ताज़ा खबर
 

संपादकीय

संपादकीय: जीएसटी का दायरा

सभी वाहनों के लिए पीयूसी यानी प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र को अनिवार्य माना जाता है। समय-समय पर इसके नवीकरण के जरिए इससे यह सुनिश्चित किया...

संपादकीय: पाकिस्तान को चेतावनी

तीन दिन पहले जम्मू-कश्मीर के सुंदरबनी सेक्टर में अतंकवादियों के एक समूह ने घुसपैठ की कोशिश की थी। उनके साथ मुठभेड़ में दो...

संपादकीय: पटाखों का दायरा

पिछले साल शीर्ष अदालत ने दिवाली से पहले पटाखों की बिक्री पर अस्थायी प्रतिबंध लगाया था, लेकिन व्यवहार में उसका कोई खास फर्क नहीं...

संपादकीय: हथियारों की होड़

परमाणु हथियारों की दुनिया में दबदबा बनाए रखने की अमेरिका की मंशा जगजाहिर है। हथियारों के बल पर ही अमेरिका दुनिया में दादागीरी कर...

संपादकीय: दिल्ली की हवा

पिछले कुछ सालों के दौरान कई बार हालत यह हो गई थी कि प्रदूषित हवा को ऊपर उठने और निकल जाने के रास्ते ही...

संपादकीय: साख पर सवाल

सीबीआइ में जो कुछ चल रहा है और सरकार अब तक जिस तरह से आंख मूंदे बैठी है, उसे अच्छा संकेत नहीं कहा जा...

संपादकीयः आतंक का साया

कश्मीर में एक बार फिर दहशतगर्दों ने सुरक्षाबलों पर हमला करने की कोशिश की। जिसमें मुठभेड़ के दौरान बम फटा और छह बेकसूर नागरिक...

संपादकीयः आपराधिक लापरवाही

रावण दहन के दौरान अमृतसर में शुक्रवार को ट्रेन से कट कर इकसठ लोगों के मारे जाने की घटना ने देश को दहला दिया...

संपादकीय: हत्या और सवाल

यमन में सऊदी सरकार के सैन्य अभियान, मिस्र में तख्ता पलट के खिलाफ जम कर लिखा था। इन दिनों खाशोगी वाशिंगटन में रहते हुए...

संपादकीय: खतरे के हथियार

अब जब किसी तरह मामला खुला और तूल पकड़ने लगा, तब जाकर सरकार की नींद खुली और सीबीआइ ने मामले की पड़ताल शुरू की।...

संपादकीय: संकीर्ण नजर

हमले के पीछे दलील दी जा रही है कि लुंगी पहनने वाले लोग कथित रूप से अश्लील तरीके से बैठे हुए थे।

संपादकीय: अनशन और अनदेखी

गंगा की सफाई भाजपा का चुनावी एजेंडा रहा है। सरकार बनने के बाद इसके लिए एक अलग से मंत्रालय गठित किया गया। इस मद...

संपादकीयः प्रदूषण की रिहाइश

दिल्ली सरकार लगातार जाहिर करती रही है कि वह प्रदूषण रोकने को लेकर काफी गंभीर है। मगर वह सचमुच गंभीर होती, तो इस तरह...

संपादकीयः संकट और लाचारी

पिछले कुछ महीनों में पेट्रोल और डीजल के दाम जिस तेजी से बढ़ रहे हैं, उसका नतीजा महंगाई बढ़ने के रूप में सामने आया...

संपादकीयः कर्ज का संकट

पाकिस्तान को कर्ज हासिल करने के लिए नाको चने चबाने पड़ रहे हैं। इसके लिए उसे आइएमएफ की हर शर्त के आगे झुकना...

संपादकीयः रसूख का नशा

राजधानी दिल्ली में रविवार रात एक पांच सितारा होटल में एक युवक ने जिस तरह सरेआम पिस्तौल लहरा कर वहां मौजूद लोगों के बीच...

संपादकीयः जड़ता की जाति

मध्यप्रदेश के जबलपुर में एक डॉक्टर के साथ जो हुआ, वह किसी भी विकासमान कहे जाने वाले समाज के सभ्य होने पर सवालिया निशान...

संपादकीयः संकट और समाधान

अंतरराष्ट्रीय तेल बाजार सिर्फ तेल उत्पादक देशों की दादागीरी से चल रहा है। कितने तेल का उत्पादन करना है और दाम तय करने की...