ताज़ा खबर
 

संपादकीय : राहत की खेप

आखिरकार कोरोना संक्रमण से जंग में टीकाकरण के पहले चरण के लिए टीके की पहली खेप प्रमुख वितरण केंद्रों तक पहुंच गई। दो दिन बाद टीकाकरण शुरू होना है।

Author Updated: January 14, 2021 6:53 AM
coronaसां‍केतिक फोटो।

पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों और अगली धार में काम करने वाले लोगों को टीका लगाया जाएगा। इसे लगाने को लेकर पहले से सारी तैयारियां की जा चुकी हैं। टीकाकरण केंद्र भी तैयार हैं। केंद्र सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि वह तीस करोड़ टीके खरीदेगी और उनका मुफ्त वितरण करेगी। दिल्ली सरकार ने भी कहा है कि वह अपने नागरिकों को मुफ्त टीके लगवाएगी। अच्छी बात है कि इस दौरान कोरोना संक्रमण की रफ्तार काफी धीमी पड़ गई है।

इस तरह टीकाकरण संबंधी आगे की चुनौतियों से पार पाना कठिन नहीं होगा। यह भारत जैसी विशाल आबादी वाले देश में अब तक का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान होगा। पहले तो टीके की उपलब्धता, सभी जगह उसकी पहुंच और उसके उचित रखरखाव आदि को लेकर आशंकाएं जताई जा रही थीं, पर इन सारे पहलुओं की पहले से रूपरेखा तैयार कर ली गई है। पहले चरण के टीकाकरण से इस दिशा में आने वाली अन्य कठिनाइयों से पार पाने का रास्ता भी निकल आएगा।

यह दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान होगा, इसलिए इसे चुनौतियों से परे नहीं माना जा सकता। पर भारत के लिए टीकाकरण का यह नया अनुभव नहीं है। यहां के चिकित्साकर्मियों के लिए खसरा, डिप्थीरिया, पोलियो आदि के देशव्यापी टीकाकरण का लंबा अनुभव है। बेशक यह टीकाकरण उन सारे टीकों से कुछ अलग तरह का है और इसमें विशेष एहतियात की जरूरत है, मगर इसे लेकर देशव्यापी तैयारियां आश्वस्त करती हैं कि मुश्किलें बहुत नहीं आएंगी।

कुछ लोग अवश्य इस टीके के प्रभाव को लेकर सशंकित हैं और कुछ राजनीतिक दल इसे सियासी रंग देने का प्रयास करते देखे जा रहे हैं। सवाल उठाए जा रहे हैं कि दो चरणों में ही इसका परीक्षण पूरा होने के बाद इसे आम लोगों को नहीं लगाया जाना चाहिए। कायदे से टीकों का तीन तरण में परीक्षण किया जाता है और उनके प्रभावों का अध्ययन करने के बाद ही आगे की प्रक्रिया शुरू की जाती है।

इसका विरोध करने वाले कुछ उदाहरण भी पेश कर रहे हैं, जिनमें इन टीकों का दुष्प्रभाव देखा गया। मगर इस तरह के जटिल और संवेदनशील टीकों के परीक्षण में हमेशा सौ फीसद एक समान नतीजे कभी नहीं आते, इसलिए फिलहाल इसे लेकर आशंका व्यक्त करना उचित नहीं।

ये टीके मनुष्य के शरीर में कोरोना विषाणु से लड़ने संबंधी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए लगाए जाने हैं। और हर व्यक्ति के शरीर की क्षमता और प्रकृति अलग-अलग होती है, उसमें पहले से चले आ रहे कुछ रोग भी बाधा उपस्थित कर सकते हैं। इसलिए बिना नतीजे सामने आए, अभी से इन टीकों को लेकर परेशान होने की तुक नहीं बनती।

इसे भारत की बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है कि इतने कम समय में उसके वैज्ञानिकों ने टीका तैयार कर लिया और अब टीकाकरण की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। दुनिया के कुछ ही देश हैं, जो खुद कोरोना के टीके तैयार कर व्यापक टीकाकरण अभियान चलाने लगे हैं, भारत उनमें से एक है।

फिलहाल दो टीके अंतिम रूप से तैयार हो पाए हैं, अभी चार टीके और आने वाले हैं। इस तरह भारत सस्ती दर पर और वातावरण के हिसाब से अधिक उपयुक्त टीका बनाने वाला शायद पहला देश है। इस मामले में अगर राज्यों का भी अपेक्षित और उत्साहजनक सहयोग मिलेगा तो निस्संदेह जल्दी इसके बेहतर नतीजे देखने को मिलेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संपादकीय: चौकसी की सीमा
2 संपादकीय: संकट का हल!
3 संपादकीय: नस्लीय दुराग्रह
आज का राशिफल
X