संपादकीय

सच की खातिर

नेताजी सुभाष चंद्र बोस से संबंधित फिलहाल गोपनीय फाइलों को सार्वजनिक करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा स्वागत-योग्य है।

हरित कर

अब सर्वोच्च न्यायालय ने अन्य राज्यों से दिल्ली में प्रवेश करने वाले भारी व्यावसायिक वाहनों पर सात सौ रुपए से लेकर तेरह सौ रुपए...

अर्थव्यवस्था की सूरत

आइआइपी यानी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में थोड़ा-बहुत उतार-चढ़ाव सामान्य बात है।

गंगा की गंदगी

अदालतें कई बार गंगा को प्रदूषण से बचाने में बरती जा रही कोताही पर केंद्र और संबंधित राज्य सरकारों को फटकार लगा चुकी हैं।...

संदेश और सवाल

दिल्ली सरकार के एक मंत्री को पद से हटाए जाने की खबर ने दो वजहों से देश का ध्यान खींचा। एक तो इसलिए कि...

स्त्री का आकाश

परंपरागत मानसिकता यह है कि बहुत सारे काम महिलाएं नहीं कर सकतीं।

सदन में हिंसा

जम्मू-कश्मीर विधानसभा में गुरुवार को जो हुआ, राज्य के अनेक राजनीतिक दलों ने स्वाभाविक ही उसे निंदनीय ठहराया है।

प्रदूषण पर चिंता

दिल्ली में प्रदूषण पर नकेल कसना कठिन होता गया है। ऐसे में राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण की चिंता स्वाभाविक है। सबसे अधिक परेशानी वाहनों से...

मूल्यों की याद

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के ताजा बयान का स्वागत किया जाना चाहिए। बुधवार को राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में उन्होंने कहा कि देश...

सहयोग का सफर

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल का तीन दिन के लिए भारत आना ऐसे वक्त हुआ जब वैश्विक अर्थव्यवस्था सुस्ती का शिकार है। इसलिए स्वाभाविक...

खेल में तमाशा

क्रिकेट में कई बार दर्शक इस कदर जज्बाती हो जाते हैं कि उससे न सिर्फ खिलाड़ियों की मुश्किल बढ़ जाती है, बल्कि पूरे देश...

दावे और दाग

बिहार विधानसभा चुनाव में दागियों को प्रत्याशी बनाने में बिहार की लगभग सभी पार्टियों ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। इनमें भाजपा सबसे आगे...

नेपाल की नाराजगी

लेकिन पिछले दिनों भारत और नेपाल के बीच जैसी खटास देखने को मिली वह दुर्भाग्यपूर्ण ही कही जाएगी। भारत और नेपाल की दोस्ती पुरानी...

अशक्त की सुध

समाज का अशक्तों के प्रति भेदभाव का रवैया छिपा नहीं है। सरकारी स्तर पर भी इनके लिए बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के मामले में...

फैसले का संदेश

आखिरकार मुंबई की विशेष टाडा अदालत ने जुलाई 2006 में मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए धमाकों के दोषियों को सजा सुना दी।

संस्कृत की जरूरत

दूसरे संस्कृत आयोग की सिफारिशें राजग सरकार की मंशाओं के अनुरूप ही हैं। हालांकि इनमें ज्यादातर सिफारिशें वही हैं, जो 1956 में पहले संस्कृत...

सौहार्द के बजाय

उत्तर प्रदेश के दादरी इलाके में महज एक अफवाह के चलते भीड़ के बर्बर व्यवहार की जैसी घटना सामने आई है, वह एक धर्मनिरपेक्ष...

निष्ठुर सिपाही

आम लोगों से किस तरह पेश आना चाहिए, इसका समुचित प्रशिक्षण शायद हमारे पुलिस बल को नहीं है।