल को लेकर ‘रामायण’ बनाने की घोषणा की थी।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X